Wednesday, Apr 24 2019 | Time 16:30 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • तीन दिन की गिरावट से उबरा सेंसेक्स, 490 अंक उछला
  • आंध्र प्रदेश में एसीबी महानिदेशक बने वेंकटेश्वर राव
  • नाइजीरिया में सड़क हादसे में 19 लोगों की मौत
  • नोबेल पुरस्कारों की घोषणा 07-14 अक्टूबर के बीच
  • सिंधू, सायना, समीर दूसरे दौर में, श्रीकांत बाहर
  • फिल्म पुरस्कारों की घोषणा अब लोकसभा चुनाव के बाद
  • दहेज हत्या के मामले में पति को दस साल के कठोर कारावास की सजा
  • टीम वर्क से प्लेऑफ में पहुंचने के करीब हैं: अमित मिश्रा
  • टीम वर्क से प्लेऑफ में पहुंचने के करीब हैं: अमित मिश्रा
  • कांगेस शासन में आतंकवादियों का बढ़ता है आत्मविश्वास : मोदी
  • कांगेस शासन में आतंकवादियों का बढ़ता है आत्मविश्वास : मोदी
  • कांग्रेस विधायक जे एन गणेश की जमानत मंजूर
  • अपने हलकों में पार्टी के लाेस प्रत्याशियों की जीत के लिये मंत्री, विधायक होंगे जिम्मेदार: अमरिंदर
  • भाजपा दलित विरोधी, इसलिए थामा कांग्रेस का हाथ: उदित राज
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


न्यायालयों में हिन्दी को मान्यता दी जाए : चावला

न्यायालयों में हिन्दी को मान्यता दी जाए : चावला

अमृतसर 12 फरवरी (वार्ता) पंजाब की पूर्व स्वास्थ्य मंत्री प्रो लक्ष्मीकांता चावला ने मंगलवार को केंद्र सरकार से उच्चतम न्यायालय सहित सभी अदालतों में प्रांतीय भाषाओं के साथ हिंदी भाषा को भी मान्यता देने की मांग की।

प्रो चावला ने कहा कि आबूधाबी सरकार ने अपने देश में अदालती कामकाज में हिंदी को तीसरी भाषा के रूप में मान्यता दे दी है। इसके लिए आबूधाबी में काम करते भारी संख्या में हिंदुस्तानी भी बधाई के पात्र हैं और वहां की सरकार का भी धन्यवाद जिन्होंने भारतीयों की भाषा और भावनाओं का ध्यान रखा। उन्होने कहा कि अगर आबूधाबी जैसे देश में हिंदी अदालती कार्यों की तीसरी मान्यता प्राप्त भाषा हो सकती है तो अपने देश की अदालतों में हिंदी को स्थान क्यों नहीं मिला।

पूर्व मंत्री ने कहा कि अफसोस की बात है कि स्वतंत्रता के 71 वर्ष पश्चात भी हमारे देश की कोई राष्ट्रभाषा घोषित नहीं की गई। यद्यपि हिंदी राष्ट्रभाषा के रूप में ही देश के अनेक स्वतंत्रता सेनानियों ने मान्य की है। अदालतों में हिंदी को स्थान नहीं दिया और न ही आज तक अंग्रेजों की नकल कर पहनने वाले वकीलों के काले कोटों का रंग बदला गया है। उन्होने कहा कि सरकार बताए कि काले रंग का न्याय और शिक्षा से क्या संबंध है।

ठाकुर.संजय

वार्ता

image