Monday, May 25 2020 | Time 16:39 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पंजाब में भाजपा के 33 जिला प्रभारियों की नियुक्ति
  • रेलगाड़ियों से 42 हजार प्रवासी मजदूर राजस्थान लौटे
  • चित्रकूट में सात और कोरोना पॉजिटिव,संख्या बढ़कर हुई 27
  • आईपीएल के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने के लिए तैयार : हरभजन
  • प्रवासी बसों की छत पर सफर करने को मजबूर, प्रशासन किंकर्तव्यविमूढ़
  • अमेरिका ने ब्राजील से आने वाले विदेशियों की यात्रा पर लगायी रोक
  • टिड्डी दल की आशंका के चलते इससे निपटने की तैयारी के लिए राहत दल का गठन
  • कंटेनमेंट जोन से बाहर निकलने पर चार के खिलाफ एफआईआर
  • असम में कोरोना के 74 नये मामले, कुल संक्रमितों की संख्या 466 हुई
  • सीकर में सोमवार को कोरोना के तीस नये मामले सामने आये
  • कोल्हापुर में कोरोना के 55 नए मामले, कुल संक्रमितों की संख्या 372 हुई
  • केंद्र द्वारा भेजे गये राशन के वितरण में किया जा रहा पक्षपात: जोशी
  • हमीरपुर में बच्चे समेत दो कोरोना पॉजिटिव, संख्या बढ़कर हुई छह
  • कोरोना से अजमेर में एक युवक की मौत
  • स्थिर रहे जिंसों के दाम
राज्य » राजस्थान


पाठ्यक्रम में बदलाव पर छात्रों ने किया प्रदर्शन

अजमेर 14 मई (वार्ता) राजस्थान के अजमेर में छात्रों ने पाठ्यक्रम में बदलाव के मामले को लेकर आज छात्रों ने प्रदर्शन किया।
अजमेर स्थित राजकीय विधि महाविद्यालय के अध्यक्ष रचित कच्छावा के नेतृत्व में छात्रों का एक शिष्टमंडल जिला कलक्टर कार्यालय पहुंचा और राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। बाद में अतिरिक्त जिलाधीश (शहर) अरविंद कुमार सेंगवा को ज्ञापन देकर मांग की कि पाठ्यक्रम में छेड़छाड़ पर रोक लगाकर वीर सावरकर के अध्याय को पुनः पाठ्यपुस्तकों में जोड़ा जाए।
रचित कच्छावा ने प्रदेश के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा पर राजनीति से प्रेरित होकर प्रदेश के विद्यार्थियों के साथ खिलवाड़ करने का आरोप भी लगाया। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश का युवा एवं विद्यार्थी वर्ग आहत हैं। यदि कांग्रेस सरकार ने अपना फैसला वापस नहीं लिया तो छात्रसंघ बड़ा आंदोलन करेगा।
अनुराग जोरा
वार्ता
More News
सिंह ने नेताओं के दो से तीन पदों की जिम्मेदारी पर उठाये सवाल

सिंह ने नेताओं के दो से तीन पदों की जिम्मेदारी पर उठाये सवाल

25 May 2020 | 4:02 PM

जयपुर 25 मई (वार्ता) राजस्थान के पूर्व मंत्री एवं किसान नेता डॉ हरिसिंह ने कांग्रेस में कुछ नेताओं को एक से अधिक पदों की जिम्मेदारी दिए जाने पर नाराजगी जताई है और कहा कि पार्टी में योग्य, जनाधार, सामाजिक पकड़ और सेवाभावी नेताओं की कमी नहीं, फिर भी कई नेताओं को दो से तीन पदों की जिम्मेदारी दे रखी है।

see more..
image