Monday, Mar 4 2024 | Time 07:35 Hrs(IST)
image
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


हिमाचल में हाटी समुदाय को एसटी दर्जा को लेकर सियासत में उबाल

नाहन, 04 दिसंबर (वार्ता) हिमाचल के जिला सिरमौर में हाटी समुदाय को अनुसूचित जनजाति (एसटी) को दर्जे को लेकर खासी सियासत गरमाई हुई है। केंद्रीय हाटी समिति का आरोप है कि कांग्रेस सरकार अड़ंगा पैदा कर रही है।
इस मसले पर सोमवार को एक सवाल के जवाब में उद्योग मंत्री हर्षवर्धन चौहान ने कहा कि कानून से ऊपर कोई नहीं है। विधि विभाग कार्य कर रहा है। उनका कहना था कि केंद्र से भी स्पष्टीकरण मांगा गया है।
श्री चौहान ने कहा कि स्पष्टीकरण के बाद जो भी कानून रहेगा उसके तहत कार्रवाई की जाएगी। कांग्रेस की बैठक में हिस्सा लेने से पहले उद्योग मंत्री सोमवार को पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सरकार का एक वर्ष का कार्यकाल आपदा की चुनौतियों के बावजूद सफलता भर रहा है।
उन्होंने बताया कि सरकार पहली वर्षगांठ धर्मशाला में मनाने जा रही है। रैली में प्रदेश भर के 50000 कार्यकर्ता शामिल होंगे। उद्योग मंत्री ने बताया कि सिरमौर से 1000 कार्यकर्ताओं रैली में शामिल होंगे। उन्होंने बताया कि हर विधानसभा क्षेत्र से 200-200 कार्यकर्ताओं को शामिल होने के निर्देश दिए गए हैं।
उन्होंने बताया कि शिक्षा विभाग में 6 000 आईपीएस में 4ः30 हजार मल्टी टास्क कर्मी के पद तथा 2100 वनरक्षक 10000 प्रतिमाह की पगार पर रखे जाएंगे। उद्योग मंत्री ने कहा कैबिनेट में लिए गए निर्णय के बाद प्रदेश पुलिस में 1226 कांस्टेबल की पोस्ट भरी जाएगी।
मंत्री ने उद्योगों पर मंडरा रहे संकट पर कहा कि प्रदेश में 80 फीसदी उद्योग लघु श्रेणी के हैं। इन्हें सरकार हर तरह से संरक्षण देने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार ने अपनी नीतियों के दम पर 10000 करोड़ के इन्वेस्टर के एमओयू साइन करवा लिए हैं।
उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार उद्योगों और उद्योगपतियों के प्रति उदारवादी नीति के तहत काम कर रही है। बता दे कि चुनाव के एक वर्ष बीत जाने के बाद सिरमौर कांग्रेस ने अध्यक्ष आनंद परमार की अध्यक्षता में जिला स्तरीय बैठक का आयोजन किया।
जिला अध्यक्ष आनंद परमार ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि निष्क्रिय पदाधिकारियों को सक्रिय करने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि संगठन में धरातल पर काम करने वालों की ही नियुक्ति.की जाएगी। उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव और कार्यकर्ताओं के लिए एक बड़ी चुनौती भी है, जिसे मेहनत और सरकार की उपलब्धियां के दम पर सफल बनाया जाएगा।
सं.संजय
वार्ता
image