Thursday, Sep 19 2019 | Time 20:06 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सुप्रियो पर वामपंथी छात्रों का हमला,राज्यपाल ने मांगी रिपोर्ट
  • डेरे के महंत की हत्या के आरोप में चेला गिरफ्तार
  • जालौन :बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों की स्थिति और अन्य व्यवस्थाओं का अधिकारियों ने लिया जायजा
  • चित्रकूट पुलिस ने मुठभेड़ में किया एक लाख के इनामी डकैत को गिरफ्तार
  • कोलकाता एवं जयपुर के बीच साप्ताहिक विशेष ट्रेन
  • नौसेना को स्कोर्पिन श्रेणी की दूसरी पनडुब्बी खंडेरी मिली
  • हरीश रावत के स्टिंग मामले में सीबीआई कल सौंपेगी जांच रिपोर्ट
  • डी के श्रीवास्तव चुने गये आईडीए के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष
  • नगर निकायों को राजस्व वृद्धि के उपाय ढूंढने होंगे : वित्त आयोग
  • उच्चतम न्यायालय में दो नये न्यायालय कक्ष बनाये गये
  • जमुई से दो कुख्यात गिरफ्तार
  • सिरसा वायु सेना केंद्र ने ग्रामीणों से मृत पशु खुले में न फेंकने की अपील की
  • हवाई अड्डे पर विदेशी यात्री से पाँच किलोग्राम सोना बरामद
  • नागपुर में एक अबोध बच्ची की हत्या
राज्य » अन्य राज्य


इसरो के ‘युविका’ कार्यक्रम के लिए 108 छात्र-छात्राओं का चयन

बेंगलुरु, 12 मई (वार्ता) युवा छात्रों को अंतरिक्ष विज्ञान की ओर प्रेरित करने तथा इस दिशा में उनकी प्रतिभा को आगे बढ़ने का मौका देने के उद्देश्य से भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) द्वारा शुरू किये गये ‘युविका’ कार्यक्रम के लिए 108 छात्र-छात्राओं का चयन किया गया है।
इसरो ने बताया कि देश के सभी 29 राज्य तथा सात केंद्रशासित प्रदेशों से तीन-तीन छात्रों को चुना गया है। कार्यक्रम की शुरुआत सोमवार को होगी। इसके उन्हें इसरो के चार केंद्रों पर 13 से 26 मई तक दो सप्ताह का कोर्स कराया जायेगा।
अंतरिक्ष एजेंसी ने बताया कि कोर्स का पाठ्यक्रम छात्रों की जिज्ञासा के स्तर को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है। इसमें यह भी ध्यान रखा गया है कि छात्र कक्षा की पुस्तकों में जो पढ़ते हैं उसे वे विज्ञान से जोड़ सकें। इसमें पर्यावरण विज्ञान, नवीकरणीय ऊर्जा, खगोल विज्ञान, रॉकेट अभियांत्रिकी, अंतरिक्ष एप्लिकेशन तथा ‘सॉफ्ट स्किल’ जैसे विषयों को शामिल किया गया है।
छात्रों को इसरो के चार केंद्रों में ठहराया जायेगा। हर छात्र को एक टैबलेट दिया जायेगा जिसमें पाठ्यक्रम पहले से ही लोड होगा। वे इसरो की प्रयोगशालाओं का भी दौरा करेंगे और यह देख सकेंगे कि वहाँ इसरो की टीम किस प्रकार काम करती है।
सभी छात्र 17 मई को ‘युविका-संवाद’ के तहत श्रीहरिकोआ स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र का दौरा करेंगे जहाँ इसरो अध्यक्ष डॉ. के. शिवन छात्रों को संबोधित करेंगे।
श्री शिवन ने कहा, “युवाओं और बच्चों को बड़ी चुनौतियाँ देकर उन्हें प्रोत्साहित करना हमारा राष्ट्रीय कर्त्तव्य है। राष्ट्रीय विकास के क्रम को निर्बाध बनाये रखने के लिए अगली पीढ़ी को तैयार करना जरूरी है। अंतरिक्ष विज्ञान में देश में सकारात्मक परिवर्तन लाने की बड़ी संभावना है।”
अजीत.श्रवण
वार्ता
More News
‘विक्रम’ से संपर्क टूटने के कारणों की समीक्षा कर रही है समिति : इसरो

‘विक्रम’ से संपर्क टूटने के कारणों की समीक्षा कर रही है समिति : इसरो

19 Sep 2019 | 7:30 PM

बेंगलुरु, 19 सितंबर (वार्ता) भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने गुरुवार को बताया कि राष्ट्रीय स्तर की एक समिति चंद्रयान-2 के लैंडर ‘विक्रम’ से संपर्क टूटने के कारणों की समीक्षा कर रही है।

see more..
तेदेपा ने राज्यपाल से की जगन-सरकार की शिकायत

तेदेपा ने राज्यपाल से की जगन-सरकार की शिकायत

19 Sep 2019 | 6:53 PM

विजयवाडा, 19 सितंबर (वार्ता) आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू के नेतृत्व मेें तेलुगू देशम पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल विश्वभूषण हरिचंदन को ज्ञापन सौंपकर राज्य की वाईएसआरसीपी सरकार पर तेदेपा नेताओं को प्रताड़ित करने का गुरुवार को आरोप लगाया।

see more..
image