Tuesday, Apr 20 2021 | Time 01:07 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • एमसीआई रजिस्ट्रार रिश्वत लेते गिरफ्तार
  • उत्तराखंड में कोविड से लड़ने को समुचित व्यवस्थाएं: पांडे
  • तीरथ ने की कोविड स्थिति की वर्चुअल समीक्षा
  • देश में कोरोना सक्रिय मामले 20 लाख के पार
  • केरल में कोरोना सक्रिय मामले एक लाख के पार
  • कर्नाटक में कोरोना के 15000 से अधिक नये मामले, 146 की मौत
  • बंगाल में चार आईपीएस अधिकारियों के तबादले
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


किसानों के लिए एचयू मील का पत्थर साबित हो रही : प्रोफेसर समर

हिसार, 01 फरवरी (वार्ता)चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय, हिसार किसानों के लिए मील का पत्थर साबित हो रहा है जिसकी बदौलत किसान विभिन्न फसलों के उत्पादन में दिन दोगुनी रात चौगुनी तरक्की कर रहा है।
विवि के वैज्ञानिकों तथा किसानों का अटूट रिश्ता है। यह सब विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों द्वारा विकसित की गई और किसानों द्वारा अपनाई गई विभिन्न फसलों की उन्नत किस्मों व तकनीकों का ही नतीजा है कि आज प्रदेश का देश के खाद्यान भण्डारण और फसल उत्पादन में अग्रणी प्रदेशों में नाम है। हालांकि हरियाणा प्रदेश क्षेत्रफल की दृष्टि से अन्य प्रदेशों से काफी छोटा है लेकिन यहां के किसानों की मेहनत व एचएयू के वैज्ञानिकों के निरंतर प्रयासों की बदौलत इसकी देश में अलग पहचान है।
ये विचार चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर समर सिंह ने आज विश्वविद्यालय की स्थापना दिवस पर व्यक्त किये । एक नवंबर 1966 को संयुक्त पंजाब के हरियाणा व पंजाब के अलग होने के बाद 2 फरवरी 1970 को हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय की स्थापना की गई। तब से लेकर निरंतर यह विश्वविद्यालय राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी अलग पहचान बनाए हुए है।
उन्होंने कहा कि जब प्रदेश संयुक्त पंजाब से अलग हुआ तो उस समय हरियाणा प्रदेश का वर्ष 1966-67 में खाद्यान उत्पादन केवल 2.59 लाख टन था। इसके बाद वर्ष 2000-2001 में बढ़कर 13.29 लाख टन हो गया और अब वर्ष 2019-20 में यह बढ़कर 17.86 लाख टन हो गया है। प्रदेश में हरित क्रांति की सफलता व खाद्यान उत्पादन में अपार वृद्धि हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों द्वारा अधिक पैदावार वाली विभिन्न फसलों की किस्में विकसित करना, नई-नई तकनीकें इजाद करना, अथक प्रयासों, लगन, दूरगामी सोच और प्रदेश के किसानों की कड़ी मेहनत का ही परिणाम है। आज देशभर के केंद्रीय खाद्यान भण्डारण में प्रदेश का कुल भण्डारण का 16 प्रतिशत है जो अपने आप में बहुत बड़ी उपलब्धि है। इसमें गेहूं 9.3 लाख टन और चावल 4.2 लाख टन शामिल हैं। आज हरियाणा प्रदेश गेहूं के प्रति हेक्टेयर उत्पादन क्षमता में देश में नंबर वन है। अकेला हरियाणा देश का 60 प्रतिशत बासमती का उत्पादन करता है जबकि कुल चावल उत्पादन में प्रदेश दूसरे स्थान पर है। इसी प्रकार दलहन व तिलहनी फसलों में बढ़ते उत्पादन को लेकर भी विश्वविद्यालय ने अपनी अलग पहचान बनाई है।
कुलपति ने कहा कि विश्वविद्यालय के साथ लगातार नए आयाम जुड़ रहे हैं। विश्वविद्यालय की स्थापना से लेकर अब तक विश्वविद्यालय ने विभिन्न फसलों की 250 नई व उन्नत किस्मेें विकसित की हैं जो रोग प्रतिरोधी व अधिक पैदावार देने वाली हैं। अब तक 533 राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एमओयू साइन हो चुके हैं। अभी तक विश्वविद्यालय को 17 पेटेंट, 5 कॉपीराइट और दो डिजाइनों को स्वीकृति मिल चुकी है। इसके अलावा 49 पेटेंट, 1 कॉपीराइट व 2 डिजाइन विश्वविद्यालय की ओर से स्वीकृति के लिए अप्लाई किए गए हैं।
उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय को राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई पुरस्कारों से भी नवाजा जा चुका है। इनमें से देश के सभी कृषि विश्वविद्यालयों मेें भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा मिली प्रथम राष्ट्रीय पुरस्कार व हाल ही में विश्वविद्यालय को मिली प्रथम अटल रैंकिंग शामिल हैं। इसके अलावा विश्वविद्यालय को भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर), कृषि मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा 2019 के लिए जारी आईसीएआर रैंकिंग में राज्य कृषि विश्वविद्यालयों में तीसरा स्थान मिला है।
प्रोफेसर सिंह ने बताया कि पिछले 20 वर्षों में गेहूं व चावल के उत्पादन में रिकार्ड वृद्धि हुई है। विश्वविद्यालय द्वारा विकसित उन्नत किस्मों व आधुनिक तकनीकों से प्रदेश का किसान समृद्ध और खुशहाल हो रहा है। विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक भी लगातार किसानों को ध्यान में रखते हुए अपने शोध कार्यों को आगे बढ़ा रहे हैं। अब तक विश्वविद्यालय द्वारा गेहूं की 23 किस्मों को विकसित किया गया है जिनमें 14 किस्में राष्ट्रीय स्तर पर जबकि 9 किस्में प्रदेश स्तर के किसानों के लिए जारी की गई हैं। मौजूदा समय में विश्वविद्यालय ने गेहूं की डब्ल्यूएच 1187 व डब्ल्यूएच 1105 जैसी उन्नत किस्में विकसित की हैं जिनका उत्पादन प्रति हेक्टेयर 61.2 क्विंटल से 71.6 क्विंटल तक आंका गया है।
उन्होंने बताया कि चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय एक साथ सात सामुदायिक रेडियो स्टेशन स्थापित करने वाला देश का पहला कृषि विश्वविद्यालय बन गया है। हिसार स्थित विश्वविद्यालय कैंपस, झज्जर, रोहतक, जींद, पानीपत, कुरूक्षेत्र व सिरसा के कृषि विज्ञान केंद्रों पर इन स्टेशनों को स्थापित किया गया है।
विश्वविद्यालय ग्रामीण व शहरी महिलाओं, युवाओं व प्रदेश के किसानों को स्वावलम्बी, समृद्ध और आर्थिक रूप से संपन्न बनाने की दिशा में प्रयासरत है। इसमें महिलाओं के लिए गृह विज्ञान महाविद्यालय द्वारा विभिन्न प्रकार के कोर्स व सायना नेहवाल कृषि प्रौद्योगिकी प्रशिक्षण एवं शिक्षण संस्थान द्वारा कराए जाने वाले कोर्स व प्रशिक्षण शामिल हैं। इसी प्रकार विश्वविद्यालय में कृषि अवशेष प्रबंधन हेतु नवाचार केंद्र स्थापित किया गया है, जिसके शुरू होने के बाद बायोगैस व सीएनजी गैस के साथ-साथ कृषि अवशेषों से खाद व बिजली उत्पादन भी शुरू हो जाएगा। दीन दयाल उपाध्याय जैविक खेती उत्कृष्टता केंद्र भी जैविक खेती की दिशा में अहम भूमिका निभा रहा है।
विश्वविद्यालय ने उत्तर भारत के एकमात्र व देश के दूसरे एग्री बिजनेस सेंटर की शुरूआत की है, जिसमें कोई भी किसान, युवा, गृहिणी, विद्यार्थी इत्यादि कृषि व कृषि से संबंधित इनोवेटिव आइडिया को लेकर इस केंद्र के माध्यम से अपना व्यवसाय स्थापित कर सकता है। फसल विविधिकरण, कृषि वैज्ञानिकों की सलाह व बेहतर तकनीकों को अपनाकर किसान अपनी आय में वृद्धि कर सकते हैं। बागवानी, कृषि वानिकी, मधुमक्खी पालन, पुष्प उत्पादन, पशुपालन, मुर्गीपालन, खुम्ब उत्पादन, मत्स्य पालन, केंचुआ खाद उत्पादन इत्यादि व्यवसाय अपनाकर किसान छोटी जोत होते हुए भी अपनी आमदनी में इजाफा कर सकते हैं।
खेती से जुड़ी समस्याओं के निदान के लिए विश्वविद्यालय की नि:शुल्क दूरभाष सेवा व मौसम से संबंधित जानकारी के लिए ई-मौसम के माध्यम से देश व प्रदेश के लाखों किसान लाभ उठा रहें हैं।
सं शर्मा
वार्ता
More News
हिमाचल में सभी शिक्षण संस्थान एक मई तक बंद: जयराम

हिमाचल में सभी शिक्षण संस्थान एक मई तक बंद: जयराम

19 Apr 2021 | 8:46 PM

शिमला, 19 अप्रैल (वार्ता) हिमाचल प्रदेश सरकार ने राज्य में कोविड के बढ़ते मामलों के दृष्टिगत सभी शिक्षण संस्थान एक मई तक बंद रखने के आदेश जारी किये हैं तथा इस दौरान स्कूलों, काॅलेजों और विश्वविद्यालयों के अध्यापकों का भी अवकाश रहेगा।

see more..
पंजाब में आरटीपीसीआर,आरएटी जांच दर में कमी, सिनेमा घर/बार/जिम/कोचिंग सेंटर बंद

पंजाब में आरटीपीसीआर,आरएटी जांच दर में कमी, सिनेमा घर/बार/जिम/कोचिंग सेंटर बंद

19 Apr 2021 | 8:37 PM

चंडीगढ़, 19 अप्रैल(वार्ता) पंजाब में कोरोना के रौद्र रूप धारण करने पर राज्य सरकार ने इस पर नियंत्रण लगाने के लिये आज अनेक अहम फैसले लिये जिनके तहत आरटीपीसीआर और आरएटी जांच दरों में कमी करने के साथ ही बड़ी संख्या में लोगों के एकत्रित होने वाले स्थलों पर पाबंदी लगा दी गई है। ये सभी फैसले मंगलवार से लागू होंगे।

see more..
हिमाचल पर बढ़ते कर्ज के लिए पूर्व सरकारें जिम्मेवारः जयराम ठाकुर

हिमाचल पर बढ़ते कर्ज के लिए पूर्व सरकारें जिम्मेवारः जयराम ठाकुर

19 Apr 2021 | 7:53 PM

हमीरपुर, 19 अप्रैल (वार्ता) हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने राज्य में बढ़ते कर्ज के लिए पूर्व सरकारों को जिम्मेदार बताया है।

see more..
image