Monday, Dec 16 2019 | Time 08:25 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हांगकांग में प्रदर्शन, पुलिस ने किया आंसू गैस का इस्तेमाल
  • झारखंड में 15 विधानसभा सीटों के लिए मतदान शुरू
  • झारखंड में 15 विधानसभा सीटों के लिए मतदान शुरू
  • खाड़ी क्षेत्र में अमेरिकी सेना की मौजूदगी खतरनाक : ईरान
  • इराक में इस्लामिक स्टेट के हमले में दो पुलिसकर्मियों की मौत
  • लेबनान में हिंसक झड़पों में 77 घायल
  • कांगो में आतंकवादी हमले में 22 लोगों की मौत
  • बंगाल में भाजपा ने राज्यपाल से राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश की
  • नागरिकता संशोधन कानून सावरकर के सिद्धांतों के खिलाफ : ठाकरे
  • जामिया में पुलिस कार्रवाई की होनी चाहिए जांच : कांग्रेस
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


आरसीईपी देश हित में नहीं था: गोयल

धर्मशाला, 08 नवंबर (वार्ता) केंद्रीय वाणिज्य, उद्योग एवं रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कुछ दिनों पहले दक्षिण पूर्वी एवं पूर्व एशिया के 16 देशों के बीच मुक्त व्यापार व्यवस्था के लिये प्रस्तावित क्षेत्रीय सम्रग आर्थिक साझेदारी आर सी ई पी समझौते को भारत के करोड़ों लोगों के जीवन एवं आजीविका के लिए प्रतिकूल बताते हुए सिर्फ इसलिए इन्कार किया था कि वह देश के आम लोगों के हित में नहीं था।
श्री गोयल ने शुक्रवार को यहाँ ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट, राइजिंग हिमाचल के समापन समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि श्री मोदी ने वह निर्णय देश के करोड़ों लोगों के जीवन को देखकर लिया था कि हम भारत को विदेशी आयातित माल को खपाने का मैदान नहीं बनने देना चाहते हैं।
श्री गोयल ने हिमाचल इन्वेस्टर मीट में हिस्सा लेने आये देशी-विदेशी निवेशकों से कहा कि यह प्रदेश प्राकृतिक संपदा से पूर्ण है और उन्हें इसका लाभ उठाना चाहिए।
उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश के पर प्रत्येक व्यक्ति के खून में ईमानदारी और मेहनत का जज्बा है तथा वे जहाँ भी जाते हैं, अपनी पहचान बनाते हैं। वाणिज्य मंत्री ने कहा कि हिमाचल प्रदेश पूरे देश को फल देता है औऱ अब समय आ गया है कि इस निवेश सम्मेलन का फल उसे दिया जाए।
श्री गोयल ने इस बात पर खुशी जताई कि हिमाचल देश का शायद पहला राज्य हैं जिसे अपने पहले इन्वेस्टर मीट में 92000 करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव मिले हैं। श्री गोयल ने कहा कि आने वाले समय मे प्रदेश के हर परिवार को उज्जवला योजना के तहत कुकिंग गैस दी जाएगी।
श्री गोयल ने कहा कि लोग पर्यटन के लिए गोवा वहाँ के समुद्री तट देखने जाते हैं उसी तरह लोगों को यहां के पहाड़ों को देखकर सौन्दर्य का आनंद लेना चाहिए। गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश को निवेश सम्मेलन के दौरान 92000 करोड़ रुपये के प्रस्ताव मिले है और 614 सहमति पत्रों पर हस्ताक्षर किए गए हैं।
जितेंद्र.श्रवण
वार्ता
image