Saturday, Mar 2 2024 | Time 09:09 Hrs(IST)
image
राज्य » राजस्थान


हाडोती में भाजपा का दांव पुराने चेहरों पर तो कांग्रेस को उम्मीदें नए चेहरों से

कोटा, 08 नवम्बर (वार्ता) राजस्थान आगामी 25 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव में कोटा संभाग की 17 विधानसभा सीटों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पुराने चेहरों पर निर्भर है तो कांग्रेस ने कुछ सीटों पर नए चेहरों पर भाग्य आजमाया है।
कोटा जिले की सांगोद, पीपल्दा तो झालावाड़ जिले की झालरापाटन सीट इनमें प्रमुख है। हालांकि भाजपा ने भी पीपल्दा और बारां जिले की बारां-अटरू विधानसभा सीट पर नए चेहरों को चुनाव मैदान में उतारा है।
कोटा जिले में कांग्रेस ने विधानसभा सीटों सांगोद और पीपल्दा में इस बार नए चेहरों पर दांव खेला है। यह दोनों ही सीटें अभी कांग्रेस की कोटा जिले की छह में से उन तीन सीटों में शामिल है जहां से वर्तमान में भी कांग्रेस के ही विधायक हैं। इनमें से सामान्य वर्ग की पीपल्दा विधानसभा सीट से कांग्रेस नेतृत्व ने मौजूदा विधायक रामनारायण मीणा का टिकट काटा है जो पूर्व में बूंदी जिले से विधायक रह चुके हैं और एक बार कुछ महीनों के लिए कोटा-बूंदी लोकसभा सीट से सांसद चुने गए थे। पिछले विधानसभा चुनाव में बिल्कुल नई सीट पीपल्दा से विधायक चुने जाने के बाद जी-तोड़ कोशिश करने के उपरांत भी वे अशोक गहलोत मंत्रिमंडल में जगह नहीं पा सके। हालांकि वे पूर्व में राजस्थान विधानसभा के उपाध्यक्ष रह चुके हैं।
कांग्रेस ने पीपल्दा से इस बार इस सीट पर एकदम नए और युवा चेहरे चेतन पटेल पर दांव खेला है। 31 वर्षीय चेतन पटेल ने कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में बहुत बढचढ कर भाग लिया था और इसी दौरान कांग्रेस के बड़े नेताओं से नजदीकी संपर्क बनाने में कामयाब है जिसका लाभ उन्हें मिला। भाजपा ने भी यहां से नए चेहरे प्रेम गोचर को अपना प्रत्याशी बनाया।
कोटा जिले की सांगोद में मौजूदा कांग्रेस विधायक और पूर्व में कैबिनेट मंत्री रह चुके भरत सिंह कुंदनपुर के चुनाव लड़ने में असमर्थता जताने के बाद यहां से कांग्रेस ने नए चेहरे के रूप में नए देहात अध्यक्ष बने भानु प्रताप सिंह को चुनाव लड़ाने का फैसला किया है जो कोटा-बूंदी संसदीय क्षेत्र में युवक कांग्रेस के निर्वाचित अध्यक्ष भी रह चुके हैं लेकिन अब श्री भरत सिंह उनके खिलाफ खड़े हो गए हैं क्योंकि भानु प्रताप सिंह उनके स्थान पर कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में उनकी प्राथमिकता में शामिल नहीं थे। वे सांगोद अध्यक्ष कुशल पाल सिंह या ब्लॉक अध्यक्ष पूजा सिंह कमोलर को टिकट दिलवाने चाहते थे लेकिन पार्टी की पसंद बने भानु प्रताप सिंह जिनके बारे में यह कहा जा रहा है कि उन्हें अंता से विधायक खान मंत्री प्रमोद जैन भाया के प्रयासों से टिकट मिला है और श्री जैन से श्री भरत सिंह की नाराजगी तो जगजाहिर है।
कांग्रेस ने झालरापाटन सीट पर अरसे बाद स्थानीय व्यक्ति रामलाल चौहान को चुनाव मैदान में उतारा है।
भाजपा ने बारां जिले में बड़ा बदलाव बारा-अटरू विधानसभा सीट पर किया है जहां से पार्टी ने नए चेहरे राधेश्याम बैरवा को चुनाव मैदान में उतार कर बड़ा दांव खेला है जो बहुत ही साधारण परिवार से हैं।
बूंदी जिले में हिंडोली सीट पर एक बार फिर से प्रभू लाल सैनी भाजपा के प्रत्याशी हैं। पिछले चुनाव में बारां जिले की के अंता सीट पर कांग्रेस के प्रमोद जैन भाया के खिलाफ लड़कर हार चुके श्री सैनी ने इसके पहले वर्ष 2013 में अंता से प्रमोद जैन भाया को हराया था और उसके बाद श्रीमती वसुंधरा राजे की सरकार की कैबिनेट में कृषि मंत्री थे। पिछली बार वप्रमोद जैन के खिलाफ चुनाव लड़े मगर हार गए और इस बार वे फ़िर अंता सीट पर चुनाव लड़ने का जोखिम नहीं लेना चाहते थे और माली समाज के बहुल वाली बूंदी जिले के हिंडोली सीट से ही लड़ना चाहते थे जहां से वह पूर्व में भी विधायक रह चुके हैं। श्री सैनी को अंता की जगह हिंडोली विधानसभा सीट से टिकट मिल गया जहां उनका मुकाबला एक और प्रभावी युवा कांग्रेस नेता अशोक चांदना से होना है जो अभी वहां से विधायक हैं और राज्य सरकार में खेल राज्य मंत्री भी हैं।
सं जोरा
वार्ता
More News
गहलोत विधानसभा हार की हताशा में भाजपा पर लगा रहे है आरोप: अर्जुनराम

गहलोत विधानसभा हार की हताशा में भाजपा पर लगा रहे है आरोप: अर्जुनराम

01 Mar 2024 | 10:26 PM

जयपुर, 01 मार्च (वार्ता) केंद्रीय कानून, न्याय तथा संस्कृति एवं संसदीय कार्य राज्य मंत्री अर्जुनराम मेघवाल ने पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बयान पर पलटवार करते हुए कहा है कि वह गत विधानसभा चुनाव में हार की हताशा में राज्य के मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर आरोप लगा रहे है।

see more..
image