Saturday, Mar 2 2024 | Time 10:00 Hrs(IST)
image
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


संविधान से ही देश की पहचान होती है: भूषण

सिरसा, 26 नवंबर (वार्ता) हरियाणा में सिरसा शहर के बरनाला रोड स्थित पुलिस लाईन के प्रांगण में जिला पुलिस की ओर से रविवार को संविधान दिवस मनाया गया। इस अवसर पर पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को सविंधान के प्रति सत्य निष्ठा व कर्तव्य पालन की शपथ दिलाई गई ।
इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक विक्रांत भूषण ने कहा कि किसी भी देश का संविधान उसकी पहचान होती है। उन्होंने कहा कि सविंधान किसी भी देश का राजनैतिक व सामाजिक व्यवस्था का बुनियादी सांचा-ढांचा निर्धारित करता है, जिसके तहत उसकी जनता शासित होती है।
पुलिस अधीक्षक ने कहा कि सविंधान राज्य की विधानपालिका, कार्यपालिका और न्यायपालिका जैसे प्रमुख अंगों की स्थापना करता है और उसकी शक्ति की व्याख्या करता है तथा उनके दायित्वों का भी सीमांकन करता है। उन्होंने कहा कि हम सभी अपने संविधान के मूल्यों को आगे बढ़ाएं और अपने देश में शांति,उन्नति और समृद्धि को सुनिश्चित करें ।पुलिस अधीक्षक विक्रांत भूषण ने कहा कि हमारे संविधान में खास बात यही है कि इसमें अधिकार और कर्तव्य के बारे में विस्तार से वर्णन किया हैं। उन्होंने कहा कि देश की अखंडता व प्रभुता को बनाएं रखने के लिए संविधान की पालना करना सबका दायित्व हैं। श्री भूषण ने बताया कि आज के दिन को संविधान दिवस के रूप में मानने का एक मात्र बड़ा कारण वेस्टर्न कल्चर के दौर में देश के युवाओं के बीच में संविधान के मूल्यों को बढ़ावा देना है, दरअसल यही वह दिन है, जब गुलामी की जंजीरों से आजाद होकर अपने स्वतंत्र अस्तित्व को आकार रुप देने का प्रयास कर रहे राष्ट्र ने संविधान को अंगीकार किया था। उन्होंने कहा कि इसी दिन संविधान सभा ने इसे अपनी स्वीकृति दी थी, इस वजह से इस दिन को संविधान दिवस’ के तौर पर मनाया जाता है।
पुलिस अधीक्षक ने कहा कि संविधान तथा उनके संस्थापकों एवं निर्माताओं के आदर्शों व सपनों के मूल्यों का दर्पण होता है । उन्होंने कहा कि 26 नवंबर 1949 को भारतीय संविधान सभा की ओर से संविधान पारित किया गया, जिन्हें भारतीय लोकतंत्र का आधार कहा जाता है।
श्री भूषण ने बताया कि भारत में नए गणराज्य के संविधान का शुभारंभ 26 जनवरी 1950 को हुआ था और भारत अपने लंबे इतिहास में प्रथम बार एक आधुनिक संस्थागत ढांचे के साथ पूर्ण संसदीय लोकतंत्र बना। उन्होंने बताया कि भारतीय संविधान में देश के सभी नागरिकों को समानता का अधिकार प्राप्त हैं।
सं.संजय
वार्ता
image