Tuesday, Jan 19 2021 | Time 22:58 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • देश में 1 06 करोड़ के करीब पहुंची कोरोना संक्रितों की संख्या
  • रिजिजू को आयुष मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार
  • रुपेश सिंह हत्याकांड के दोषियों को अविलंब करें गिरफ्तार : नीतीश
  • नीतीश ने गुरू गोविंद सिंह की जयंती पर दी शुभकामनायें
  • ब्रिस्बेन मैच के हीरो ऋषभ उत्तराखंड के कोहिनूर : प्रेमचंद
  • रिजुजु को आयुष मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार
  • तमिलनाडु में कोरोना सक्रिय मामले 5400 के करीब
  • कप्तान कोल ने ओडिशा को एक और हार से बचाया
  • कप्तान कोल ने ओडिशा को एक और हार से बचाया
  • चिर-प्रतिद्वंद्वी केरला और बेंगलुरु अपनी किस्मत बदलने उतरेंगे
  • चिर-प्रतिद्वंद्वी केरला और बेंगलुरु अपनी किस्मत बदलने उतरेंगे
  • कर्नाटक में कोरोना के सक्रिय मामलों में फिर से गिरावट
  • विराट, इशांत, हार्दिक की टेस्ट टीम में वापसी, नटराजन और शॉ बाहर
  • विराट, इशांत, हार्दिक की टेस्ट टीम में वापसी, नटराजन और शॉ बाहर
  • राजस्थान में कोरोना के 209 नये मामले, दो लोगों की मौत
राज्य » अन्य राज्य


त्रिपुरा में माकपा के पांच कार्यालय क्षतिग्रस्त, आठ कार्यकर्ता घायल

अगरतला 27 नवम्बर (वार्ता) त्रिपुरा में विपक्षी मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने आरोप लगाया है कि राज्य में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के कार्यकर्ताओं के हमले में उनके कम से कम आठ पांच पार्टी कार्यकर्ता घायल हो गये जबकि पांच कार्यालयों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया।
माकपा व्यापार संघ सीटू के मुख्यालय, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) और एसयूसीआई के राज्य कार्यालय में 10 ट्रेड यूनियनों और वाम पार्टियों ने श्रम कानून सुधारों और कृषि कानूनों के विरोध में गुरुवार को राष्ट्रव्यापी विरोध का प्रदर्शन किया था।
माकपा पदाधिकारियों ने कहा कि सभी घटनाएं पुलिस की मौजूदगी में घटी और हमलावरों ने पुलिस और सुरक्षा बलों द्वारा इस्तेमाल किये जाने वाली फाइबर की लाठी ले रखी थी।
माकपा नेता पवित्र कार ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज में अपराधी शहर के बीचोंबीच एक होटल पर हमला करते हुए दिखाई दे रहे थे और सीटू कार्यालय में आग लगा दी और पुलिस कर्मी ‘बेबस होकर’ इसे देख रहे थे। उन्होंने कहा कि जब शरारती तत्व माकपा कार्याल में आग लगा रहे थे तब पुलिस वहां मौजूद थी।
श्री कार ने कहा कि किसी भी घटना में पुलिस ने कोई मामला दर्ज नहीं किया और न ही किसी को भी गिरफ्तार किया हालांकि अपराधियों की पहचान की गयी है। सीटू कार्यालय के सामने तैनात पुलिस ने कैमरे पर कहा कि उन्होंने शरारती तत्वों को रोकने की कोशिश की लेकिन वे इसमें असफल रहे क्योंकि हमलावर बहुत बड़ी संख्या में थे।
उन्होंने सवाल किया कि अगर इस तरह की स्थिति बनती है तो लोग चुनी की सरकार पर कैसे भरोसा करेंगे। उन्हाेंने कहा कि राज्य की कानून व्यवस्था बहुत तेजी से बिगड रही है क्योंकि प्रशासन ने नियंत्रण खो दिया है। उन्हाेंने सरकार से तत्काल इसमें हस्तक्षेप करने की मांग की है।
उप्रेती टंडन
वार्ता
image