Saturday, Apr 20 2024 | Time 12:36 Hrs(IST)
image
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


वित्त वर्ष 2024-25 के लिए लेखानुदान पेश किया गया सदन में

भोपाल, 12 फरवरी (वार्ता) मध्यप्रदेश के उप मुख्यमंत्री जगदीश देवड़ा ने आज विधानसभा में वित्त वर्ष 2024-25 के लिए लेखानुदान पेश किया, जिसमें एक लाख पैंतालीस हजार करोड़ रुपयों से अधिक का प्रावधान किया गया है।
वित्त मंत्री श्री देवड़ा ने लेखानुदान के जरिए वित्त वर्ष 2024 25 के शुरूआती चार महीनों यानी 01 अप्रैल से 31 जुलाई की समय अवधि का आय और व्यय का विवरण पेश किया। इसमें कुल एक लाख पैंतालीस हजार से अधिक धनराशि का प्रावधान किया गया है। इसमें से एक लाख छह हजार करोड़ रुपयों से अधिक धनराशि राजस्व और 38 हजार करोड़ रुपयों से अधिक की धनराशि पूंजीगत व्यय के लिए प्रस्तावित की गयी है।
उन्होंने बताया कि संविधान के अनुच्छेद 206(1) के तहत अत्यावश्यक निरंतर व्यय के मदों के लिए नवीन व्यय और मद शामिल नहीं किए गए हैं। लेखानुदान का उद्देश्य “अंतिम आपूर्ति” की स्वीकृति होने तक सरकार के क्रियान्वयन को जारी रखना है। लेखानुदान की अवधि आगामी 31 जुलाई समाप्त होने के पहले अनुदान की पुनरीक्षित मांगें सदन के समक्ष पेश की जाएंगी।
उन्होंने कहा कि वित्त वर्ष के लिए बजट में तीन लाख 48 हजार करोड़ रुपयों से अधिक की धनराशि का प्रावधान प्रस्तावित है, जबकि लेखानुदान के लिए एक लाख पैंतालीस हजार करोड़ रुपयों से अधिक की राशि प्रस्तावित की गयी है। विभिन्न महत्वपूर्ण विभागों की योजनाओं के लिए लेखानुदान में आवश्यकतानुसार वित्तीय प्रावधान किए गए हैं। लेखानुदान पर इसी सप्ताह सदन में चर्चा होगी और इसे सदन में पारित कराया जाएगा।
श्री देवड़ा ने वित्त वर्ष 2024 25 के लिए वार्षिक वित्त विवरण भी पेश किए।
शीघ्र ही लोकसभा चुनाव के कारण केंद्र सरकार ने भी इस बार लेखानुदान पारित कराया है। इसी क्रम में मध्यप्रदेश सरकार ने भी चार माह के लिए लेखानुदान पेश किया है।
प्रशांत
वार्ता
More News
मध्यप्रदेश में मतदान समाप्त, औसतन लगभग 70 प्रतिशत लोगों ने डाले वोट

मध्यप्रदेश में मतदान समाप्त, औसतन लगभग 70 प्रतिशत लोगों ने डाले वोट

19 Apr 2024 | 7:57 PM

भोपाल, 19 अप्रैल (वार्ता) लोकसभा चुनाव के पहले चरण में मध्यप्रदेश में आज छह संसदीय सीटों के लिए मतदान शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया और कुल एक करोड़ 13 लाख से अधिक मतदाताओं में से लगभग सत्तर प्रतिशत लोगों ने अपने मताधिकार का उपयोग किया। यह आकड़ा अभी और बढ़ने के आसार हैं।

see more..
image