Monday, Mar 4 2024 | Time 07:26 Hrs(IST)
image
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


भाजपा ने जादुई आकड़ा 116 को किया पार, 48 पर आगे

भोपाल, 03 दिसंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में “अदृश्य मोदी लहर” और “लाड़ली बहना” जैसी योजनाओं के सहारे सत्तारुढ़ दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने एक बार फिर से सरकार बनाने के लिए आवश्यक “जादुई आकड़” 116 हासिल कर लिया। भाजपा देर शाम तक मतगणना के दौरान लगभग 48 सीटों पर आगे चल रही थी।
आधिकारिक आकड़ों के अनुसार सभी 230 सीटों पर मतगणना में भाजपा 164 सीटों विजयी होती दिख रही है। भाजपा को 116 सीट पर आधिकारिक तौर पर विजयी घोषित कर दिया गया और 48 सीटों पर वह आगे चल रही है। इसके अलावा मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस का 65 सीटों पर सिमटना तय हो गया है। वह 35 सीटों पर पंजा लहरा चुकी है और 30 सीटों पर आगे है। एकमात्र सीट रतलाम जिले की सैलाना सीट पर भारत आदिवासी पार्टी के प्रत्याशी ने विजय हासिल की है।
राज्य में इस बार सीटों और मतों का बंटवारा मुख्य रूप से भाजपा और कांग्रेस के बीच ही हुआ है। भाजपा को 48़ 6 प्रतिशत मत मिले हैं, जो पिछले चुनाव की तुलना में लगभग सात प्रतिशत अधिक है। इसी तरह कांग्रेस का मत प्रतिशत 40़ 45 प्रतिशत रहा। बसपा को कोई सीट अब तक नहीं मिली है, लेकिन उसने तीन प्रतिशत से अधिक मत हासिल किए हैं। शेष दलों और निर्दलीय प्रत्याशियों ने लगभग आठ प्रतिशत मत हासिल किए।
मध्यप्रदेश में भाजपा दिसंबर 2003 से सत्ता में है। हालाकि दिसंबर 2018 में वह सत्ता से दूर हो गयी थी, जब कांग्रेस की सरकार बनी। कांग्रेस सरकार मात्र 15 माह में ही उस समय गिर गयी जब तत्कालीन कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस का दामन छोड़कर भाजपा का “कमल” थाम लिया। मार्च 2020 के इस अभूतपूर्व राजनैतिक घटनाक्रम के बीच कोरोनाकाल में ही श्री शिवराज सिंह चौहान राज्य में एक बार फिर मुख्यमंत्री बने और भाजपा सरकार सत्ता में फिर से काबिज हो गयी।
प्रशांत
वार्ता
image