Thursday, Feb 27 2020 | Time 16:40 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जलवायु परिवर्तन, कुपोषण के मद्देनजर फसलों की 250 किस्में विकसित: महापात्रा
  • दो परिवारों के बीच 40 साल से चली आ रही रंजिश को महापंचायत ने खत्म करवाया
  • इटावा में महिला और दो चचेरे भाईयों समेत तीन लोगों की ट्रेन से कटकर मौत
  • लगातार पाँचवें दिन टूटे बाजार, निफ्टी चार माह के निचले स्तर पर
  • वर्कइंडिया में शाओमी ने किया 42 करोड़ का निवेश
  • व्हिस्पर ने शुरू किया कीपगर्ल्सइनस्कूल अभियान
  • अमेरिका में शराब कारखाने में गोलीबारी, पांच कर्मचारियों की मौत
  • जौनपुर में 106 किलो गांजा बरामद,दो तस्कर गिरफ्तार
  • दक्षिण कोरिया में कोरोना वायरस के 505 नए मामले
  • चित्तौड़गढ़ दुर्ग की सुरक्षा के लिए छत्तीस सुरक्षा गार्ड्स तैनात-कल्ला
  • कश्मीर, लद्दाख में भूकंप के मध्यम झटके
  • हरियाणा में 100 करोड़ रूपये से अधिक के ठेके मिलेंगे अलग अलग ठेकेदारों को
  • प्रकरण न्यायालयों में लंबित रहने के कारण नहीं दिया भूखण्डों का कब्जा-धारीवाल
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


केन्द्र तथा प्रदेश सरकारें पुलिस के हाथों को काूनन की सीमा में बांधें :प्रो0 चावला

केन्द्र तथा प्रदेश सरकारें पुलिस के हाथों को काूनन की सीमा में बांधें :प्रो0 चावला

चंडीगढ़ ,14 सितंबर (वार्ता)सामाजिक कार्यकर्ता एवं भारतीय जनता पार्टी की पूर्व उपाध्यक्ष प्रो0 लक्ष्मीकांता चावला ने केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह तथा देश की राज्य सरकारों से आग्रह किया है कि वे पुलिस के हाथों को कानून की सीमा में बांधें ।

उन्होंने आज यहां एक बयान में कहा कि नए ट्रैफिक नियमों को लागू करने वाली पुलिस मानवता भूल गई। अपनी ड्यूटी भूल गई और जिस ढंग से इन दिनों चालान करने के नाम पर लोगों को बर्बरता से पीटा जा रहा है उसका क्रूर उदाहरण कल यूपी के सिद्धार्थ नगर से पूरे देश ने देखा। उस व्यक्ति का विशेष धन्यवाद जिसने पुलिस की यह गैर इंसानी हरकत पूरे देश को दिखाई, पर अफसोस यह भी है कि सड़कों पर खड़े दूसरे लोग अपनी चमड़ी की चिंता में खड़े रहे। न केाई पिटते युवक को बचाने आया और न ही उसकी बेटी को संभालने।

प्राे0 चावला ने सरकार से सवाल किया कि क्या जो हेल्मेट नहीं पहनेगा उसे जान से मार दोगे? पुलिस वालों को वर्षों पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट के एक जज ने कहा था कि यह गुंडों का संगठित गिरोह है। अब तो सड़कों पर इनका असली रूप दिखाई देने लग गया। वैसे भी कहीं अस्सी हजार रुपये का चालान, कहीं एक लाख 41 हजार का चालान और कहीं दो लाख से ज्यादा का ट्रक वाले का चालान क्या हिंदुस्तान के आम आदमी में इतनी बड़ी जुर्माना राशि देने की हिम्मत है? अच्छा हो सरकार पुलिस वालों के साथ इनकम टैक्स वालों को भी सड़कों पर भेज दे कि जो बड़ा जुर्माना दे उसकी आमदनी का स्रोत भी पूछा जाए।

उन्होंने कहा कि जनता को यह अधिकार दिया जाए कि चालान करने वाली मशीनरी स्वयं कानून का पालन नहीं करती तो उसे सड़क पर रोक कर जनता पूछे और उनके चालान करे। यह ठीक है कि इससे अराजकता पैदा होगी, पर इस अराजकता की जिम्मेवार वे सरकारें होंगी जो कानून बनाते समय देश की असलियत को नहीं समझतीं।

उन्होंने उन सांसदों से सवाल किया जिन्होंने आंखें बंद करके केवल वफादारी निभाते हुए संसद में कोई भी किंतु परंतु किए बिना इसे पास कर दिया। अच्छा हो ये बड़े लोग छह महीने के लिए यह कानून केवल पुलिस, वीआईपी, सांसद और विधायकों तथा उनके परिवारों पर लागू करे। वैसे पहले पुलिस को ट्रेनिंग दी जाए कि जनता से कैसा व्यवहार करना है।

सरकारें साावधान रहें, जनता हमेशा के लिए तंत्र की गुलाम नहीं हो सकतीं, क्योंकि यहां लोकतंत्र है।

शर्मा

वार्ता

image