Tuesday, Apr 23 2024 | Time 10:04 Hrs(IST)
image
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


कर्त्तव्य काल में कर्त्तव्य पथ पर बढ़ते हुए विकसित मध्यप्रदेश की ओर बढ़ें : राज्यपाल

भोपाल, 07 फरवरी (वार्ता) मध्यप्रदेश के राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने आज विधानसभा में राज्य सरकार की उपलब्धियों का लेखा जोखा प्रस्तुत करते हुए कहा कि हम सभी 'कर्त्तव्य काल' में 'कर्त्तव्य पथ' पर बढ़ते हुए विकसित भारत के निर्माण के लिए विकसित मध्यप्रदेश को गढ़ने की दिशा में काम करें।
राज्यपाल श्री पटेल के अभिभाषण के साथ आज राज्य विधानसभा के बजट सत्र की शुरुआत हुई। लगभग आधे घंटे के अभिभाषण में श्री पटेल ने राज्य सरकार की प्रमुख उपलब्धियां बताते हुए भविष्य की योजनाओं का खाका खींचा।
उन्होंने कहा कि अयोध्या में श्री राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह ने पूरी दुनिया को श्रद्धा से सरोबार कर दिया। इसी क्रम में मध्यप्रदेश सरकार ने राज्य के चित्रकूट और ओरछा में राम वन गमन पथ निर्माण के लिए प्रतिबद्ध होकर काम करना शुरु कर दिया है। राज्य में श्री राम और श्री कृष्ण के चरण जहां जहां पड़े हैं, वे स्थान राज्य सरकार तीर्थ के तौर पर विकसित करेगी।
श्री पटेल ने कहा कि प्रदेश सरकार ने शूरवीरों के जीवन और बलिदान के प्रति आदरांजलि की भावना के चलते वीर भारत संग्रहालय की स्थापना का निर्णय लिया है।
उन्होंने कहा कि पार्वती-कालीसिंध-चंबल लिंक परियोजना की स्वीकृति प्रदेश के विकास में मील का पत्थर साबित होगी। लगभग 35 हजार करोड़ रुपए की ये परियोजना प्रदेश के 10 जिलों को लाभान्वित करेगी।
राज्यपाल ने कहा कि राज्य सरकार ने इंदौर की हुकुमचंद मिल के चार हजार 800 श्रमिकों के परिवारों को उनके हक की राशि 224 करोड़ रुपए दिलाई। ये मजदूर इसके लिए लंबे समय से संघर्ष कर रहे थे। प्रधानमंत्री श्री मोदी के मार्गदर्शन में प्रदेश सरकार अब अन्य मिलों के मजदूरों के कल्याण के लिए भी हरसंभव उपाय करेगी।
उन्होंने कहा कि राज्य में जनजातीय वर्ग के बच्चों को शिक्षावृत्ति के तौर पर 325 करोड़ रुपए की राशि का भुगतान किया है। प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना में 400 करोड़ रुपए की राशि केंद्र सरकार ने उपलब्ध कराई है। प्रधानमंत्री जनमन योजना में 23 जिलों में निवास करने वाले बैगा, सहरिया और भारिया जनजाति के 11 लाख से अधिक आदिवासी जन लाभान्वित होंगे।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री लाड़ली लक्ष्मी योजना के अंतर्गत अब तक 14 लाख से अधिक बालिकाओं को 388 करोड़ रुपए से अधिक की छात्रवृत्ति का वितरण किया जा चुका है। प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश पिछले पांच साल से लगातार पहले स्थान पर है।
उन्होंने कहा कि कूनो में चल रही चीता परियोजना सफल रही है। इस साल के पहले महीने में वहां सात चीता शावकों ने जन्म लिया है।
उन्होंने कहा कि महाशिवरात्रि से गुड़ी पड़वा तक उज्जैन में भव्य मेला आयोजित किया जाएगा। इसी क्रम में उन्होंने कहा कि सरकार प्रदेश की जनता के कल्याण के लिए तेजी से काम कर रही है। हम सभी इस कर्त्तव्य काल में कर्त्तव्य पथ पर बढ़ते हुए विकसित भारत के निर्माण के लिए विकसित मध्यप्रदेश गढ़ने की ओर बढ़ें।
गरिमा
वार्ता
image