Tuesday, Oct 20 2020 | Time 16:48 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हेमंत से झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन के प्रतिनिधिमंडल ने मुलाकात की
  • मेक्सिकन ओपन 2021 में भाग लेंगे ज्वेरेव
  • मेक्सिकन ओपन 2021 में भाग लेंगे ज्वेरेव
  • नैनीताल रोप-वे मामले में सरकार और सभी पक्षकार उचित समाधान निकालें: हाईकोर्ट
  • आंध्र में अगले 48 घंटों में भारी बारिश के आसार
  • हिमाचल में प्रशासनिक फेरबदल, सात जिलों के उपायुक्तों समेत 21 आईएएस बदले
  • नीतीश सरकार ने बिहार में राेजगार देने की कोई पहल ही नहीं की : तेजस्वी
  • उमर, महबूबा ने की इंस्पेक्टर की हत्या की निंदा
  • वामपंथी नेता मारुति मनपाडे का कोरोना से निधन
  • तीसरे दिन चढ़ा शेयर बाजार, सेंसेक्स 113 अंक मजबूत
  • भाजपा नेता दिलीप घोष को अस्पताल से मिली छुट्टी
  • केजरीवाल तेलंगाना को 15 करोड़ की देंगे मदद
  • प्लेऑफ की दावेदारी पुख्ता करने उतरेंगे बेंगलुरु और कोलकाता
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


यूथ अकाली दल नेता की गोली मारकर हत्या

बठिंडा, 06 सितंबर (वार्ता) पंजाब के बठिंडा शहर में रेलवे कालोनी के पास कल देर रात यूथ अकाली दल के नेता, जिस पर इरादा ए कत्ल का मामला दर्ज है, की कुछ अज्ञात लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी।
लाल सिंह बस्ती, गली नंबर नौ निवासी 23 वर्षीय सुखनप्रीत सिंह सिद्धू दल का जिला उपप्रधान था। देर रात सड़क के किनारे एक्टिवा के पास उनका रक्तरंजित शव मिला। उसे गोली मारी गई थी।
पुलिस ने मृतक के परिजनों के बयान दर्ज किये हैं और पुलिस के अनुसार हत्या का कारण आपसी रंजिश हो सकता है। पुलिस के अनुसार सुखनप्रीत का लाइसेंसी पिस्टल और 40 हजार रुपये गायब मिले हैं और एक्टिवा और मोबाईल मौके पर मिला है।
सुखनप्रीत के पिता सेवामुक्त पुलिस कर्मी गुरविंदर सिंह ने बताया कि शनिवार रात करीब सवा नौ बजे उनका बेटा घर से 40 हजार रुपये की नकदी व नई एक्टिवा लेकर निकाला था। वह घर पर बोलकर गया था कि उसने यह पैसे किसी को देने हैं और कुछ ही देर में वह वापस आ जाएगा। उसके पास लाइसेंसी पिस्टल भी था।
इस दौरान उसके पास अपना लाइसेंस पिस्टल भी था, जो वह कई लोगों के साथ दुश्मनी के कारण अपनी सुरक्षा के लिए हर समय अपने पास रखता था। गुरविंदर सिंह ने बताया कि करीब एक सवा घंटा बीत जाने के बाद जब उनका बेटा घर वापस नहीं लौटा तो उन्होंने उसका फोन मिलाया, लेकिन कोई जबाव नहीं मिला।
करीब साढ़े दस बजे जब उन्होंने दोबारा फोन किया तो एक पुलिस मुलाजिम ने फोन उठाया और उन्हें पुराना थाना कैनाल कालोनी के पास ठंडी सड़क पर स्थित रेलवे की पानी वाली डिग्गियों के पास बुलाया। जब वह अपनी पत्नी परमजीत कौर के साथ मौके पर पहुंचे तो देखा कि उसके बेटे सुखनप्रीत की लाश खून से लथपथ पड़ी हुई थी, जबकि उसके सिर में गोली लगी हुई थी।
उन्होंने बताया कि सुखनप्रीत का लाइसेंसी पिस्टल और 40 हजार रुपये गायब थे। शिरोमणि अकाली दल नेता और पूर्व विधायक सरूपचंद सिंगला ने हत्या की उच्च स्तरीय जांच करवाने की मांग की है।
सं महेश विक्रम
वार्ता
image