Thursday, Apr 18 2024 | Time 16:49 Hrs(IST)
image
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


सुक्खू ने वेटलैंड के संरक्षण का किया आह्वान

शिमला,01 फरवरी (वार्ता) हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने
गुरुवार यहां ‘विश्व वेटलैंड दिवस’ के उपलक्ष्य पर पारिस्थितिकीय संतुलन बनाये रखने
और जलवायु परिवर्तन के प्रभावों के दृष्टिगत वेटलैंड के संरक्षण का आह्वान किया है।
श्री सुक्खू ने प्रदेशवासियों से राज्य में रामसर स्थलों एवं अन्य वेटलैंड क्षेत्रों के संरक्षण के लिए सक्रिय सहयोग का भी आग्रह किया।
इस वर्ष विश्व वेटलैंड दिवस की विषय-वस्तु ‘आर्द्र भूमि और मानव कल्याण’ रखी गयी
है। इस दिवस का आयोजन दो फरवरी, 1971 को ईरान के रामसर शहर में वेटलैंड के अंतरराष्ट्रीय महत्व पर आयोजित सम्मेलन के दौरान हस्ताक्षरित रामसर समझौते के उपलक्ष्य में वर्ष 1997 से किया जा रहा है।
वेटलैंड समाज को पर्यावरण संतुलन प्रदान करते हैं। इनमें ताजा जल, पानी में से नुकसानदायक अपशिष्ट को छानकर इसे पीने के लिए शुद्ध बनाते हैं। इसके साथ ही यह खाद्य पदार्थों के बेहतर स्रोत के रूप में भी जाने जाते हैं। विषम मौसमी घटनाओं के दौरान भी वेटलैंड अत्याधिक जल प्रवाहन तथा सूखे जैसे जोखिमों को कम करने में अपनी भूमिका निभाते हैं। वेटलैंड क्षेत्र जैव विविधता के संरक्षण के साथ ही असंख्य लोगों के लिये जीवनयापन का स्रोत भी हैं।
उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में विभिन्न पारिस्थितिकीय क्षेत्रों में विविध वेटलैंड फैले हुये हैं। यह क्षेत्र स्थानीय लोगों की आजीविका की पूर्ति के साथ ही प्राकृतिक सौंदर्य एवं पर्यटन की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण हैं। वर्तमान में प्रदेश में स्थित पौंग बांध, रेणुका और चंद्रताल झील अंतरराष्ट्रीय महत्व के रामसर स्थलों में शामिल हैं। इसके अतिरिक्त केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा रिवालसर और खजियार झील को राष्ट्रीय महत्व के वेटलैंड के रूप में शामिल किया गया है।
विजय.श्रवण
वार्ता
image