Saturday, Mar 2 2024 | Time 10:03 Hrs(IST)
image
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


पंजाब को मेडिकल टूरिज्म के हब के तौर पर विकसित करने का ऐलान:मान

अमृतसर, 17 नवंबर (वार्ता) पंजाब के मुख्य मंत्री भगवंत सिंह मान ने शुक्रवार को ऐलान किया कि मेडिकल शिक्षा क्षेत्र को प्रोत्साहित करते हुए पंजाब को मेडिकल शिक्षा के हब के तौर पर विकसित किया जाएगा।
सरकारी मेडिकल कालेज, अमृतसर के शताब्दी जश्न दौरान ओ.पी.डी. ब्लाक और स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट में ओ.टी. कम्पलैक्स, रेडीएशन थैरेपी ब्लाक, सीनियर रैज़ीडैंट होस्टल ब्लाक, नर्सिंग होस्टल ब्लाक, लड़कों का होस्टल और ई— अस्पताल प्रोजैक्ट में आडीटोरियम लोगों को समर्पित करन बाद में सभा को संबोधन करते मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार पहले ही इस दिशा में कई कोशिशों रही है। उन्होंने कहा कि इस मंतव्य के लिए फंड की कोई कमी नहीं है और इस नेक कार्य को पूरा करने में कोई कमी बाकी नहीं छोड़ी जाएगी। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में पंजाब के पास कई संभावनाए है और राज्य में मैडीकल टूरिज्म को तरक्की देनी यकीनी बनाने पर ज़ोर दिया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि जब से उन्होंने अपना कार्यकाल संभाला है, तब से सरकार ने स्वास्थ्य पर शिक्षा क्षेत्र को सबसे अधिक प्राथिमकता दी है। उन्होंने कहा कि पंजाब में मेडिकल शिक्षा को उत्साहित करने के लिए बड़े बजट का प्रावधान रखा जा रहा है। मान ने कहा कि इस कदम का उदेश्य पंजाब में स्वास्थ्य संभाल और मेडिकल शिक्षा क्षेत्रों में क्रांति लाना है।मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों को उनके घरों में ही नागरिक सेवाओं मुहैया करने के लिए राज्य सरकार श्री गुरु नानक देव जी के प्रकाश पर्व मौके 27 नवंबर से एक नई पहल की शुरुआत करेगी। उन्होंने कहा कि इस मुहिम के अंतर्गत 40 से 42 सेवाओं बिना किसी परेशानी के लोगों को उनके घरों में ही मुहैया होंगी। मान ने कहा कि इसके साथ लोगों को बड़ी सुविधा मिलेगी और उनको इन सेवाओं के लिए सरकारी दफ्तरों में परेशान नहीं होना पड़ेगा।
मुख्यमंत्री ने यह भी ऐलान किया कि 26 जनवरी 2024 से पंजाब के सभी तहसील और ज़िला स्तर के अस्पताल एक्स- रे मशीनों से युक्त होंगे। उन्होंने कहा कि आगामी गणतंत्र दिवस से यह सुविधा सभी अस्पतालों में मुहैया होगी और इन मशीनों को चलाने के लिए अप्रेटर भी तैनात किए जाएंगे। उन्होने कहा कि डाक्टरों द्वारा लिखीं सभी दवाएँ अब अस्पतालों के अंदर ही उपलब्ध होंगी, जिसके साथ लोगों की लूट बंद होगी।
श्री मान ने कहा कि राज्य सरकार ने स्वास्थ्य क्षेत्र को नयी दिशा देने के लिए पंजाब में 664 आम आदमी क्लीनिक स्थापित किए है। उन्होंने कहा कि इन कलीनिकों में 80 तरह की दवाएँ और 42 तरह के क्लीनीकल टैस्ट बिल्कुल मुफ़्त किए जा रहे हैं। भगवंत सिंह मान ने कहा कि इन कलीनिकों से 65 लाख से अधिक मरीज़ों ने सेहत संभाल सेवाएं प्राप्त की है। मुख्य मंत्री ने आगे कहा कि पंजाब में चिकित्सा शिक्षा को बढावा देने के लिए राज्य सरकार ने आने वाले पाँच सालों में 16 नए चिकित्सा कालेजों के निर्माण का फ़ैसला किया है, जिससे पंजाब में चिकित्सा कालेजों की कुल संख्या बढ़ कर 25 हो जायेगी और राज्य के हर ज़िलो में एक चिकित्सा कालेज की सेवा यकीनी बनेंगी। उन्होंने कहा कि ऐसा एक चिकित्सा कालेज होशियारपुर में शनिवार को एक कार्यक्रम दौरान लोगों को समर्पित किया जाएगा।
श्री मान ने कहा कि चिकित्सा शिक्षा प्राप्त करने के इच्छुक विद्यार्थियों को अब युक्रेन जैसे देशों में जाने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी क्योंकि इन कालेजों में उनको मानक शिक्षा मुहैया करवाई जायेगी। उन्होंने कहा कि वह दिन दूर नहीं, जब पंजाब हर क्षेत्र में देश का नेतृत्व कर अग्रणी राज्य बन कर उभरेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार पंजाब को प्रगतिशील, शांतमयी और ख़ुशहाल राज्य बनाने के लिए वचनबद्ध है। उन्होंने कहा कि राज्य में प्रतिभा और कौशल की कोई कमी नहीं है, परन्तु यह समय की माँग है कि इस ऊर्जा को साकारात्मक ढंग के साथ नए रास्ते पर लाया जाए। भगवंत सिंह मान ने कहा कि राज्य सरकार शिक्षा, सेहत, रोज़गार और अन्य क्षेत्रों में बुनियादी ढांचा सृजित करने के लिए लगातार प्रयास कर रही है।
ठाकुर.संजय
वार्ता
image