Wednesday, May 22 2024 | Time 19:44 Hrs(IST)
image
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


अमन अरोड़ा ने बेंगलुरु में ‘सस्टेनेबल इम्पैक्ट्स’ प्लांट का किया दौरा

चंडीगढ़, 20 मार्च (वार्ता) पंजाब को साफ़-सुथरी और ग्रीन ऊर्जा के उत्पादन में अग्रणी राज्य बनाने के लिए पंजाब के नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री अमन अरोड़ा ने म्युनिसिपल और खेती अवशेष से कंप्रेस्ड नेचुरल गैस (सी एन जी) और कंप्रेस्ड बायोगैस (सी बी जी) के उत्पादन का अध्ययन करने के लिए बेंगलुरु स्थित ‘सस्टेनएबल इम्पैक्ट्स’ प्लांट का दौरा किया।
उल्लेखनीय कि ‘सस्टेनएबल इम्पैक्ट्स’ बेंगलुरु आधारित दो स्टार्ट-अप, कार्बन मास्टर्स और हासीरू डाला इनोवेशन का सांझा उद्यम है। इनके पास कूड़ा प्रबंधन और कार्बन की निकासी पर नियंत्रण सम्बन्धी विशेष क्षमता और महारत है। श्री अरोड़ा ने सोमवार को पंजाब ऊर्जा विकास एजेंसी (पेडा) के मुख्य कार्यकारी अधिकार सुमित जारंगल और पेडा के डायरेक्टर एम पी सिंह के साथ ‘सस्टेनएबल इम्पैक्ट्स’ की टीम को राज्य का दौरा करके प्लांट लगाने की संभावनाओं का पता लगाने का न्योता दिया।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार साफ़-सुथरी और ग्रीन ऊर्जा के उत्पादन और इसके अधिकतम प्रयोग को यकीनी बनाने के लिए वचनबद्ध है।
श्री अरोड़ा ने प्लांट का दौरा करने के उपरांत अपना तजुर्बा सांझा करते कहा कि इस तरह के प्रोजेक्ट पंजाब के शहरों, कस्बों और बड़े गाँवों में भी लगाए जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में खेती अवशेष के प्रचुर मात्रा में होने के कारण यह तकनीक न सिर्फ़ सी. बी. जी. और सी. एन. जी. के उत्पादन में और ज्यादा लाभदायक होगी बल्कि इससे जैविक खाद भी तैयार होगी, जिससे रासायनिक खादों के प्रयोग में भी कमी आयेगी।
कैबिनेट मंत्री ने कहा कि शहरों में ठोस कूड़ा-कर्कट का यदि उचित ढंग के साथ निपटारा न किया गया तो कूड़े के पहाड़ खड़े हो जाएंगे, जिससे स्वास्थ्य और वातावरण के लिए बड़ी समस्याएं पैदा होंगी। उन्होंने कहा कि भगवंत मान के नेतृत्व वाली सरकार इस चुनौती के साथ निपटने के लिए स्थायी हल ढूँढने के लिए अलग- अलग नीतियाँ, कार्यक्रम और प्रशासनिक रणनीतियां बनाने पर विशेष ध्यान दे रही है।
ठाकुर.श्रवण
वार्ता
image