Thursday, Jan 28 2021 | Time 08:46 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 29 जनवरी)
  • अमेरिका ने यूएई और सऊदी अरब के साथ रक्षा समझौतों पर लगाई रोक
  • हौती लड़ाकों पर लगे प्रतिबंधों पर विचार कर रहा है बिडेन प्रशासन : ब्लिंकन
  • लेबनान में विरोध प्रदर्शन के दौरान ग्रेनेड विस्फोट में नौ पुलिसकर्मी घायल
  • नवेलनी मामले को लेकर रूस पर प्रतिबंध लगा सकता है यूरोपीय संघ
  • ईरान पर लगे प्रतिबंधों को हटाने में समय लगेगा : ब्लिंकन
  • अमेरिका में कैपिटल हिल हिंसा मामले में तीन लोगों पर आरोप तय
  • इजरायल में कोरोना संक्रमण के 7,412 नये मामले
  • अमेरिका में कोविड-19 से 4 28 लाख से अधिक लोगों की मौत
  • ब्रिटेन में एस्ट्राजेनेका के वैक्सीन संयंत्र के पास मिला संदिग्ध पैकेट
  • अमेरिका ने यूएई और सऊदी अरब के साथ रक्षा समझौतों पर लगाई रोक
  • कैमरून में सड़क दुर्घटना में 53 लोगों की मौत, 29 घायल
राज्य » अन्य राज्य


जल संरक्षण के लिए राष्ट्रव्यापी अभियान की जरुरत : वेंकैया

चेन्नई 19 नवंबर (वार्ता) उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने जल संरक्षण को लेकर राष्ट्रव्यापी अभियान चलाये जाने की जरुरत बताते हुए गुरुवार को कहा कि समय आ गया है जब लोग जल की उपलब्धता की मौजूदा स्थिति को समझें और इसके संरक्षण के लिए आवश्यक कदम उठाएं।
श्री नायडू ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये ‘मिशन पानी जल प्रतीज्ञा दिवस’ नामक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने जल की एक-एक बूंद बचाने के लिए देश के प्रत्येक नागरिक से योद्धा के रूप में काम करने का आग्रह किया है।
उपराष्ट्रपति ने कहा कि सभी लोगों को जल्द से जल्द जल की उपलब्धता की मौजूदा स्थिति को समझना होगा और इसके संरक्षण के लिए आवश्यक कदम उठाने होंगे अन्यथा निकट भविष्य में दुनिया को गहरे जल संकट का सामना करना पड़ सकता है।
श्री नायडू ने कहा कि गंभीर जल संकट से बचने के लिए सामूहिक प्रयासों की जरुरत है। उन्होंने न्यूज 18और हार्पिक की ओर से इस दिशा में की गयी पहल की सराहना भी की।
उन्होंने कहा कि पृथ्वी पर मौजूद तीन प्रतिशत जल का केवल 0.5 प्रतिशत ही पीने के योग्य है। भारत की आबादी दुनिया की आबादी का 18 प्रतिशत है लेकिन हमारे पास केवल दुनिया के नवीकरणीय जल संसाधन का चार प्रतिशत ही है।
उपराष्ट्रपति ने कहा कि विश्व के करीब 2.2 अरब लोगों के पास पीने का स्वच्छ जल उपलब्ध नहीं है। दुनिया की करीब 55 प्रतिशत आबादी के पास स्वच्छ शौचालय की सुविधा नहीं है।
रवि आशा
वार्ता
image