Wednesday, Jul 17 2024 | Time 22:05 Hrs(IST)
image
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


मान ने की भगत कबीर धाम की स्थापना की घोषणा

होशियारपुर, 22 जून (वार्ता) पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान ने शनिवार को भक्ति आंदोलन के पुरोधा भगत कबीर जी के जीवन और दर्शन पर व्यापक शोध करने के लिए भगत कबीर धाम स्थापित करने की घोषणा की।
श्री मान आज यहां भगत कबीर जी के 626वें प्रकाश उत्सव के अवसर पर आयोजित राज्य स्तरीय समारोह के दौरान उपस्थित जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा कि 15वीं शताब्दी के रहस्यवादी कवि और संत भगत कबीर जी ने लोगों को जीवन जीने का मार्ग दिखाया था। उन्होंने कहा कि यह धाम उनके जीवन पर शोध के लिए महत्वपूर्ण साबित होगा। उन्होंने कहा कि महान रहस्यवादी कवि के जीवन और दर्शन ने हमेशा लोगों को सही जीवन जीने के लिए प्रेरित किया है।
श्री मान ने लोगों से भगत कबीर जी की शिक्षाओं का ईमानदारी से पालन करने का आह्वान करते हुए कहा कि जाति, रंग, पंथ और धर्म की संकीर्ण सोच से ऊपर उठकर समतावादी समाज का निर्माण करना समय की मांग है। उन्होंने कहा कि भगत कबीर जी के जीवन और शिक्षाओं ने प्रेम, शांति, सद्भावना का शाश्वत संदेश दिया, जो उनकी बाणी में निहित है, जो श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का हिस्सा है। मान ने कहा कि हालांकि भगत कबीर जी का प्रारंभिक जीवन एक मुस्लिम परिवार में बीता, लेकिन वे हिंदू संत रामानंद से काफी प्रभावित थे, जिसका भक्ति आंदोलन के दौरान उनके लेखन पर गहरा प्रभाव पड़ा।
महान संत के आदर्शों का अनुकरण करने का लोगों से आग्रह करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि यह एक सामंजस्यपूर्ण और प्रगतिशील समाज के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। उन्होंने कहा कि महान सिख गुरुओं ने हमें अत्याचार, अन्याय और उत्पीड़न के खिलाफ लड़ना सिखाया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार राज्य में स्वास्थ्य और शिक्षा प्रणाली को पुनर्जीवित करने के लिए ठोस प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि अब तक अपने बच्चे को सरकारी स्कूल में भेजना आम आदमी की मजबूरी थी, लेकिन छह महीने के भीतर उनकी इच्छा होगी कि वे ऐसा करें क्योंकि शिक्षा प्रणाली को नया रूप दिया जा रहा है।

श्री मान ने कहा कि राज्य सरकार विद्यार्थियों में सकारात्मकता भरने के लिए स्कूलों के पाठ्यक्रम में आवश्यक संशोधन करेगी। उन्होंने कहा कि इसके लिए खाका तैयार है और आने वाले दिनों में इसे लागू किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने यह भी याद दिलाया कि लोकसभा सदस्य के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान सदन ने गुरु गोबिंद सिंह के छोटे साहिबजादों को उनके शहीदी दिवस पर श्रद्धांजलि अर्पित की थी, जिसके बाद उन्होंने तत्कालीन लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के समक्ष इस मामले को उठाया था। भगवंत सिंह मान ने कहा कि संसद में इस मुद्दे को पहले कभी किसी ने नहीं उठाया था, लेकिन उन्होंने इस मुद्दे को उठाया, जिसके बाद पूरी संसद ने छोटे साहिबजादों को श्रद्धांजलि दी।
ठाकुर.संजय
वार्ता
image