Thursday, Jul 25 2024 | Time 00:13 Hrs(IST)
image
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


जी-20 समिट में पहुंचे विदेशी मेहमानों ने ढोल की थाप पर किया भांगड़ा, चखा पंजाबी व्यंजनों का स्वाद

अमृतसर, 16 मार्च (वार्ता) अमृतसर में चल रहे जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान विभिन्न देशों के प्रतिनिधि शिक्षा क्षेत्र की बेहतरी के लिए चर्चा कर रहे हैं और इस दौरान वे भरपूर लुत्फ भी उठा रहे हैं।
स्थानीय होटल रेडिसन ब्लू में कल शाम दूसरे एजुकेशन वर्किंग ग्रुप सेमिनार के बाद, होटल के प्रांगण में विदेशी मेहमानों के स्वागत के लिए एक पंडाल का आयोजन किया गया, जिसमें पंजाब की समृद्ध संस्कृति और आचार-बिहार को प्रदर्शित करने के लिए कलाकारों द्वारा लोक वाद्ययंत्रों और लोक गीतों की सुंदर प्रस्तुति दी गई। पारंपरिक पंजाबी परिधानों में सजे कलाकारों द्वारा पंजाबी लोक संगीत के खूबसूरत रंगों को पारंपरिक वाद्य यंत्रों जैसे तुब्बी, अलगोज, सारंगी, ढोल, नगाड़ा, बीन, बौंसारी, चिमटा, बुग्चू, छायने आदि के साथ प्रस्तुत किया गया। ढोल की थाप और तरह-तरह के वाद्य यंत्रों की मनमोहक आवाज ने विदेशी मेहमानों को भांगड़ा और डांस करने पर मजबूर कर दिया। विदेशी मेहमानों ने पंजाबी कलाकारों के साथ भांगड़ा और गिद्दा बजाकर अपनी खुशी का इजहार किया। इस मौके पर विदेशी मेहमानों ने पंजाबी व्यंजनों का लुत्फ उठाया।
इस अवसर पर दक्षिण अफ्रीका का प्रतिनिधित्व करने वाले निदेशक इंस्टीट्यूशनल फंडिंग अल्फ्रेड मैकागाटो ने पंजाब के आतिथ्य की प्रशंसा की और कहा कि उन्होंने पंजाब और पंजाबियों के खुलेपन के बारे में बहुत सुना था और आज उन्होंने यहां पंजाबियों और अमीरों के आतिथ्य का आनंद लिया। उन्होंने कहा,“ मैंने यहां की संस्कृति देखी है। उन्होंने कहा कि ढोल की थाप ने उन्हें भांगड़ा डालने से नहीं रोका और भांगड़ा डालकर उन्हें बहुत अच्छा लगा। ”
चीन की राजधानी बीजिंग से पहुंचे डेयुंग युआन डिप्टी डीन ग्रेजुएट स्कूल ऑफ एजुकेशन ने भी पंजाबी लोकनृत्य भांगड़ा और पंजाबी खाने की तारीफ करते हुए कहा कि पंजाबियों में मेहमाननवाजी का कोई जबाव नहीं है। उन्होंने कहा कि वह पहली बार भारत और पंजाब आए हैं और यहां के लोगों के दोस्ताना स्वभाव और आतिथ्य ने उनका दिल जीत लिया है।
विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के निदेशक अबू धाबी हेंड-उल-तायर और यूनिसेफ, न्यूयॉर्क के वरिष्ठ शिक्षा सलाहकार निकोलस रीयूज के प्रतिनिधियों ने भी ढोल की थाप पर भांगड़ा किया और स्वादिष्ट पंजाबी व्यंजनों का आनंद लिया।
टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस, मुंबई की निदेशक एवं कुलपति शालिनी भरत ने कहा कि पंजाब भारत का ताज है और यहां के लोगों और संस्कृति की अपनी एक अलग पहचान है। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार द्वारा जी-20 समिट के दौरान अमृतसर पहुंचे देश-विदेश के प्रतिनिधियों की मेहमाननवाजी के लिए किए गए इंतजाम कबिल-ए-तारीफ हैं। उन्होंने कहा कि सभी प्रतिनिधियों ने पंजाबियों के आतिथ्य का आनंद लिया है और उनके साथ हमेशा पंजाब की मीठी यादें जुड़ी रहेंगी।
ठाकुर.श्रवण
वार्ता
image