Friday, Jul 10 2020 | Time 17:27 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • नैनीताल जिले में महिला और पुरूष के शव बरामद
  • फेसबुक ‘लाईव‘ पर आकर अस्पताल के कर्मचारी ने की खुदकुशी
  • पुड्डुचेरी में रविवार को पूर्ण लॉकडाउन नहीं: नारायणस्वामी
  • बस्ती में 11 और कोरोना पॉजिटिव,संख्या 390 तक पहुंची
  • एसआई और वाहन चालक जीवन रक्षा पदक के लिये चयनित
  • मुठभेड़ से पहले विकास की जान की हिफाजत के लिए दायर हुई थी याचिका
  • फिलीपींस में कोरोना संक्रमण के 1233 नये मामले
  • बजरंग दल की मलेरकोटला में गौ हत्या दोषियों विरूद्ध कार्रवाई करने की मांग
  • बुलंदशहर में 20 और कोरोना पॉजिटिव,संख्या 870 पहुंची
  • मुश्ताक अहमद ने हॉकी इंडिया के अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफ़ा
  • मुश्ताक अहमद ने हॉकी इंडिया के अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफ़ा
  • एससी बाहुल्य गांवों में स्वावलंबी अर्थव्यवस्था विकसित करें : बेबी रानी मौर्य
  • प्रवासियों के लिए रोजगार सुविधाजनक योजना : कौशिक
राज्य » अन्य राज्य


आतंकवाद के खिलाफ जारी रहेगी जीरो टॉलरेंस नीति : किशन रेड्डी

गुवाहाटी 21 अक्टूबर (वार्ता) केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा है कि आतंकवाद के खिलाफ भारत ‘जीरो टॉलरेंस’ की अपनी नीति को जारी रखेगा।
श्री रेड्डी ने पुलिस स्मृति दिवस के अवसर पर असम पुलिस की ओर से यहां आयोजित कार्यक्रम के अवसर पर यह बात कही। उन्होंने कहा कि भारत के सुरक्षाबल देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए खतरा पैदा करने वाली सभी चुनौतियों से निपटने में सक्षम है और आतंकवादी गतिविधियों में कमी आई है।
पुलिस स्मृति दिवस के अवसर पर आज पूरा देश पुलिसकर्मियों और उनके परिवारों को सलाम करता है तथा ड्यूटी के दौरान शहीद होने वाले जवानों को गर्व से याद करता है।
केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री ने कहा, “ असम पुलिसकर्मियों ने आतंकवादियों और घुसपैठियों के खिलाफ लड़ाई, कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने, अपराध पर काबू पाने के अलावा सीमावर्ती इलाकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने तथा प्राकृतिक आपदाओं के दौरान जरुरतमंदों की मदद करने में अपने प्राणाें का बलिदान दिया है।”
वर्ष 1964 से लेकर अब तक असम पुलिस के 879 जवानों ने राज्य में कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए अपने प्राण न्यौछावर किए हैं।
श्री रेड्डी ने समारोह से इतर मीडियाकर्मियों काे संबोधित करते हुए कहा कि वह पूर्वोत्तर में सक्रिय उन सभी उग्रवादी एवं विद्रोही संगठनों से हथियार डालने और मुख्यधारा में शामिल होने की अपील करते हैं जहां वे राष्ट्र की प्रगति में योगदान दे सकते हैं।
रवि आशा
वार्ता
image