Monday, Jul 13 2020 | Time 23:01 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • गोवा में कोरोना के 130 नए मामले
  • सोनभद्र में अनियंत्रित ट्रक पुलिया से टकरा कर पलटा,दो की मृत्यु
  • बिहार की निचली अदालतों में 20 जुलाई तक कार्य बंद
  • लालू समेत सभी राजनीतिक-सामाजिक कार्यकर्ताओं को रिहा करे सरकार : माले
  • निजी अस्पतालों में आईसीयू के 20 प्रतिशत बिस्तर कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित- सावंत
  • लखनऊ के आलमबाग इलाके में रेलवे के ठेकेदार पर जानलेवा हमला
  • असली अयोध्या भारत में नहीं बल्कि नेपाल में है: ओली
  • छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार ने 15 विधायकों को संसदीय सचिव किया नियुक्त
  • कोरोना से उबरने के संदेश के तौर पर आयोजित हो ओलंपिक: यूरिको
  • कोरोना से उबरने के संदेश के तौर पर आयोजित हो ओलंपिक: यूरिको
  • उद्योग 18 लाख से अधिक लोगों को रोजगार मुहैया करा रहे हैं: रूपाणी
  • हरियाणा में कोरोना के 689 नये मामले, कुल संख्या 21929 पहुंची, 308 मौतें
  • गुरबक्श और क्रिकेटर पलाश नंदी को मोहन बागान रत्न
  • गुरबक्श और क्रिकेटर पलाश नंदी को मोहन बागान रत्न
राज्य » अन्य राज्य


आदेश का पालन नहीं करने पर तीन सचिव तलब

नैनीताल, 4 नवम्बर (वार्ता) उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने राज्य में जैव चिकित्सा अपशिष्ट संयंत्रों (बायो मेडिकल वेस्ट प्लांट) की स्थापना को लेकर उच्च न्यायालय के निर्देशों का पालन नहीं करने के मामले में प्रमुख सचिव उद्योग, सचिव स्वास्थ्य व सचिव शहरी विकास को 18 नवम्बर को अदालत में पेश होने का निर्देश दिया है।
ये निर्देश मुख्य न्यायाधीश रमेश रंगनाथन व न्यायमूर्ति आलोक कुमार वर्मा की पीठ ने सोमवार को हिमांशु चंदोला व अन्य की ओर से दायर जनहित याचिका की सुनवाई के बाद जारी किये हैं। अदालत ने विगत 19 सितम्बर को एक आदेश जारी कर प्रदेश में बायो मेडिकल वेस्ट प्लांट स्थापित करने के लिये तीनों सचिवों को प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सदस्य सचिव के साथ बातचीत कर कोई निर्णय लेने के निर्देश दिये थे। आज बोर्ड की ओर से अदालत को बताया गया कि इस संदर्भ में कोई प्रगति नहीं हो पायी है।
उच्च न्यायालय की ओर से बायो मेडिकल वेस्ट, रूल्स 2016 के तहत प्रदेश में सरकार की ओर से संयंत्र लगाने की संभावनाओं पर विचार करने के लिये प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड व तीनों सचिवों को निर्देश दिये गये थे। इसी दौरान अदालत के संज्ञान में लाया गया था कि जैव अपशिष्ट के निस्तारण के लिये प्रदेश के रूड़की व गदरपुर में निजी क्षेत्र के मात्र दो संयंत्र मौजूद हैं।
निजी क्षेत्र में स्थापित होने के चलते इनके द्वारा मनमानी की जा रही है। तय नियमों का अनुपालन नहीं किया जा रहा है। नियमों का अनुपालन नहीं करने के मामले में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (पीसीबी) की ओर से गदरपुर में स्थापित संयंत्र पर 1,13,0000 रूपये का अर्थदंड लगाया गया है। अन्य संयंत्र उपलब्ध नहीं होने के कारण पीसीबी की ओर से इनके खिलाफ ठोस कार्यवाही अमल में नहीं लायी जा रही है। इसके बाद अदालत ने उपरोक्त निर्देश जारी किये थे। अदालत ने तीनों को 18 नवम्बर को व्यक्तिगत रूप से अदालत में पेश होने के निर्देश दिये हैं।
रवीन्द्र, प्रियंका
वार्ता
More News
आत्मनिर्भर भारत में पंचायतों की अहम भूमिका:त्रिवेंद्र

आत्मनिर्भर भारत में पंचायतों की अहम भूमिका:त्रिवेंद्र

13 Jul 2020 | 9:40 PM

देहरादून 13 जुलाई (वार्ता) उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में पंचायत प्रतिनिधियों की महत्वपूर्ण भूमिका है और देश के समग्र विकास के लिए गांवों का विकसित होना जरूरी है।

see more..
बंगाल में कोरोना मामले 32000 के करीब, 956 की मौत

बंगाल में कोरोना मामले 32000 के करीब, 956 की मौत

13 Jul 2020 | 9:22 PM

कोलकाता, 13 जुलाई (वार्ता) पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस (कोविड-19) के 1435 नये मामले सामने आने के बाद सोमवार को संक्रमितों की संख्या बढ़कर 32000 के करीब पहुंच गयी तथा 24 और लोगों की मौत के साथ ही मृतकों का आंकड़ा 956 हो गया।

see more..
केरल में कोरोना मामले 8300 के पार, रिकवरी दर 51 फीसदी

केरल में कोरोना मामले 8300 के पार, रिकवरी दर 51 फीसदी

13 Jul 2020 | 9:13 PM

तिरुवनंतपुरम ,13 जुलाई (वार्ता) केरल में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस (कोविड-19) के 449 नये मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या 8300 के पार हो गयी है लेकिन राहत की बात यह है कि कोरोना मरीजों के स्वस्थ होने की दर 51 फीसदी से अधिक हो गयी है।

see more..
image