Thursday, Feb 27 2020 | Time 17:14 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • न्यायाधीश के तबादले पर राहुल-प्रियंका ने सरकार पर साधा निशाना
  • रिम्स में ही चलेगा लालू का इलाज, एम्स के नेफ्रोलॉजिस्ट से ली जाएगी सलाह
  • विवाह समारोह में आये मेहमानों को भेंट किए गये पौधे
  • अक्षम लोगों के हाथ में अधिकार स्मार्ट सिटी मिशन का सबसे बड़ा दोष :मंडलायुक्त
  • बैंक सुरक्षा गार्ड गुलदार की खाल के साथ गिरफ्तार
  • वार्नर सनराइजर्स हैदराबाद के फिर कप्तान नियुक्त
  • वार्नर सनराइजर्स हैदराबाद के फिर कप्तान नियुक्त
  • असुद्दीन ओवैसी की भिवंडी में होने वाली रैली रद्द
  • गडकरी के ‘बुलडाणा पैटर्न’ से खुशहाल किसान, थमी आत्महत्या
  • एयरटेल पेमेंट्स बैंक के 2 50 लाख बैंकिंग केन्द्रों पर एईपीएस भुगतान शुरू
  • जलवायु परिवर्तन, कुपोषण के मद्देनजर फसलों की 250 किस्में विकसित: महापात्रा
  • दो परिवारों के बीच 40 साल से चली आ रही रंजिश को महापंचायत ने खत्म करवाया
  • इटावा में महिला और दो चचेरे भाईयों समेत तीन लोगों की ट्रेन से कटकर मौत
  • लगातार पाँचवें दिन टूटे बाजार, निफ्टी चार माह के निचले स्तर पर
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


पूर्व सांसद सुखदेव सिंह लिबड़ा का निधन

फतेहगढ़ साहिब ,06 सितंबर (वार्ता)पंजाब के पूर्व सांसद सुखदेव सिंह लिबड़ा का लंबी बीमारी से आज सुबह निधन हो गया ।
वह 87 वर्ष के थे और वह लुधियाना जिले के खन्ना के समीप लिबड़ा गांव में रह रहे थे । श्री लिबड़ा शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के पूर्व प्रधान गुरचरण सिंह तोहड़ा के बहुत निकट थे । वह चौदहवीं तथा पंद्रहवीं लोकसभा के सदस्य रहे और 1985 में पंजाब विधानसभा के सदस्य भी रहे । वह 1998-2004 में राज्यसभा के सदस्य रहे । श्री लिबड़ा ने फतेहगढ़ साहिब तथा रोपड़ संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया ।
बाद में वह अकाली दल छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गये और फतेहगढ़ साहिब लोकसभा का चुनाव जीता । उसके बाद उनका मन कांग्रेस में नहीं लगा तथा अकाली दल अध्यक्ष सुखबीर बादल के प्रयासों से घर वापसी कर ली । वह एसजीपीसी के सदस्य रहे ।
सं शर्मा
वार्ता
More News
हरियाणा में 100 करोड़ रूपये से अधिक के ठेके मिलेंगे अलग अलग ठेकेदारों को

हरियाणा में 100 करोड़ रूपये से अधिक के ठेके मिलेंगे अलग अलग ठेकेदारों को

27 Feb 2020 | 4:45 PM

चंडीगढ़, 27 फरवरी(वार्ता) हरियाणा की सभी शहरी स्थानीय निकाय के कार्यों में और अधिक पारदर्शिता लाने के दृष्टिगत तथा ठेकेदारों का एकाधिकार खत्म करने के लिये भविष्य में 100 करोड़ रुपये से अधिक के कार्य अब ठेकेदारों के समूह को संयुक्त रूप से न देकर अलग-अलग आवंटित किये जाएंगे।

see more..
image