Friday, Apr 19 2024 | Time 23:51 Hrs(IST)
image
राज्य » अन्य राज्य


ओडिशा विस में हंगामे के कारण कार्यवाही तीन बार स्थगित

भुवनेश्वर 07 फरवरी (वार्ता) विपक्षी भारतीय जनता पार्टी के सदस्यों ने बुधवार को श्रीजगन्नाथ मंदिर में महाप्रसाद के रूप में उबले चावल के उपयोग को लेकर ओडिशा विधानसभा में जबरदस्त हंगामा किया, जिससे अध्यक्ष प्रमिला मल्लिक को सदन की कार्यवाही तीन बार शाम चार बजे तक के लिए स्थगित करनी पड़ी।
आज जैसे ही विधानसभा की कार्यवाही प्रश्नकाल के लिए शुरू हुई विपक्षी भाजपा सदस्य तख्तियां लेकर श्रीजगन्नाथ मंदिर में महाप्रसाद के रूप में उबले चावल के उपयोग पर बीजू जनता दल (बीजद) सरकार के खिलाफ नारे लगाते हुए सदन के आसन के सामने आ गए।
विपक्षी भाजपा का मुकाबला करने के लिए सत्ता पक्ष के सदस्यों ने भाजपा की ओर से राजनीतिकरण किए जा रहे नाबालिग लड़की परी हत्याकांड का मुद्दा भी उठाया।
सदन में हंगामे के कारण अध्यक्ष प्रमिला मलिक को बिना कोई कामकाज किए तुरंत 11:30 बजे तक सदन की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी। सदन की कार्यवाही 11:30 बजे दोबारा शुरू होने पर विपक्षी भाजपा सदस्यों ने वेल के अंदर नारेबाजी जारी रखी जिसके बाद अध्यक्ष को फिर से कार्यवाही दोपहर 12:30 बजे तक के लिए स्थगित करना पड़ा।
इसके बाद ओडिशा सरकार की ओर से श्री मंदिर परिक्रमा परियोजना का उद्घाटन के मौके पर गांवों में अर्पण रथ की यात्रा के दौरान एकत्र किए गए भगवान के महाप्रसाद में उबले चावल के उपयोग पर विपक्षी भाजपा सदस्यों के कड़े विरोध के कारण अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही शाम चार बजे तक के लिए स्थगित कर दी।
सदन स्थगित होने के तुरंत बाद सत्ता पक्ष के सदस्य विधानसभा परिसर के अंदर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा पर एकत्र हुए और सनसनीखेज परी हत्याकांड का राजनीतिकरण करने के लिए केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान तथा भाजपा के मुख्य सचेतक मोहन माझी से माफी की मांग की।
विशेष बाल न्यायालय, नयागढ़ ने मंगलवार को नयागढ़ के सनसनीखेज परी बलात्कार और हत्या मामले में एक आरोपी और एक किशोर को 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई।
बीजद सदस्यों ने कहा कि परी हत्या मामले में फैसले ने हत्या के मामले में बीजद के पूर्व मंत्री को निशाना बनाकर भाजपा द्वारा खेले गए नापाक राजनीतिक खेल को उजागर कर दिया है। उन्होंने केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान तथा ओडिशा विधानसभा में भाजपा के मुख्य सचेतक मोहन माझी के बयान की निंदा की।
श्री माझी ने विधानसभा के बाहर पत्रकारों को बताया कि भगवान जगन्नाथ का महाप्रसाद उबले हुए चावल से तैयार किया गया है जिसे अर्पण रथ द्वारा एकत्र किए गए चावल के साथ मिलाया गया है और भक्तों को वितरित किया गया है। उन्होंने जोर देकर कहा कि यह श्री जगन्नाथ मंदिर की सदियों पुरानी परंपरा के खिलाफ है।
भाजपा के मुख्य सचेतक ने कहा कि उनकी पार्टी इस मुद्दे पर विधानसभा में ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से जवाब चाहती है और कहा कि उनकी पार्टी इस मुद्दे को विधानसभा में तब तक उठाती रहेगी जब तक मुख्यमंत्री इस विवाद पर बयान नहीं देते।
संजय अशोक
वार्ता
image