Saturday, Apr 13 2024 | Time 21:40 Hrs(IST)
image
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


हिमाचल के छह कांग्रेस विधायक विस की सदस्यता से अयोग्य घोषित

शिमला, 29 फरवरी (वार्ता) कांग्रेस पार्टी के व्हिप का उल्लंघन कर मंगलवार और बुधवार को वित्तीय विधेयकों के पारित होने के दौरान अनुपस्थित रहने वाले छह कांग्रेस विधायकों को विधानसभा अध्यक्ष ने अयोग्य घोषित कर दिया।
इन सभी छह विधायकों के खिलाफ दलबदल विरोधी कानून के प्रावधान को आकर्षित करने के बाद विधानसभा अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया ने इस आशय की घोषणा की।
पूर्व अध्यक्ष कुलदीप सिंह पथैना, जिन्होंने भारतीय संविधान की 10वीं अनुसूची के तहत निर्धारित ट्रिब्यूनल के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया, जो दल-बदल विरोधी कानून को परिभाषित करता है, ने कहा कि पार्टी व्हिप का दो बार उल्लंघन करने वाले छह विधायकों पर दंडात्मक प्रावधान लागू हैं।
प्रतिवादी ने एडीएल के पैरा 2 के तहत अयोग्यता को आकर्षित किया और इसलिए प्रतिवादी इस पवित्र सदन का सदस्य नहीं रह गया।
मंगलवार को वित्त या धन विधेयक पर चर्चा के दौरान कांग्रेस विधायकों के पार्टी व्हिप की दो बार अवहेलना करने के कारण कोरम पूरा नहीं होने के कारण कांग्रेस विधायक दल द्वारा अयोग्य ठहराए जाने की याचिका पर बुधवार को अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया ने फैसला सुरक्षित रख लिया।
निष्कासित विधायकों में राजिंदर राणा, सुधीर शर्मा, रवि ठाकुर, इंद्रदत लखनपाल, चेतन्य शर्मा और देविंदर भुट्टो शामिल हैं। आरोप है कि उन्होंने कांग्रेस पार्टी द्वारा जारी व्हिप का दो बार उल्लंघन किया, जिसके कारण भारतीय संविधान की दसवीं अनुसूची में निर्धारित दल-बदल विरोधी कानून के तहत उनकी सदस्यता अयोग्य हो सकती है।
मामला मंगलवार को सदन के समक्ष दायर किया गया, क्योंकि छह संबंधित विधायकों को नोटिस दिया गया था। उन्हें यह प्राप्त हुआ जिसके बाद बुधवार को शाम चार बजे से लगभग 6:30 बजे तक सुनवाई हुई। वरिष्ठ वकील कामत ने कांग्रेस विधायक दल का प्रतिनिधित्व किया और वरिष्ठ वकील सतपाल जैन ने छह विधायकों का प्रतिनिधित्व किया। दोनों पक्षों के वरिष्ठ वकीलों की दलीलें सुनने के बाद अध्यक्ष ने बुधवार को फैसला सुरक्षित रख लिया।
क्रॉस वोटिंग के परिणामस्वरूप कांग्रेस पार्टी के अभिषेक मनु सिंघवी राज्यसभा चुनाव हार गए। चुनाव लड़ रहे दोनों उम्मीदवारों को 34-34 वोट मिले और बाद में फैसला पर्ची निकालकर करना पड़ा, जिसमें किस्मत ने भारतीय जनता पार्टी का साथ दिया और जीत हासिल की।
दलबदल विरोधी कानून को 1985 में 52वें संशोधन अधिनियम द्वारा संविधान की दसवीं अनुसूची में शामिल किया गया है। यह उस प्रक्रिया को निर्धारित करता है जिसके द्वारा सदन के किसी अन्य सदस्य की याचिका के आधार पर विधायिका के पीठासीन अधिकारी द्वारा विधायकों को दलबदल के आधार पर अयोग्य ठहराया जा सकता है। यह कानून संसद और राज्य विधानसभा दोनों पर लागू होता है।
हिमाचल प्रदेश में हाईवोल्टेज सियासी ड्रामे और विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के 15 विधायकों के बजट सत्र से निलंबन के बीच बुधवार को विधानसभा में बजट पारित हो गया।
सत्तारूढ़ दल के विधायकों की क्रॉस वोटिंग के कारण पार्टी उम्मीदवार के भाजपा उम्मीदवार से राज्यसभा चुनाव हारने के बाद संकट में फंसी कांग्रेस सरकार को बजट पारित होने से काफी राहत मिली है।
गौरतलब है कि राज्य की सुखविंदर सिंह सुक्खू सरकार से नाखुश बताये जा रहे छह कांग्रेस विधायकों ने मंगलवार को भाजपा उम्मीदवार हर्ष महाजन के पक्ष में क्रॉस वोटिंग की थी, जिसके कारण उन्हें और कांग्रेस उम्मीदवार एवं प्रसिद्ध वकील अभिषेक मनु सिंघवी को बराबर मत मिले। इसके बाद पर्ची से फैसला हुआ जिसमें श्री महाजन के सिर पर जीत का सेहरा सजा।
बजट सत्र के दौरान आज विधानसभा में भाजपा के विरोध के बाद विधानसभा अध्यक्ष कुलदीप पठानिया ने 15 भाजपा सदस्यों को शेष सत्र से निलंबित कर दिया, जिसके बाद सत्ता पक्ष ने ध्वनि मत से बजट पारित करा लिया। भाजपा सदस्यों ने पहले मत विभाजन की मांग की थी, जिसे अध्यक्ष ने खारिज कर दिया।
इससे पहले, श्री सुक्खू ने इस बात से इनकार किया कि उन्होंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है जैसा कि कुछ समाचार चैनलों द्वारा दावा किया जा रहा था। उन्होंने इसे भाजपा का ‘कुटिल साजिश’ बताया। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह एक ‘योद्धा’ हैं और अंत तक लड़ेंगे।
कांग्रेस के छह बागी और तीन निर्दलीय विधायक, जिन्होंने मंगलवार को क्रॉस वोटिंग की थी, बजट सत्र में भाग लेने के लिए कड़ी सुरक्षा के बीच राज्य की राजधानी पहुंचे और बाद में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की सुरक्षा में भाजपा शासित हरियाणा के पंचकुला वापस चले गये।
सर्वश्री राजीव शुक्ला, दीपेंद्र सिंह हुडा और डीके शिव कुमार सहित वरिष्ठ कांग्रेस पर्यवेक्षक भी पार्टी आलाकमान को अपनी रिपोर्ट सौंपने से पहले पार्टी के विधायकों के साथ आमने-सामने की बैठक के लिए शिमला में हैं।
सं.संजय
वार्ता
More News
न्याय पत्र में कांग्रेस पार्टी ने ओपीएस पर चुप्पी साधीः सहजल

न्याय पत्र में कांग्रेस पार्टी ने ओपीएस पर चुप्पी साधीः सहजल

13 Apr 2024 | 8:40 PM

शिमला, 13 अप्रैल (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री राजीव सहजल ने मुख्य संसदीय सचिव आशीष बुटेल का जवाब देते हुए कहा कि देशभर में कांग्रेस पार्टी की मंशा ओल्ड पेंशन स्कीम (ओपीएस) के हक में नहीं है।

see more..
image