Thursday, May 28 2020 | Time 06:57 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कोरोना वायरस से दुनियाभर में 3 49 लाख लोगों की मौत
  • ओमान में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 8373 हुई
  • अमेरिका में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा एक लाख के पार पहुंचा
  • तुर्की में कोरोना के 1035 मामले सामने आए
  • पोंपियो ने इंडोनेशिया के विदेश मंत्री से आर्थिक सहयोग पर की चर्चा
  • रुस में फंसे 200 फिलिस्तीनी छात्र दो सप्ताह के अंदर घर लौटेंगे : नोफल
  • मुम्बई से 1825 प्रवासी उत्तराखंडी विशेष ट्रेन से लालकुआं पहुंचे
  • वाशिंगटन में 29 मई से पाबंदियां हटेंगी ः बोसेर
  • यूएई में कोरोना के 883 नए मामले सामने आए, कुल 31969 संक्रमित
  • इटली में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 33072 हुआ
  • राजस्थान सरकार ने रेल किराया देने से मना किया तो बिहार ने किया एक करोड़ का भुगतान : सुशील
  • महराष्ट्र में कोरोना के सर्वाधिक 2190 नए मामले सामने आए
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


पंजाब जीएसटी विभाग ने किया सौ करोड़ के बिल घोटाले का पर्दाफाश

फतेहगढ़ साहिब, 25 सितंबर (वार्ता) पंजाब के फतेहगढ़ साहिब में प्रदेश के वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) विभाग ने तीन लोगों को गिरफ्तार करने के साथ कुछ ऐसी फर्म के नेटवर्क का पर्दाफाश करने का दावा किया है जो जाली बिलों के आधार पर इनपुट टैक्स विभिन्न संस्थाओं को दिलवा रही थीं।
विभाग के सूत्रों के अनुसार मंडी गोबिंदगढ़ की मेसर्स तरुण स्टील इंडस्ट्रीज, मेसर्स फॉरच्यून एलॉय्स एंड मेटल्स और मेसर्स ब्रॉडवेज सेल्स कार्पोरेशन ने मिलीभगत से 19़ 83 करोड़ टैक्स की संलिप्तता वाले 100 करोड़ रुपये के फर्जी बिल जारी किये।
इन फर्म की तरफ से विभिन्न बैंकों से 96़ 24 करोड़ रुपये निकाले गये। फर्मों ने बिल जारी किये पर माल की कोई मूवमेंट नहीं हुई और राज्य के सरकारी खजाने को 19़ 83 करोड़ रुपये की चपत लगाई गई।
प्रकरण में राजिंदर बस्सी, तरुण बस्सी और मनीष पाल को गिरफ्तार किया गया है जो क्रमश: तरुण स्टील इंडस्ट्रीज, ब्रॉडवेज सेल्स कार्पोरेशन और फॉर्चून एलॉय्स एंड मेटल्स के मालिक हैं। इन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।
विभाग ने इन फर्मों के खातों के दस्तावेज, लैपटॉप और मोबाईल फोन जब्त किये हैं और जांच अभी जारी है।
सं महेश विक्रम
वार्ता
image