Sunday, Sep 20 2020 | Time 19:32 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • लखनऊ के पीजीआई इलाके से अनी बुलियन कंपनी के फरार तीन और ठग गिरफ्तार
  • पंजाब ने जीता टॉस, पहले गेंदबाजी का फैसला
  • अल-कायदा के और आतंकवादी पकड़े जायेंगे:एनआईए
  • कृषि विधेयक कृषि क्षेत्र में नये युग का आरंभ : जयराम ठाकुर
  • राजनीति से ऊपर उठकर लड़नी होगी कोरोना से लड़ाई : तृणमूल
  • हरियाणा कृषि मंत्री नेे कृषि विधेयकों का स्वागत किया
  • राजस्थान के पहले मैच में नहीं खेल पाएंगे बटलर और स्मिथ
  • पाकिस्तान में 2018 के चुनाव में धांधली हुई : शरीफ
  • मुगुरुजा ने यूएस ओपन उपविजेता अजारेंका को किया बाहर
  • सरकार ने आम सहमति से काम किया होता तो कोविड की इतनी बुरी स्थित न होती : विपक्ष
  • सरकार ने आम सहमति से काम किया होता तो कोविड की इतनी बुरी स्थिति न होती: विपक्ष
  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से कोविड-।9 की पहचान
  • कोरोना संक्रमण को मात देने में बिहार अव्वल : मंगल
  • पहले लॉकडाउन के दौरान सरकार ने सुनहरा अवसर गँवा दिया : द्रमुक
  • 25 सितम्बर को किसानों का प्रतिरोध दिवस
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


अयोध्या में जल्द शुरू होगा भव्य श्रीराम मन्दिर निर्माण : डॉ चावला

अमृतसर, 24 अक्टूबर (वार्ता) पंजाब के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री डॉ. बलदेव राज चावला ने आज कहा कि उच्चतम न्यायालय की ओर से अयोध्या में श्रीराम मंदिर मामले पर फैसला सुरक्षित रखा जाना हिन्दू समाज और राम भक्तों के पक्ष में हो सकता है।
डॉ. चावला ने कहाकि श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए पूरा हिन्दू समाज एकजुट हो चुका है। उन्होंने कहा कि बहुतेरे मुस्लिम भी राम मन्दिर बनाने के पक्ष हैं। उन्होंने कहा कि विवादित स्थल पर केवल श्रीराम मंदिर बनाने का फैसला होना चाहिए, क्योंकि यहाँ सदियों पहले के राम लला से संबंधित पुराने अवशेष मिल चुके हैं और हिंदू पक्षकारों ने भी कहा है कि वह उस जगह को भगवान राम का जन्म स्थान मानते हैं। वह जमीन हिंदुओं को दी जानी चाहिए ताकि वे वहां पर श्री राम जी का भव्य मंदिर निर्माण कर सकें ।
डॉ. चावला ने कहाकि उच्चतम न्यायालय में ऐतिहासिक राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद की सुनवाई पूरी हो गई है और बहुत सारे मुस्लिम समुदाय भी राम मन्दिर बनाने के पक्ष हैं। हिंदू पक्ष की ओर से निर्मोही अखाड़ा, हिंदू महासभा, राम-जन्म भूमि न्यास की ओर से जो दलीलें रखी गईं हैं, वे बिलकुल सही हैं। उच्चतम न्यायालय ने इस मामले में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है, लेकिन उन्हें पूरी उम्मीद है कि वो हिन्दू समाज के पक्ष में ही आएगा। डॉ. चावला ने कहा कि 1949 में पहली बार ये मामला अदालत में गया था, लेकिन छह अगस्त को इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में अंतिम सुनवाई शुरू हुई, जो अब खत्म हुई है। डॉ. चावला ने कहा कि हिंदू पक्षकारों ने 2.77 एकड़ विवादित जमीन और आसपास अधिगृहित जमीन भी मंदिर के भव्य निर्माण के लिए मांगी है, जो कि उन्हें मिलनी चाहिए। डॉ. चावला ने कहा कि मंदिर निर्माण के बाद उसकी देखरेख और प्रबंधन के लिए ट्रस्ट बनाया जाना चाहिए।
सं.श्रवण.ठाकुर
वार्ता
More News
जींद में 15 जगहों पर नेशनल व स्टेट हाइवे पर लगाया जाम

जींद में 15 जगहों पर नेशनल व स्टेट हाइवे पर लगाया जाम

20 Sep 2020 | 6:26 PM

जींद, 20 सितंबर (वार्ता) तीन कृषि अध्यादेशों के विरोध में आज दोपहर को भारतीय किसान यूनियन समेत विभिन्न किसान संगठनों, आढ़ती व व्यापारियों, मजदूरों ने हरियाणा के जींद जिले में 15 स्थानों पर नेशनल व स्टेट हाइवे पर जाम लगा दिया।

see more..
image