Friday, Jul 10 2020 | Time 18:46 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • औरंगाबाद में कोरोना के 183 नये मामलों की पुष्टि
  • तेलंगाना : न्यायालय ने सचिवालय में इमारतों को तोड़ने के काम पर लगाई रोक
  • पटेल ने राजनाथ को दी जन्मदिन की बधाई
  • हुमांयू के मकबरे में पटेल ने किया वृक्षारोपण
  • हमीरपुर में पांच और कोरोना पाॅजटिव, संक्रमितों की संख्या पहुंची 110
  • सारण में करंट लगने से एक व्यक्ति की मौत
  • जींद जेल में दो बंदियों से मोबाइल फोन बरामद
  • मैथिली भाषा की पढ़ाई का वादा कांग्रेस के घोषणा पत्र में : प्रेमचंद्र
  • लाॅकडाउन के मद्देनजर मथुरा के प्रमुख मंदिर श्रद्धालुओं के लिए दो दिन बन्द रहेंगे
  • केरल सोना तस्करी मामला: युवा संगठनों ने मुख्यमंत्री से मांगा इस्तीफा
  • हरियाणा में पशु किसान क्रेडिट कार्ड योजना शुरू,पशुपालक ले सकेंगे ऋण
  • वेंकैया ने संसदीय समितियां की बैठक शुरू होने पर जताई खुशी
  • अब कॉलेज के पाठ्यक्रम में शामिल होगा क्लाउड कंप्यूटिंग
  • होटलों के लाइसेंस की वैधता की अवधि 30 सितम्बर तक बढ़ी
  • आंगनवाड़ीकर्मियों को सुरक्षा, न्यूनतम वेतन, पेंशन देने की मांग
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


आरसीईपी देश हित में नहीं था: गोयल

धर्मशाला, 08 नवंबर (वार्ता) केंद्रीय वाणिज्य, उद्योग एवं रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कुछ दिनों पहले दक्षिण पूर्वी एवं पूर्व एशिया के 16 देशों के बीच मुक्त व्यापार व्यवस्था के लिये प्रस्तावित क्षेत्रीय सम्रग आर्थिक साझेदारी आर सी ई पी समझौते को भारत के करोड़ों लोगों के जीवन एवं आजीविका के लिए प्रतिकूल बताते हुए सिर्फ इसलिए इन्कार किया था कि वह देश के आम लोगों के हित में नहीं था।
श्री गोयल ने शुक्रवार को यहाँ ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट, राइजिंग हिमाचल के समापन समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि श्री मोदी ने वह निर्णय देश के करोड़ों लोगों के जीवन को देखकर लिया था कि हम भारत को विदेशी आयातित माल को खपाने का मैदान नहीं बनने देना चाहते हैं।
श्री गोयल ने हिमाचल इन्वेस्टर मीट में हिस्सा लेने आये देशी-विदेशी निवेशकों से कहा कि यह प्रदेश प्राकृतिक संपदा से पूर्ण है और उन्हें इसका लाभ उठाना चाहिए।
उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश के पर प्रत्येक व्यक्ति के खून में ईमानदारी और मेहनत का जज्बा है तथा वे जहाँ भी जाते हैं, अपनी पहचान बनाते हैं। वाणिज्य मंत्री ने कहा कि हिमाचल प्रदेश पूरे देश को फल देता है औऱ अब समय आ गया है कि इस निवेश सम्मेलन का फल उसे दिया जाए।
श्री गोयल ने इस बात पर खुशी जताई कि हिमाचल देश का शायद पहला राज्य हैं जिसे अपने पहले इन्वेस्टर मीट में 92000 करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव मिले हैं। श्री गोयल ने कहा कि आने वाले समय मे प्रदेश के हर परिवार को उज्जवला योजना के तहत कुकिंग गैस दी जाएगी।
श्री गोयल ने कहा कि लोग पर्यटन के लिए गोवा वहाँ के समुद्री तट देखने जाते हैं उसी तरह लोगों को यहां के पहाड़ों को देखकर सौन्दर्य का आनंद लेना चाहिए। गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश को निवेश सम्मेलन के दौरान 92000 करोड़ रुपये के प्रस्ताव मिले है और 614 सहमति पत्रों पर हस्ताक्षर किए गए हैं।
जितेंद्र.श्रवण
वार्ता
More News
नागरिकों को समयबद्ध सेवाएं सुनिश्चित करने हेतु हरियाणा में बनेगा ई-सचिवालय

नागरिकों को समयबद्ध सेवाएं सुनिश्चित करने हेतु हरियाणा में बनेगा ई-सचिवालय

10 Jul 2020 | 5:43 PM

चंडीगढ़, 10 जुलाई(वार्ता) हरियाणा सरकार ने ई-गवर्नेंस की दिशा में एक और कदम उठाते हुए नागरिकों को समयबद्ध तरीके से नागरिक केंद्रित सेवाएं प्रदान करने हेतु डिजिटल प्लेटफॉर्म ‘ई-सचिवालय’ शुरू करने का फैसला लिया है।

see more..
image