Tuesday, Nov 19 2019 | Time 23:25 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • एनपीएफ ने निलंबित विधायकों को सभा में शामिल होने के लिए किया आमंत्रित
  • ओमान से हारकर भारत विश्व कप की होड़ से बाहर
  • ईवीएम ले जाने वाले वाहनों की होगी जीपीएस ट्रैकिंग : शैलेष
  • व्यवस्था को बेहतर बनाने में तकनीक का हो भरपूर इस्तेमाल : मुख्य सचिव
  • हर कोई है नागरिक , बंगाल में नहीं लाया जायेगा एनआरसी: ममता
  • तीसरे चरण चुनाव के लिए हुए 13 नामांकन
  • दूसरे चरण चुनाव के नामांकन पत्रों की जांच में 279 पर्चे सही
  • गोड्डा में 25 लाख का गांजा बरामद
  • उत्तर भारत में भूकंप के झटके
  • ट्रक और बाइक की टक्कर में दाे युवा खिलाड़ी की मौत
  • योगी ने नोएडा में होमगार्ड अभिलेख जलाये जाने की घटना की जांच के दिए निर्देश
  • दो बच्चियों के हत्यारे ने किया आत्महत्या का प्रयास
  • अमिताभ बच्चन होंगे अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह के विशिष्ट अतिथि
  • मुंगेर में दो मिनी गन फैक्ट्री का उद्भेदन, दो गिरफ्तार
  • रिया और करमन ने जीते अपने मुकाबले
राज्य » अन्य राज्य


बांग्ला दैनिक ‘वर्तमान’ की संपादक शुभा दत्ता का निधन

कोलकाता, 21 अक्टूबर (वार्ता) बांग्ला दैनिक समाचार पत्र ‘वर्तमान’ की संपादक शुभा दत्ता का सोमवार को शहर के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया।
वह 67 वर्ष की थीं। उनके परिवार में बेटी और दामाद हैं।
श्रीमती दत्ता ने पूर्वाह्न 10 बजकर 42 मिनट पर अपोलो ग्लेनीगल्स अस्पताल में अंतिम सांस ली। हाल ही में बीमारी के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था।
वर्ष 2008 में श्रीमती दत्ता ने अपने भाई एवं समाचार पत्र के संस्थापक संपादक बरुण सेनगुप्ता के निधन के बाद यह पद संभाला था। उनके पति का कुछ वर्ष पहले ही निधन हुआ था।
पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने शुभा दत्ता के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।
श्री धनखड़ ने अपने शोक संदेश में कहा, “ वर्तमान के संस्थापक दिवंगत बरुण सेनगुप्ता की बहन शुभा दत्ता पश्चिम बंगाल से प्रकाशित होने वाले समाचार पत्रों की एकमात्र महिला संपादक थीं।”
श्रीमती दत्ता ने 19 जून 2008 को ‘वर्तमान पत्रिका’ के संपादक का पद संभाला था। उनके काम को हर किसी ने सराहा, उन्होंने बिना किसी भय के अपने भाई की तरह शक्तिशाली संगठनों के गलत कार्यों की आलोचना की।
श्रीमती दत्ता बांग्ला पत्रकारिता को एक नयी ऊंचाई पर लेकर गईं। उनका निधन बांग्ला पत्रकारिता के लिए एक अपूरणीय क्षति है।
रवि.श्रवण
वार्ता
image