Monday, Dec 9 2019 | Time 18:26 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दुष्कर्म की राजधानी बना भारत, फिर भी चुप हैं मोदी : राहुल
  • अनाज मंडी आग हादसे के लिए ऊर्जा मंत्री, कंपनी जिम्मेदार, हत्या का मुकदमा दर्ज हो: चोपड़ा
  • धोनी और पंत में बहुत फर्क: लारा
  • धोनी और पंत में बहुत फर्क: लारा
  • पश्चिम मध्य प्रदेश और सौराष्ट्र के कुछ हिस्सों में रात का तापमान सामान्य से नीचे रहा
  • युवराज की मां शबनम बनी रिपब्लिक ऑफ मेडागास्कर की कॉउंसलिएर एकनॉमिके
  • मरियम का नाम ईसीएल सूची से हटाने पर सात दिन में अंतिम फैसला ले सरकार: एचएचसी
  • आस्ट्रेलिया में जंगल में लगी आग में दो हजार से अधिक कोआला जीवाेें के मरने की आशंका
  • हथियार कानून के उल्लंघन के लिए सजा बढ़ाने वाला विधेयक लोकसभा में पारित
  • हवा से चलने वाली बाइक बनाने वाले अद्वैत ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात
  • विस्तारा का लुफ्थांसा के साथ कोड शेयर समझौता
  • दिल्ली के पत्रकार ने हरिद्वार में की आत्महत्या
  • हाईकोर्ट में न्यायाधीशों की रिक्तियों को भरने की राज्य सभा में मांग
  • विनायक गुप्ता का विस्फोटक शतक बेकार
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


अयोध्या में जल्द शुरू होगा भव्य श्रीराम मन्दिर निर्माण : डॉ चावला

अमृतसर, 24 अक्टूबर (वार्ता) पंजाब के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री डॉ. बलदेव राज चावला ने आज कहा कि उच्चतम न्यायालय की ओर से अयोध्या में श्रीराम मंदिर मामले पर फैसला सुरक्षित रखा जाना हिन्दू समाज और राम भक्तों के पक्ष में हो सकता है।
डॉ. चावला ने कहाकि श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए पूरा हिन्दू समाज एकजुट हो चुका है। उन्होंने कहा कि बहुतेरे मुस्लिम भी राम मन्दिर बनाने के पक्ष हैं। उन्होंने कहा कि विवादित स्थल पर केवल श्रीराम मंदिर बनाने का फैसला होना चाहिए, क्योंकि यहाँ सदियों पहले के राम लला से संबंधित पुराने अवशेष मिल चुके हैं और हिंदू पक्षकारों ने भी कहा है कि वह उस जगह को भगवान राम का जन्म स्थान मानते हैं। वह जमीन हिंदुओं को दी जानी चाहिए ताकि वे वहां पर श्री राम जी का भव्य मंदिर निर्माण कर सकें ।
डॉ. चावला ने कहाकि उच्चतम न्यायालय में ऐतिहासिक राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद की सुनवाई पूरी हो गई है और बहुत सारे मुस्लिम समुदाय भी राम मन्दिर बनाने के पक्ष हैं। हिंदू पक्ष की ओर से निर्मोही अखाड़ा, हिंदू महासभा, राम-जन्म भूमि न्यास की ओर से जो दलीलें रखी गईं हैं, वे बिलकुल सही हैं। उच्चतम न्यायालय ने इस मामले में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है, लेकिन उन्हें पूरी उम्मीद है कि वो हिन्दू समाज के पक्ष में ही आएगा। डॉ. चावला ने कहा कि 1949 में पहली बार ये मामला अदालत में गया था, लेकिन छह अगस्त को इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में अंतिम सुनवाई शुरू हुई, जो अब खत्म हुई है। डॉ. चावला ने कहा कि हिंदू पक्षकारों ने 2.77 एकड़ विवादित जमीन और आसपास अधिगृहित जमीन भी मंदिर के भव्य निर्माण के लिए मांगी है, जो कि उन्हें मिलनी चाहिए। डॉ. चावला ने कहा कि मंदिर निर्माण के बाद उसकी देखरेख और प्रबंधन के लिए ट्रस्ट बनाया जाना चाहिए।
सं.श्रवण.ठाकुर
वार्ता
image