Thursday, Feb 27 2020 | Time 16:20 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चित्तौड़गढ़ दुर्ग की सुरक्षा के लिए छत्तीस सुरक्षा गार्ड्स तैनात-कल्ला
  • कश्मीर, लद्दाख में भूकंप के मध्यम झटके
  • हरियाणा में 100 करोड़ रूपये से अधिक के ठेके मिलेंगे अलग अलग ठेकेदारों को
  • प्रकरण न्यायालयों में लंबित रहने के कारण नहीं दिया भूखण्डों का कब्जा-धारीवाल
  • सेंसेक्स 143 अंक टूटा, निफ्टी भी 45 अंक की गिरावट में
  • छत्तीसगढ़ में सत्ता पक्ष के नेता एवं आईएएस अफसरो के यहां आयकर का छापा
  • अनियमितता मिलने पर कोटा में चार ई-मित्र कियोस्कों को किया बंद
  • अरावली को वन्यजीव अभ्यारण्य घोषित किया जाए : कुमारी सैलजा
  • करीब साढ़े तीन हजार माध्यमिक विद्यालयों में पढाया जा रहा है कंप्यूटर विज्ञान विषय -डोटासरा
  • न्यूज़ीलैंड पर रोमांचक जीत से भारतीय महिला टीम सेमीफाइनल में
  • न्यूज़ीलैंड पर रोमांचक जीत से भारतीय महिला टीम सेमीफाइनल में
  • उत्तर-पूर्वी दिल्ली हिंसा मामले में केंद्र सरकार बनी पक्षकार, अगली सुनवाई 13 अप्रैल को
  • हिंसा प्रभावित इलाकों में सीबीएसई की परीक्षा 28 और 29 को भी स्थगित
  • जदयू में शामिल हुईं भाकपा नेता शालिनी मिश्रा
राज्य » राजस्थान


न्यायालय के आदेश पर जिला कलेक्टर की कार कूर्क

भरतपुर 29 अगस्त (वार्ता) राजस्थान के भरतपुर में आज न्यायालय के एक आदेश के बाद जिला कलेक्टर की कार और जिला परिषद के फर्नीचर को न्यायालय के सेल अमीन ने कूर्क कर लिया।
प्राप्त जानकारी के अनुसार जिला प्रशासन द्वारा खोखर गांव निवासी महिला चंचल शर्मा को जिला ग्राम रोजगार सहायक पद पर नियुक्ति देने के अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के आदेशों की अवहेलना के बाद यह कार्यवाही की गई।
वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीनाथ शर्मा ने बताया कि वर्ष 2008 में चंचल शर्मा ने महात्मा गांघी राष्ट्रीय राजेगार गांरटी योजना (मनरेगा) में जिला ग्राम रोजगार सहायक पद के लिए आवेदन किया था लेकिन पात्र होने के बाद भी उसके स्थान पर किसी अन्य को नियुक्ति दे दी गयी।
मामले को लेकर न्यायालय में दायर परिवाद पर न्यायाधीश ने चार महीने पहले महिला को पात्र मानते हुए उसे नियुक्ति देकर ज्वॉइन कराने के निर्देश दिए थे लेकिन प्रशासन ने उसे गंभीरता से नहीं लिया और इस दौरान महिला नौकरी के लिए भटकती रही।
सेल अमीन के अनुसार यदि एक महीने में महिला को जिला प्रशासन द्वारा नियुक्ति नहीं दी जाती है तो सार्वजनिक रूप से जिला कलेक्टर की कार और जिला परिषद के फर्नीचर को नीलाम किया जाएगा।
गुप्ता रामसिंह
वार्ता
More News
न्यायपालिका को कमजोर करने की कोशिश दुर्भाग्यपूर्ण-गहलोत

न्यायपालिका को कमजोर करने की कोशिश दुर्भाग्यपूर्ण-गहलोत

27 Feb 2020 | 3:44 PM

जयपुर 27 फरवरी (वार्ता) राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केन्द्र सरकार पर न्यायपालिका को कमजोर करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि दिल्ली उच्च न्यायालय के न्यायाधीश एस मुरलीधर का स्थानांतरण कर न्याय व्यवस्था को कमजोर करने की यह कोशिश बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है।

see more..
image