Thursday, Oct 29 2020 | Time 07:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • शेटलैंड में भूकंप के झटके महसूस किये गए
  • कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच फ्रांस में नया लॉकडाउन
  • अर्मेनिया के मिसाइल हमले में 21 नागरिकों की मौत : अजरबैजान
  • इंग्लैंड में कोरोना के कारण अपराधों में भारी कमी
  • चिली में भूकंप के तेज झटके
  • तुर्की में कोरोना संक्रमितों की संख्या 368,513 हुई
  • जर्मनी में कोरोना के मामलों में एक बार फिर उछाल
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


प्राकृतिक खेती किसानों के लिये वरदान सिद्ध होगी :कंवर

शिमला, 10 सितंबर (वार्ता) हिमाचल प्रदेश के कृषि मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा है कि सुभाष पालेकर प्राकृतिक खेती विधि पूरी तरह वैज्ञानिक है और इसमें बताए गए सभी आदान वैज्ञानिक अनुसंधान के बाद ही अनुमोदित किए गए हैं।
एक दिवसीय किसान प्रतिनिधि कार्यशाला का वीरवार को आयोजन किया गया जिसमें उन्होंने कहा कि इस खेती विधि को बड़ी तेजी से किसान-बागवान अपना रहे हैं। प्राकृतिक खेती आज समय की मांग है और यही एकमात्र ऐसी विधि है जो भविष्य के लिए कृषि क्षेत्र को संरक्षित रख सकती है।
उन्होंने कहा कि किसान प्रतिनिधि सरकार की योजनाओं और किसानों के बीच में एक कड़ी के रूप में काम करते हैं। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से शुरू की गई प्राकृतिक खेती खुशहाल किसान योजना के सफल परिणाम देखने को मिल रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में अभी तक 77,107 किसानों ने 45 हजार बीघा से अधिक भू-भाग में प्राकृतिक खेती को शुरू कर दिया है।
मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने वर्ष 2022 तक प्रदेश को प्राकृतिक खेती राज्य बनाने का लक्ष्य रखा है और इसके लिए क्रमबद्ध तरीके से काम किया जा रहा है। प्राकृतिक खेती कर रहे हजारों लोगों के ऐसे उदाहरण खड़े हो चुके हैं जिनमें किसानों की कृषि लागत में कमी आने के साथ मुनाफा कई गुना बड़ गया है। उन्होंने भाजपा के किसान मोर्चा के प्रतिनिधियों को सरकार की इस योजना को हरेक किसान तक पहुंचाने के लिए कहा।
इस अवसर पर प्राकृतिक खेती खुशहाल किसान योजना के कार्यकारी निदेशक प्रो. राजेश्वर सिंह चंदेल ने प्राकृतिक खेती विधि की तकनीक के बारे में किसान मोर्चा के प्रतिनिधियों को विस्तार से जानकारी दी। साथ ही किसान प्रतिनिधियों की ओर से आए सुझावों और सवालों के भी जवाब दिए।
सं शर्मा
वार्ता
image