Monday, Jul 22 2024 | Time 10:03 Hrs(IST)
image
राज्य » राजस्थान


कटारिया ने राजस्थान के पहले आर्गेनिक फूड फेस्टिवल का किया उद्घाटन

जयपुर, 05 मई (वार्ता) राजस्थान के कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने सहकारिता विभाग एवं कॉनफैड के संयुक्त तत्वावधान में सात मई तक आयोजित तीन दिवसीय प्रदेश के पहले आर्गेनिक फूड फेस्टिवल का आज यहां उद्घाटन किया।
श्री कटारिया ने जवाहर कला केन्द्र के शिल्प ग्राम में आयोजित आर्गेनिक फूड फेस्टिवल के उद्घाटन कार्यक्रम में कहा कि जैविक उत्पादों का उपयोग स्वास्थ्य एवं प्रकृति के अनुकूल है। आज समय की भी मांग है कि आमजन जैविक खाद्य पदार्थों का उपयोग करें एवं भावी पीढ़ी के लिए संसाधनों को सुरक्षित करे।
उन्होंने कहा कि सहकारिता विभाग का यह एक सराहनीय प्रयास है और राजस्थान में पहली बार आर्गेनिक फूड फेस्टिवल का आयोजन किया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि पूरा विश्व वर्ष 2023 को मिलेट्स ईयर के रूप में मना रहा है। राजस्थानवासी सौभाग्यशाली है कि यहां पीढ़ी दर पीढ़ी खाने में मोटे अनाज एवं शुद्धता का ध्यान रखा जाता है। वैज्ञानिक शोध में भी यह तथ्य आया है कि जैविक खाद्य पदार्थ स्वास्थ्य के लिए बेहतर है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने अलग से कृषि बजट पेश किया है जिसमें जैविक खेती पर विशेष ध्यान दिया गया है।
सहकारिता विभाग के रजिस्ट्रार मेघराज सिंह रतनू ने कहा कि विभाग द्वारा पहली बार जयपुरवासियों को एक ही छत के नीचे आर्गेनिक उत्पादों को उपलब्ध कराने की पहल की गई है, साथ ही जैविक खाद्य पदार्थों एवं जैविक खेती के प्रति लोगों को जागरूक करने का भी प्रयास है ताकि लोगों की जीवनचर्या में जैविक उत्पादों का उपयोग बढ़ सके।
कॉनफैड के महाप्रबंधक राजेन्द्र सिंह ने बताया कि आर्गेनिक फूड फेस्टिवल में भैराणा के प्रगतिशील किसान सुरेन्द्र अवाना द्वारा डेयरी प्रोडेक्ट, गोबर की ईट, गोबर का गमला, दीपक, शहद, आंवला कैंडी, मुरब्बा, जैविक खाद, जैविक सब्जी सहित अन्य जैविक पदार्थ बिक्री के लिए उपलब्ध है।
मेलें में जैविक फॉग का रायता, जौ, बाजरा एवं धणी का रायता, तथा मोटे अनाज के रूप में स्वाद के लिए उपलब्ध है। मेलें में जोधपुर से गीता द्वारा स्टॉल पर बाजरे का लड्डू, कुरकुरे, बिस्किट, नमकीन, सहित अन्य पदार्थ उपलब्ध है। नींदड़ की रिया के स्टॉल पर गेहूं, दलिया, दाले, हरी जैविक सब्जी, पनीर, छाछ के अलावा रेडी टू इट आर्गेनिक थाली भी उपलब्ध कराई जा रही है।
इसी प्रकार मेलें में चावल की 12 जैविक किस्में जो देसी बीज की है। वहीं रोस्टेड आईटम, मसाले, खाने का तेल, आटा, चाय, देसी खाण्ड, गुड़ सहित अन्य पदार्थ भी उपलब्ध है।
जोरा
वार्ता
image