Thursday, Apr 18 2024 | Time 16:40 Hrs(IST)
image
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


आबादी वाले क्षेत्र में पटाखा फैक्ट्री, प्रशासनिक लापरवाही का नमूना

हरदा, 06 फरवरी (वार्ता) मध्यप्रदेश के हरदा जिला मुख्यालय पर आबादी वाले क्षेत्र में पटाखा फैक्ट्री में आज सिलसिलेवार विस्फोट की घटना के साथ ही प्रशासनिक लापरवाही भी उजागर हुयी है।
पटाखा फैक्ट्री और उसके गोदाम नगर के बाहरी क्षेत्र में आवासीय स्थान पर बनी हुयी है और इसका मालिक राजीव अग्रवाल नाम का व्यक्ति बताया गया है। बताया गया है कि कुछ वर्ष पहले भी इस फैक्ट्री में विस्फोट की घटना हुयी थी और तब मालिक के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज किया गया था। इस मामले में उसे सजा होने की जानकारी भी सामने आयी है।
पटाखा फैक्ट्री को लायसेंस और इसके संचालन के संबंध में वैध दस्तावेजों के बारे में पूछे जाने पर प्रशासनिक अधिकारियों ने कहा कि उनकी पहली प्राथमिकता फैक्ट्री परिसर में आग पर काबू पाने के साथ ही हादसे के प्रभावितों को सुरक्षित निकालना और घायलों को इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाना है। इस मामले की जांच बाद में की जाएगी।
नागरिकों का कहना है कि फैक्ट्री यहां के बैरागढ़ क्षेत्र में संचालित थी और इसमें कई श्रमिक कार्य करते हैं। पटाखा निर्माण में इस्तेमाल होने वाली विस्फोटक सामग्री भी फैक्ट्री क्षेत्र के आसपास बनाए गए गोदाम में रखी हुयी थी। अब सवाल यह है कि जिला मुख्यालय पर आबादी वाले क्षेत्र में इस तरह फैक्ट्री का संचालन हो और प्रशासन को खबर न हो, यह कैसे हो सकता है। एक और सवाल यह भी है कि क्या फैक्ट्री वैध अनुमति के तहत संचालित थी। और यदि अनुमति थी, तो क्या रहवासी क्षेत्र में इस तरह की फैक्ट्री के संचालन की अनुमति दी जा सकती है।
बताया गया है कि फैक्ट्री से कुछ ही दूरी पर एक पेट्रोल पंप भी स्थित है और राहत और बचाव कार्य के दौरान इस बात का ध्यान रखा गया कि विस्फोटकों की चिंगारी कहीं पंप तक नहीं पहुंच जाए। इसके अलावा आशंका है कि विस्फोट के कारण मलबे में तब्दील हुए मकान और फैक्ट्री में दर्जनों लोग कार्य कर रहे होंगे या फिर वहां मौजूद रहे होंगे।
इस फैक्ट्री में दिन में लगभग साढ़े ग्यारह बजे विस्फोट और आग लगने की घटना के कारण आसपास के कई किलोमीटर क्षेत्र में कंपन भी महसूस हुए। दुर्घटनास्थल के आसपास विस्फोट और आग के कारण सड़क पर भगदड़ की स्थिति बन गयी।
प्रशासन ने दोपहर दो बजे तक छह लोगों के मरने और 60 से अधिक लोगों के घायल होने की बात कही है।
सं प्रशांत
वार्ता
image