Sunday, Jan 19 2020 | Time 19:41 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • रोहित बने दुनिया के 20वें नौ हजारी
  • मध्यप्रदेश के पांच शहरों में ‘सीवियर कोल्ड डे’और 5 में ‘कोल्ड डे,भोपाल में कोल्ड डे की हैट्रिक
  • उत्तराखंड में चीन सीमा को जोड़ने वाला पुल गिरा, दो घायल
  • बिहार ने अनुमान से अधिक 18034 किमी लम्बी मानव श्रृंखला बनाकर तोड़े सारे रिकॉर्ड
  • उप्र के प्रमुख नगरों का तापमान इस प्रकार रहा
  • लेबनान में पुलिस,प्रदर्शनकारियों में झड़प,169 घायल
  • सीएए के विरोध में नारे लगाने वाला युवक हिरासत में
  • एनआरसी महाराष्ट्र में भी नहीं होगा लागू : अवध
  • चंबा में महसूस किये गये भूकंप के हल्के झटके
  • सैनिक की शहादत पर मुख्यमंत्री ने जताया शोक
  • भारत ने हॉलैंड को शूट आउट में हराया
  • भारत ने हॉलैंड को शूट आउट में हराया
  • हरदोई पुलिस ने असलहा बनाने की फैक्ट्री का किया पर्दाफाश,तीन गिरफ्तार
  • बागपत पुलिस ने बरामद की 60 लाख की शराब,एक गिरफ्तार
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


कॉलेज छात्राओं के लिये चलेंगी 181 विशेष बसें: गुर्जर

चंडीगढ़, 27 नवम्बर(वार्ता) हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुर्जर ने कहा है कि प्रदेश के विभिन्न सरकारी कालेजों में पढ़ने वाली छात्राओं को उनके घर से कालेज तक परिवहन सुविधा प्रदान करने के लिये 181 बसें चलाने का फैसला लिया गया है।
श्री गुर्जर ने बताया कि राज्य सरकार ने ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ योजना के तहत प्रदेश के सरकारी कालेजों में पढ़ने वाली छात्राओं को उनके निवास स्थान गांव या कस्बा से उनके कालेज तक परिवहन सुविधा उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि आमतौर पर देखने में आया है कि स्कूली शिक्षा के बाद बेटियों को घर से दूर पढ़ाने से अभिभावक कतराते हैं और मजबूरी में बेटियों को उच्चतर शिक्षा से वंचित होना पड़ता है। राज्य सरकार बेटियों की उच्चतर शिक्षा के प्रति रूचि उत्पन्न करने तथा उनको रोजगारपरक बनाकर स्वावलंबी बनाने के लिए प्रयासरत है।
शिक्षा मंत्री ने बताया कि हरियाणा के सरकारी कालेजों में पढ़ने वाली बेटियों को यातायात की चुनौती से चिंतामुक्त कर उनको कालेज तक सुरक्षित पहुंचाने के लिए राज्य सरकार ने उनके लिए विशेष बसें चलाने का निर्णय लिया है। इसके लिए उच्चतर शिक्षा विभाग ने राज्य के सभी सरकारी कालेजों के प्राचार्यों से 30 नवम्बर तक विवरण मांगा है ताकि उनका रूट बनाया जा सके। बेटियों से पूछकर प्रोफार्मा में कॉलम भरा जाएगा कि वे किस जगह से बस में बैठना चाहती हैं और कौन से कालेज के पास उतरना है। उन्होंने बताया कि यह सुविधा राज्य की करीब 1.10 लाख छात्राओं को उपलब्ध कराई जाएगी।
रमेश1956वार्ता
image