Saturday, Apr 20 2024 | Time 11:58 Hrs(IST)
image
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


दिशाहीन, दृष्टिहीन बजट के साथ प्रदेश की मुश्किलें बढ़ा रहे हैं सुक्खू: ठाकुर

शिमला, 17 फ़रवरी (वार्ता) हिमाचल प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर ने कहा कि यह बजट दिशा और विज़न विहीन बजट है। बजट भाषण में मुख्यमंत्री समृद्ध और विकसित हिमाचल की बात कर रहे हैं जबकि कैपिटल एक्सपेंडिचर के नाम पर बजट बढ़ाने के बजाय बजट घटा रही है। सरकार जब इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास पर पैसा लगाएगी ही नहीं तो प्रदेश विकास की राह पर कैसे आगे बढ़ेगा।
श्री ठाकुर ने कहा कि यह बजट में विपक्ष के नाते के नाते दिशा और दृष्टि (विजन) हीन नहीं बता रहा हूं, बल्कि सरकार की कारगुजारियों और आंकड़ों के आधार पर कह रहा हूं। हमारी सरकार यानी वित्तीय वर्ष 2023-24 में कैपिटल एक्सपेंडिचर 6780 करोड़ था। जिसे घटाकर वित्तीय वर्ष 2024-25 में कैपिटल एक्सपेंडिचर 6280 करोड़ कर दिया गया है। इस तरह से इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास के बजट में कटौती सरकार की मंशा और समझ पर सवाल खड़े करती है।
उन्होंने कहा कि सरकार ने आर्थिक सर्वेक्षण की फर्जी रिपोर्ट दी है। जिस तरह से प्रदेश में आपदा आई। कृषि और बागवानी जैसे निकाय भारी आर्थिक नुकसान से गुजरे। उद्योगों का प्रदर्शन अपेक्षा के अनुरूप नहीं रहा। ऐसे में प्रदेश की आर्थिक वृद्धि जो सरकार द्वारा बताई गई है, वह समझ के परे है। इसी तरह से प्रति व्यक्ति आय से लेकर प्रदेश के सकल घरेलू उत्पाद के आंकडें भी गले से नहीं उतर रहे हैं।
श्री ठाकुर ने कहा कि हम पर वित्तीय कुप्रबंधन का आरोप लगाने वाले कांग्रेस के बजट पर एक बार नजर डालने की आवश्यकता है। हमारी सरकार में वर्ष 2022-23 में हमारी सरकार ने लोन रीपेमेंट के लिए 10136 करोड़ रुपए की धनराशि रखी गई थी। कांग्रेस सरकार ने आते ही लोन लेने की स्पीड तो टॉप गियर में चलाई लेकिन लोन रीपेमेंट की दर आधी कर दी है।
उन्होंने कहा कि कांग्रेसनीत सुक्खू सरकार ने 2023-24 में 5486 करोड़ और वित्तीय वर्ष 2024-25 में 5497 करोड़ रुपए ही लोन रीपेमेंट के लिए रखे गये हैं। सरकारें लोन लेती है विकास के लिए लेकिन लोन चुका भी देते हैं लेकिन यह सरकार सिर्फ़ लोन लेने में विश्वास रखती और दूसरे लोगों पर आरोप लगाने यक़ीन रखती हैं।
श्री ठाकुर ने कहा कि सुक्खू सरकार पिछले वर्ष के बजट में की गई घोषणाओं को सरकार पूरा नहीं कर पाई। इस बार के बजट में भी पिछले बजट में की गई ज्यादातर घोषणाओं को ही दोहराया गया है। सबसे अचरज की बात यह है कि जिन गारंटियों पर कांग्रेस सत्ता में आई इस बजट में उन गारंटियों का ज़िक्र तक नहीं है। दूसरे बजट में भी सरकार ने प्रदेश के युवाओं से लेकर महिलाओं, किसानों से लेकर बागवानों तक को निराश किया है।
उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश की जनता कांग्रेस के इस झूठ और गुमराह करने की राजनीति का जवाब देगी। ढाई घंटे के बजट स्पीच को सुनकर लगा कि मुख्यमंत्री अपनी पुरानी बजट स्पीच को ही पढ़ रहे हैं।
नेता प्रतिपक्ष ने मुख्यमंत्री से आग्रह करते हुए कहा कि वे घोषणाएं करने की बजाय आप घोषणाओं के क्रियान्वयन पर कार्य करने की आवश्यकता है। अपने नाम पर योजनाओं का नाम रखकर मुख्यमंत्री हंसी का पात्र बन रहे हैं। मुख्यमंत्री से जनता का भरोसा टूट चुका है और अब यह भरोसा सरकार फॉर से हासिल नहीं कर पाएगी। सरकार पूरी तरह से नाकाम हो गई है। आपदा राहत के नाम पर भी झूठ बोल रही है। सरकार से हर वर्ग नाराज़ है, निराश हैं।
सं.संजय
वार्ता
image