Tuesday, Aug 9 2022 | Time 04:17 Hrs(IST)
image
राज्य » राजस्थान


बच्चन के हालावाद से हिन्द साहित्य को नया मोड.. शर्मा

उदयपुर, 08 जून (वार्ता) डॉ. हरिवंशराय बच्चन अपनी कविताओं का विषय स्वयं ही थे। जिनमें उनके मनोभावों की सुन्दर अभिव्यक्ति हुई है। वे जीवन की आशाओं और निराशाओं से पूर्ण सन्तुष्ट थे।
यह बात आज यहां प्रबुद्ध लेखक-साहित्यकार डॉ. के.के. शर्मा ने डॉ. जय प्रकाश भाटी ‘नीरव’ की आठवीं पुस्तक ‘बच्चन का काव्यः अभिव्यंजना और शिल्प’ का विमोचन करते हुए कही। उन्होंने कहा कि बच्चन जी ने हालावाद का प्रवर्तन कर हिन्दी साहित्य को नया मोड़ दिया। जिसमें प्रेम ओर सौन्दर्य का अनूठा संगम है। पुस्तक केे लेखक ने बच्चन के साहित्य की विशेषताओं का उल्लख करते हुए कहा कि इन्हीं विशेषताओं से बच्चन पर उनकी यह तीसरी पुस्तक हैं।
डॉ. मलय पानेरी ने कहा कि परिस्थितियां भी कविता की भावभूमि बनाती हैै। बच्चन जी ने अपनी निजी अनुभूतियों को लेकर भी समाज केे सुख-दुःख का कविताओं में सजीव चित्रण किया है। डॉ. नवीन नंदवाना ने बच्चन जी का गीत ‘दिन जल्दी ढलता है’ का पाठ करते हुए कहा कि कवि सांसारिक कठिनाईयों से जूझ रहा है, फिर भी जीवन से उसका गहरा लगाव है।
डॉ. गिरीशनाथ माथुर ने कहा कि बच्चन कवि से पहले कहानीकार भी थे। राजस्थान साहित्य अकादमी के पूर्व सचिव डॉ. लक्ष्मी नारायण नन्दवाना ने अध्यक्षता करते हुए कहा कि बच्चन पर कलम चलाना गहरी समझ का कार्य है। संयोजक विष्णु शर्मा हितैषी ने बच्चन जी के अनछुए परिदृश्यिों के परिप्रेक्ष्य मंे अपनी बात रखी।
रामसिंह
वार्ता
More News
फिट्जी जयपुर सेंटर के छात्र पार्थ भारद्वाज ने जेईई मेन-2022 में सौ प्रतिशत एनटीए हासिल किया

फिट्जी जयपुर सेंटर के छात्र पार्थ भारद्वाज ने जेईई मेन-2022 में सौ प्रतिशत एनटीए हासिल किया

08 Aug 2022 | 9:38 PM

जयपुर, 08 अगस्त (वार्ता) फिट्जी जयपुर सेंटर के छात्र पार्थ भारद्वाज ने जेईई मेन-2022 में सौ प्रतिशत एनटीए हासिल करके एआईआर-3 प्राप्त किया हैं वहीं सेंटर से सत्तर प्रतिशत से अधिक छात्रों ने जेईई एडवान्स् 2022 के लिए क्वालीफाई किया हैं।

see more..
image