Tuesday, Oct 20 2020 | Time 17:07 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सिन्हा ने की इंस्पेक्टर अशरफ की हत्या की कड़ी निंदा
  • भद्दी टिप्पणी के लिये कमलनाथ माफी मांगें: सोनाली फोगाट
  • जदयू ने बागी ममता देवी समेत दो और को दिखाया बाहर का रास्ता
  • देश में कोरोना को मात देने वाले मरीजाें की संख्या 67 लाख से अधिक
  • हेमंत से झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन के प्रतिनिधिमंडल ने मुलाकात की
  • मेक्सिकन ओपन 2021 में भाग लेंगे ज्वेरेव
  • मेक्सिकन ओपन 2021 में भाग लेंगे ज्वेरेव
  • नैनीताल रोप-वे मामले में सरकार और सभी पक्षकार उचित समाधान निकालें: हाईकोर्ट
  • आंध्र में अगले 48 घंटों में भारी बारिश के आसार
  • हिमाचल में प्रशासनिक फेरबदल, सात जिलों के उपायुक्तों समेत 21 आईएएस बदले
  • नीतीश सरकार ने बिहार में राेजगार देने की कोई पहल ही नहीं की : तेजस्वी
  • उमर, महबूबा ने की इंस्पेक्टर की हत्या की निंदा
  • वामपंथी नेता मारुति मनपाडे का कोरोना से निधन
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


विश्व में सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषा हिन्दी है- साहू

भोपाल, 14 सितम्बर (वार्ता) एम.पी. पावर मैनेजमेंट कम्पनी के अतिरिक्त महाप्रबंधक व्ही.के. साहू ने कहा कि विश्व में सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा हिन्दी है।
मध्यप्रदेश विद्युत परिवार हिन्दी समिति के तत्वावधान में आज जबलपुर में हिन्दी महोत्सव-2020 का आयोजन किया गया। श्री साहू ने कहा कि हमारी हिन्दी भाषा विश्व में सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषा है। किसी भी व्यक्ति को हिन्दी बोलने में हीन भावना महसूस नहीं होना चाहिये। हिन्दी भाषा बहुत सक्षम और व्यापक है। उन्होंने कहा कि हमें सभी भारतीय भाषाओं के साथ विदेशी भाषाओं को सीखने के लिये भी तत्पर रहना चाहिये। विदेश में सभी भारतीय स्वदेशी भाषाओं के साथ अन्य भारतीय बोलियों को सुनना और बोलना पसंद करते हैं।
कार्यक्रम में मुख्य अभियंता, सिविल विवेक रंजन श्रीवास्तव ने कहा कि भाषा ह्रदय तक जाती है और उसके शब्द मन में अखण्ड रूप से गूंजते हैं। यह विश्व में सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषा है।
इस मौके पर हिन्दी परिषद् के उपाध्यक्ष वरिष्ठ जनसम्पर्क अधिकारी राकेश पाठक ने हिन्दी महोत्सव-2020 के आयोजन के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस महामारी के चलते इस वर्ष लोकप्रिय प्रतिस्पर्धा प्रश्न-मंच और साहित्यिक प्रश्न-मंच का सामूहिक आयोजन नहीं किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस वर्ष बिजली अधिकारियों और कर्मचारियों के लिये निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया जायेगा। प्रतियोगिता में निर्धारित विषयों पर निबंध लिखकर 30 सितम्बर तक हिन्दी परिषद् के महासचिव राजेश पाठक के पास प्रेषित किया जा सकता है।
एम.पी. पावर मैनेजमेंट कम्पनी के उप महाप्रबंधक आलोक श्रीवास्तव ने कहा कि हिन्दी केवल हमारी राष्ट्र भाषा मात्र ही नहीं है, बल्कि पूरे देश की सम्पर्क भाषा भी है।
कार्यक्रम में एम.पी. पावर ट्रांसमिशन कम्पनी के कल्याण अधिकारी महेश तख्तानी, मिलिंद चौधरी, जयवंत खारपाटे तथा एन.बी. छत्री भी मौजूद थे।
सं नाग
वार्ता
More News
मैं क्यों माफी मांगूंगा - कमलनाथ

मैं क्यों माफी मांगूंगा - कमलनाथ

20 Oct 2020 | 4:00 PM

भोपाल, 20 अक्टूबर (वार्ता) मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने 'आइटम' शब्द को लेकर मचे बवाल के बीच आज साफ शब्दों में कहा कि वे इस मामले को लेकर माफी क्यों मांगेंगे।

see more..
image