Tuesday, Jun 18 2024 | Time 20:40 Hrs(IST)
image
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


मानव अधिकारों की रक्षा करना प्रत्येक पुलिस अधिकारी और कर्मचारी का कर्तव्य: डीजीपी

भोपाल, 21 मार्च (वार्ता) मध्यप्रदेश के पुलिस महानिदेशक सुधीर कुमार सक्सेना ने कहा कि मानव अधिकारों की रक्षा करना सभी पुलिस अधिकारी व कर्मचारी का कर्तव्य है।
श्री सक्सेना ने मध्यप्रदेश के विभिन्न जिलों एवं रेलवे की मानव दुर्व्यापार निरोधी इकाई के नोडल अधिकारियों के लिए पुलिस मुख्यालय की महिला सुरक्षा शाखा द्वारा आयोजित ‘चेतना’ (कैपेसिटी बिल्डिंग वर्कशॉप II ऑन एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग) कार्यशाला के समापन सत्र में यह बात कही। उन्होंने कहा कि मानव अधिकारों की रक्षा करना प्रत्येक पुलिस अधिकारी और कर्मचारी का कर्तव्य है।
उन्होंने कहा कि ह‌्यूमन ट्रैफिकिंग अत्यंत संवेदनशील और रिलेवेंट टॉपिक है। इससे पीड़ित व्यक्ति का हर पल शोषण होता है, उन्हें सदैव समझौता करना पड़ता है। इस अनैतिक व्यापार पर नियंत्रण के लिए हमें निरंतर प्रयास करने होंगे। कार्यशाला के दूसरे दिन राष्ट्रीय वक्ताओं और पुलिस अधिकारियों द्वारा शारीरिक शोषण और देह व्यापार को रोकने के दौरान आने वाली चुनौतियों और अनैतिक दुर्व्यापार (निवारण) अधिनियम के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई। उन्होंने कार्यशाला को अत्यंत उपयोगी और जानकारी परक बताया। उन्होंने कहा कि भारत में अन्य देशों से भी ह‌्यूमन ट्रैफिकिंग की जाती है और अन्य देशों में भी यहां से मानव तस्करी होती है। पुलिस किसी भी अपराध के घटित होने के पश्चात फर्स्ट रिस्पॉन्डर होता है। ह्यूमन ट्रैफिकिंग पर रोक लगाने के लिए हमें कैपिसिटी बिल्डिंग की ओर विशेष ध्यान देना होगा। हमें इस अनैतिक दुर्व्यापार के बारे में पूरी जानकारी, कानूनी पेचीदगियों और प्रोटोकॉल का ध्यान रखना होगा। कैपेसिटी बिल्डिंग एक निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है। इस समस्या को दूर करने के लिए हमें भी संवेदनशील होने की आवश्यकता है। यदि हमें पीड़ित की मदद करनी है तो बेटर इन्वेस्टिगेशन और बेटर प्रॉसिक्यूशन पर ध्यान देना होगा।
श्री सक्सेना ने कहा कि दो दिवसीय कार्यशाला में सभी टॉपिक कवर किए गए हैं। मुझे पूर्ण विश्वास है कि अपने जिलों में जाकर इस कार्यशाला में प्राप्त ज्ञान का उपयोग करेंगे कार्य और अगले छह महीने में पीड़ितों का रेस्क्यू करेंगे तभी यह कार्यशाला सफल मानी जाएगी।
इस दौरान एसआईएएफ के सहायक पुलिस महानिरीक्षक डॉ.वीरेंद्र मिश्रा ने भी मार्गदर्शन किया। सागर जिले के बीना की एडिशनल एसपी श्रीमती ज्योति ठाकुर ने नाबालिगों के यौन शोषण विषय पर केस स्टडी प्रस्तुत की।
नाग
वार्ता
image