Thursday, Jun 20 2024 | Time 14:59 Hrs(IST)
image
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


खिलाड़ी नार्कोटेस्ट को तैयार सरकार बृजभूषण का टेस्ट करवाये: साक्षी मालिक

सिरसा 24 मई (वार्ता) ओलंपिक मेडलिस्ट साक्षी मलिक ने बुधवार को कहा कि बृजभूषण शरण सिंह नार्को टेस्ट के लिए कह रहे हैं, इसलिए सरकार उनका नारको टेस्ट करवाएं और धरनारत पहलवानों का भी करवाना चाहे तो करवाएं, फिर जो गलत मिले, उसे सजा दी जाए।
साक्षी मलिक ने आज फतेहाबाद में आयोजित किसान कन्वेंशन में शिरकत करते हुए कहा केन्द्र सरकार की तरफ से अभी तक खिलाड़ियों को कोई जवाब नहीं मिला, इसलिए खाप पंचायतों के फैसले अनुसार 28 मई को नए संसद भवन के पास एक बड़ी महिला महा पंचायत का आयोजन किया जाएगा। जिसका न्यौता देने मैं (साक्षी मलिक) आपके बीच आई हूं।
पगड़ी संभाल जट्टा किसान संघर्ष समिति द्वारा फतेहाबाद अनाज मंडी शेड के नीचे शहीद करतार सिंह सराभा जयंती के उपलक्ष्य में यह कन्वेंशन आयोजित की गई, जिसमें न केवल किसानों बल्कि जंतर-मंतर पर धरनारत पहलवानों के मुद्दों को भी उठाया गया। हजारों की संख्या में लोगों ने इसमें शिरकत की। इस अवसर पर सभी को 28 मई को दिल्ली आने का आह्वान किया। इस अवसर पर सभा अध्यक्ष मनदीप सिंह नथवान ने अपनी टीम के साथ साक्षी मलिक का फतेहाबाद पहुंचने पर स्वागत किया।
साक्षी ने इस अवसर पर कहा कि यह बेटियों की लड़ाई है और देश की बेटियों की सुनवाई सरकार नहीं कर रही। महीने से ऊपर समय हो गया, लेकिन आरोपी को बचाने का प्रयास किया जा रहा है, जबकि पोक्सो एक्ट में अब तक गिरफ्तारी हो जानी चाहिए थी। भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह बेहद पॉवरफुल आदमी हैं। उन्होंने कहा कि बीते दिनों इंडिया गेट पर हुए कैंडल मार्च में उन्हें पूरे देश का स्पोर्ट मिला है। लोगों के सहयोग से अभी तक धरना शांतिपूर्वक रहा है और शांतिपूर्वक ही चलता रहेगा। उन्होंने कहा कि श्री सिंह नारको टेस्ट के लिए कह रहे हैं, इसलिए सरकार उनका नार्को टेस्ट करवाएं और धरना रत पहलवानों का भी करवाना चाहे तो करवाएं, फिर जो गलत मिले, उसे सजादी जाए। उन्होंने कहा कि भाजपा सांसद की मानसिकता खराब हो चुकी है, पहले उन्होंने मेडल को 15-15 रुपये का बता दिया और अब पहलवान बेटी को मंथरा बता रहे हैं। जिसने देश के लिए मेडल जीते, उसके लिए गलत बोलना ठीक नहीं है। उन्हें तो रावण भी नहीं कह सकते। उन्होंने कहा कि पहले ही दिन से बेटियां अपनी सच्ची बातें रखकर लड़ाई लड़ रही हैं, हम कोई बड़ी चीज नहीं मांग रहे, इतना ही मांगा है कि गलत को हटाकर सही आदमी को अधिकार दिया जाए। अब कहा जा रहा है कि पहलवान राजनीतिक पार्टी से संबंधित हैं, लेकिन जब वे मेडल लाए थे तो तब किसी ने नहीं कहा कि मेडल लाने वाली बेटी किस राज्य, किस पार्टी या किस जाति से है, खिलाड़ी किसी पार्टी के नहीं पूरे देश के हैं।
सं. उप्रेती
वार्ता
image