Tuesday, Sep 17 2019 | Time 18:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मेघालय स्कूल ने जीता अंडर-17 सुब्रतो कप
  • आनंदीबेन ने किया पोलियो की तरह देश को प्रदूषण से मुक्त करने का आह्वान
  • कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त की तलाश में सीबीआई की विशेष टीमों का गठन
  • दुनिया का 12वाँ सबसे बड़ा हवाई अड्डा बना दिल्ली एयरपोर्ट
  • तेजस में उडान भरेंगे राजनाथ
  • मप्पिलापट्टू गायक एम कन्हीमूसा का निधन
  • लेनोवो ने लाँच किया अगली पीढ़ी के थिंकपैड और थिंक सेंटर पीसी
  • आतंकवाद को लोगों की मदद से ही काबू में किया जा सकता है: तारिगामी
  • बाढ़ से बर्बाद हो रहे गांवों को बचाने का सरकार स्थायी समाधान निकालेगी:योगी
  • सुजीत मान को मिलेगा सर्वश्रेष्ठ कोच का पेफी अवार्ड
  • सुजीत मान को मिलेगा सर्वश्रेष्ठ कोच का पेफी अवार्ड
  • प्रधानमंत्री के दौरे के मद्देनजर विशेष सुरक्षा के तहत तैनात सब इंस्पेक्टर ने सर्किट हाऊस में की आत्महत्या
  • खाद्य तेल सुस्त, चीनी नरम, गेहूँ मजबूत
  • हवा से हवा में मार करने वाली अस्त्र मिसाइल का सुखोई से सफल परीक्षण
राज्य » अन्य राज्य


येदियुरप्पा के सर चौथी बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री का ताज

बेंगलुरु 26 जुलाई (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी के विरष्ठ नेता बी एस येदियुरप्पा ने शुक्रवार को चौथी बार राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।
राज्यपाल वजूभाई वाला ने राजभवन में आयोजित एक समारोह में श्री येदियुरप्पा को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलायी। राज्यपाल ने श्री येदियुरप्पा को एक सप्ताह के भीतर विधानसभा में बहुमत सिद्ध करने को कहा है।
इससे पहले श्री येदियुरप्पा ने राज्यपाल से मुलाकात करके सरकार बनाने का दावा पेश किया था। उन्होंने राज्यपाल को 105 विधायकों के समर्थन वाला पत्र सौंपते हुमए बताया कि उन्हें विधायक दल का नेता चुना गया है।
गौरतलब है कि कर्नाटक विधानसभा में एच डी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली कांग्रेस-जनता दल (सेक्युलर) गठबंधन सरकार 24 जुलाई को विश्वासमत हासिल नहीं कर पाई थी। कांग्रेस-जद(एस) को मात्र 99 और भाजपा को 105 वोट मिले थे। इसके बाद श्री येदियुरप्पा के मुख्यमंत्री बनने का रास्ता साफ हो गया।
विधानसभा अध्यक्ष के आर रमेश कुमार के तीन विधायकों को दल-बदल कानून के तहत अयोग्य घोषित किए जाने के बाद 225 सदस्यीय सदन में सदस्यों की संख्या 222 रह गई है। इनमें एक विधायक बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और एक मनोनीत है जिसे वोट देने का अधिकार है। भाजपा को सदन में उसके 105 और एक निर्दलीय समेत 106 विधायकों का समर्थन है। कांग्रेस और जद (एस) के सदस्यों की संख्या क्रमश 64 और 34 है। इसमें बागी विधायक भी शामिल हैं।
टंडन आशा
वार्ता
image