Tuesday, Jul 14 2020 | Time 14:30 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • खगड़िया में व्यक्ति ने पत्नी की गोली मारकर हत्या की
  • भागलपुर में विचाराधीन कैदी की मौत
  • विशाखापत्तनम में फार्मास्यूटिकल इकाई में भीषण आग, एक की मौत, चार झुलसे
  • पुड्डुचेरी में कोरोना के 63 नये मामले, संक्रमितों की संख्या 1,531 हुई
  • कोयला खदान नीलामी : झारखंड की याचिका पर केंद्र से जवाब तलब
  • केजरीवाल ने 12वीं के नतीजों पर जतायी खुशी
  • अमेरिका में गोलीबारी में एक लड़के की मौत, दो घायल
  • केरल में हवाला के 2 85 करोड़ रुपये बरामद
  • डॉलर यूरो मजबूत ;पाउंड, येन नरम
  • सरकार एल1 निविदा एवं खरीद प्रणाली खत्म करे: सीईएआई
  • चेन्नई सर्राफा के शुरुआती भाव
  • देश में कुल 1,206 कोरोना टेस्ट लैब
  • देश में कोरोना रिकवरी दर 63 02 प्रतिशत
  • औरंगाबाद में कोरोना के 68 नये मामले, संक्रमितों की संख्या 8,882 हुई
  • कोरोना के 2 86 लाख से अधिक नमूनों की जांच
राज्य » राजस्थान


संक्रमित बच्चों के साथ नैगेटिव रिपोर्ट वाले पिता को साथ रखा

अजमेर 26 मई (वार्ता) राजस्थान में अजमेर के जवाहरलाल नेहरू चिकित्सालय कोविड-19 वार्ड में आज आए दो नये पोजिटिव रिपोर्ट वाले मरीजों के साथ नैगेटिव रिपोर्ट वाले पिता को भी अस्पताल में साथ रखना पड़ रहा है।
अजमेर के नजरिए यह अपने तरीके का नया मामला है जब दो कोरोना पोजीटिव बच्चों के साथ मजबूरन अस्पताल प्रबंधन को पिता को भी वार्ड में ही रखना पड़ रहा है।
अस्पताल कोविड-19 के प्रभारी डॉ. संजीव माहेश्वरी ने बताया कि आज आए पोजिटिव मरीज दोनों बच्चे हैं जिनमें एक सात वर्षीय बालक तथा एक नौ वर्षीय बालिका है। ये दोनों छोटी उम्र के होने के कारण अकेले नहीं रहने की स्थिति में मजबूरन पिता को साथ रखना पड़ रहा है जिनकी रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है। मां के कोरोंटाइन सेंटर में होने के कारण यह स्थिति उपजी है।
उन्होंने बताया कि यह पूरा परिवार अहमदाबाद से अजमेर के पीसांगन के नजदीकी भांवता गांव लौटा था जिसके बाद सभी के सैंपल लिए गए थे जिनमें आज दोनों बच्चे पोजिटिव आए हैं। अस्पताल में पोजिटिव मरीजों का आंकड़ा 315 तक पहुंच गया है। आज अस्पताल से सात मरीजों को कोरोना मुक्त कर छुट्टी दे कोरोंटाइन सेंटर भेजा गया। अस्पताल में अब 62 एक्टिव केस है।
डॉ. माहेश्वरी ने यह भी बताया कि कोविड-19 के तहत गर्भवती पोजीटिव महिलाओं में से आज एकबार फिर एक महिला का सफल सिजेरियन ऑपरेशन के जरिए प्रसव कराया गया। उसके बाद मां और बच्चा दोनों स्वस्थ है। इससे पहले भी अस्पताल के कोविड वार्ड में तीन गर्भवती महिलाओं के सफल सिजेरियन ऑपरेशन किए जा चुके है।
अनुराग रामसिंह
वार्ता
image