Saturday, Jan 18 2020 | Time 19:58 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सिद्दारमैया ने बाढ़, मंगलुरु फायरिंग पर शाह को घेरा
  • दिल्ली विस के पूर्व अध्यक्ष कांग्रेस नेता योगानंद शास्त्री का पार्टी से इस्तीफा
  • गरीबों के लिए समर्पित है झारखंड सरकार : हेमंत
  • शबाना सड़क दुर्घटना में घायल, अस्पताल में भर्ती
  • झारखंड में 139 कैदी होंगे रिहा
  • राजधानी भोपाल में ‘सीवियर कोल्ड डे’ सहित मध्यप्रदेश के आठ शहरों में ‘कोल्ड डे’
  • सोमालिया में अल-शबाब के 16 आतंकवादी ढेर
  • गंगटा जंगल में लूटपाट कर रहे तीन अपराधी गिरफ्तार
  • आदर्श शास्त्री ने कांग्रेस का दामन थामा
  • ज़ी ने लांच किया भोजपुरी मूवी चैनल ज़ी बाइस्कोप
  • तृणमूल के लिए कब्र साबित होगा नंदीग्राम : घोष
  • नये चयनकर्ताओं की भर्ती के लिये बोर्ड ने मांगे आवेदन
  • नये चयनकर्ताओं की भर्ती के लिये बोर्ड ने मांगे आवेदन
  • कामेश्वर सिंह संस्कृत विवि का अगले वित्त वर्ष का पांच अरब से अधिक का बजट
  • जरीफ ने यूक्रेन विमान हादसे के राजनीतिकरण के प्रयास के खिलाफ दी चेतावनी
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


करतारपुर कॅरीडोर : बादल ने मोदी से पासपोर्ट की शर्त हटाने की मांग की

करतारपुर कॅरीडोर : बादल ने मोदी से पासपोर्ट की शर्त हटाने की मांग की

चंडीगढ़, 15 नवंबर (वार्ता) शिरोमणि अकाली दल (शिअद) अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध किया कि पाकिस्तान के साथ करतारपुर कॉरीडोर को लेकर किये करार में संशोधन करवाकर उस प्रावधन को हटवाया जाये जिसके तहत श्रद्धालुओं के लिए पासपोर्ट की अनिवार्यता है और इसके अलावा दस्तावेजीकरण को सरल व पुष्टि प्रक्रिया को भी सरल बनाया जाए।

श्री बादल ने प्रधानमंत्री को इस संबंध में पत्र लिखा है। उनके अनुसार पासपोर्ट की अनिवार्यता और जटिल प्रक्रिया के कारण ही पांच हजार श्रद्धालुओं के बजाय कुछ सौ श्रद्धालु ही करतारपुर साहब जा सके।

श्री बादल ने कहा कि वैसे भी पासपोर्ट पर प्रवेश अथवा निकासी का ठप्पा नहीं लग रहा तथा श्रद्धालुओं को केवल गुरूद्वारे तक जाने दिया जा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान की तरफ से भी इस मुद्दे पर भ्रम की स्थिति है। जहां प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि श्रद्धालुओं को पासपोर्ट की आवश्यकता नहीं है वहीं वहां की सेना ने कहा कि यह एक पूर्व शर्त है जिसके बिना श्रद्धालुओं को नहीं आने दिया जाएगा।

शिअद अध्यक्ष के अनुसार इसके अलावा ग्रामीण और गरीब लोगों को पासपोर्ट बनाने का अतिरिक्त खर्चा प्रति व्यक्ति करीब दो हजार रुपये पड़ जाएगा। इसलिए पासपोर्ट की अनिवार्यता पूरी तरह समाप्त होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इसके बजाय आधार कार्ड जैसा पहचान पत्र हो सकता है। उन्होंने कहा कि पंजीकरण की प्रक्रिया को भी सरल बनाना चाहिए। एक मोबाईल एप्लीकेशन बनाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि पुलिस वेरीफिकेशन की प्रक्रिया दस दिन लेती है, इसका सरलीकरण कर ग्राम पंचायत अथवा वार्ड पार्षद को अधिकृत किया जा सकता है।

सं महेश विक्रम

वार्ता

image