Saturday, Apr 20 2024 | Time 00:07 Hrs(IST)
image
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


खाली पड़े पदों को भरने की मांग को लेकर जुलूस निकलेंगे प्रोफेसर

पंचकूला , 26 फरवरी (वार्ता) हरियाणा एस्पाइरिंग असिस्टेंट प्रोफेसर एसोसिएशन ( हापा) ने प्रदेश के राजकीय कॉलेजों में हजारों खाली पड़े सहायक प्रोफेसरों के पदों पर रेगुलर भर्ती की मांग को लेकर छह मार्च को मौन जुलूस निकालने की घोषणा सोमवार को की।
हापा के संस्थापक सदस्य व हरियाणा राजकीय कॉलेज टीचर्स एसोसिएशन (एचजीसीटीए) के पूर्व प्रादेशिक उपाध्यक्ष प्रोफेसर सुभाष सपड़ा ने यहाँ जारी बयान में बताया कि सरकार द्वारा वर्ष 2019 में कुल 524 पदों पर कुछ ही विषयों में आखिरी बार सहायक प्रोफेसर प्रोफेसरों की भर्ती की गई थी। आधे से अधिक विषय ऐसे भी हैं जिन पर वर्ष 2016 के बाद से अब तक भर्ती नहीं हुई है। जबकि प्रदेश सरकार ने रेगुलर भर्ती के संबंध में पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय में एक हलफनामा देकर बताया था कि राज्य के राजकीय कॉलेज में सहायक प्रोफेसर प्रोफेसर के कुल 8137 पद स्वीकृत हैं, जिसमें से कुल 4738 पद रिक्त हैं अर्थात कुल का 60 फ़ीसदी पोस्ट रिक्त हैं। सरकार पक्की भर्ती के नियमों में संशोधन का हवाला देकर इसे टालती आ रही थी।
उन्होंने कहा कि अब जबकि प्रदेश सरकार की पिछले महीने मंत्रिमंडल बैठक में भर्ती के नियमों में संशोधन की मंजूरी भी ले चुकी है, तब भी सहायक प्रोफेसरों की नियमित नियुक्ति नहीं की जा रही।
श्री सपड़ा में बताया कि हरियाणा प्रदेश के राजकीय कॉलेजों में करीब 2000 एक्सटेंशन लेक्चर बिना किसी पारदर्शी भर्ती प्रक्रिया व बिना आरक्षण नीति को लागू किए कार्य कर रहे हैं।
उन्होंने यह भी बताया कि मार्च 2020 में उच्चतर शिक्षा विभाग हरियाणा ने 2592 असिस्टेंट प्रोफेसरों के पदों की नई नियुक्तियों की स्वीकृति दी थी। परंतु यह फाइल भी इधर उधर कार्यालयों में धूल चाट रही है।
महेश.संजय
वार्ता
image