Wednesday, Jun 19 2019 | Time 08:17 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पोम्पियो और मोघरीनी ने अमेरिका-यूरोपीय संघ की साझा चुनौतियों पर की चर्चा
  • माली में आतंकवादी हमले में 38 लोगों की मौत
  • ईरान के मुद्दे पर सहयोगियों के साथ मिलकर काम करेगा अमेरिका: पोम्पियो
  • मार्क एस्पर होंगे अमेरिका के नए कार्यकारी रक्षा मंत्री
  • झारखंड में होगी केवल एक जल योजना : रघुवर
  • केरल माकपा प्रमुख के बेटे पर दुष्कर्म का मामला दर्ज
  • किसानों को प्रति बूंद अधिक फसल योजना का लाभ देने में झारखंड अव्वल
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


कुप्रबंधों तथा मंडी माफिया के कारण किसान झेल रहे परेशानी : चीमा

कुप्रबंधों तथा मंडी माफिया के कारण किसान झेल रहे परेशानी : चीमा

चंडीगढ़, 24 अप्रैल (वार्ता)प्रतिपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा ने पंजाब की मंडियों में खरीद के कुप्रबंधों और सक्रिय मंडी माफिया की ओर से किसानों को तंग करने का आरोप लगाया है।

श्री चीमा ने आज यहां कहा कि गेहूं और धान के खरीद सीजन के दौरान पूर्ववर्ती अकाली-भाजपा सरकार के समय जिस तरह किसानों का मानसिक और वित्तीय शोषण होता था, वैसे ही अब अमरिन्दर सरकार में भी किसानों के साथ वैसा ही हो रहा है। ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों की अनाज मंडियों में खरीद प्रक्रिया धीमी और अपर्याप्त है जिस कारण किसानों को भारी परेशानी झेलनी पड़ रही है।

उन्होंने सरकारी व्यवस्था पर आरोप लगाते हुये कहा कि पिछले लंबे समय से चला आ रहा 'मंडी माफिया' पूरी तरह से सक्रिय हो गया है और किसानों का विभिन्न तरीकों से वित्तीय शोषण कर रहा है। मानसा और संगरूर जिले की मंडियों में किसान फोन पर गुहार लगा रहे हैं कि वे एक सप्ताह से मंडियों में बेकार पड़े हुए हैं और सरकारी खरीद एजेंसियों के अधिकारी-कर्मचारी नमी की अधिक मात्रा के बहाने फसल खरीदने के लिए टाल-मटोल कर रहे हैं।

श्री चीमा ने कहा कि कैप्टन सरकार मंडियों में भी राजनीति करने में लगी हुई है, सत्ताधारी कांग्रेस के साथ सम्बन्धित नेताओं और प्रभावशाली लोगों के लिए नमी या कोई अन्य कमी रुकावट नहीं बन रही। मंडियों में आपसी मिलीभगत के साथ चल रहे माफिया पर तुरंत नकेल कसने की जरूरत है जो बोरी कमीशन और कम से कम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर गेहूं खरीदने की ताक में रहते हैं।

प्रतिपक्ष के नेता ने बताया कि किसान पहले ही खेती संकट का शिकार है और अन्य फालतू वित्तीय शोषण बर्दाश्त करने के योगय नहीं है। मुख्यमंत्री इस मामले में खुद दखलंदाजी करें और सक्रिय माफिया को नकेल कसे। उन्होंने वित्तीय संकट का सामना कर रहे किसानों को ऐसे हालात से बाहर निकालने के लिए कैप्टन सरकार को भी दिल्ली की केजरीवाल सरकार की तर्ज पर स्वामीनाथन की रिपोर्टें लागू करनी चाहिये 

More News
अमृतसर के विकास के लिए हर दरवाज़ा खटखटाउंगा : औजला

अमृतसर के विकास के लिए हर दरवाज़ा खटखटाउंगा : औजला

18 Jun 2019 | 9:13 PM

अमृतसर/नयी दिल्ली 18 जून (वार्ता) अमृतसर से कांग्रेस के नवनिवार्चित सांसद गुरजीत सिंह औजला ने मंगलवार को कहा कि वह अमृतसर के विकास के लिए हर दरवाजा खटखटाएंगे।

see more..
इस्तीफा दे चुके विधायकों को विधानसभा समितियों में लेना जनता से ‘बेहूदा मज़ाक‘ : बादल

इस्तीफा दे चुके विधायकों को विधानसभा समितियों में लेना जनता से ‘बेहूदा मज़ाक‘ : बादल

18 Jun 2019 | 8:43 PM

चंडीगढ़, 18 जून (वार्ता) शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने आम आदमी पार्टी (आप) से इस्तीफे दे चुके पांच विधायकों को विधानसभा की अलग-अलग समितियों के सदस्यों के रूप में नियुक्त करने के पंजाब सरकार के फैसले को प्रदेशवासियों के साथ किया गया ‘बेहूदा मज़ाक‘ करार दिया।

see more..
हरियाणा में जच्चा-बच्चा मृत्यु दर में आई कमी: विज

हरियाणा में जच्चा-बच्चा मृत्यु दर में आई कमी: विज

18 Jun 2019 | 8:33 PM

चंडीगढ़, 18 जून(वार्ता) हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा है कि प्रदेश में बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं की बदौलत शिशु मृत्यु दर 41 से घटकर 30 तथा मातृ मृत्यु दर 127 से घटकर 101 रह गई है।

see more..
image