Saturday, Apr 13 2024 | Time 02:02 Hrs(IST)
image
राज्य » राजस्थान


गडकरी ने जयपुर रिंगरोड के द्वितीय चरण के लिए पांच हजार करोड़ की मंजूरी की घोषणा की

उदयपुर 12 फरवरी (वार्ता) केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने जयपुर रिंगरोड के द्वितीय चरण के लिए पांच हजार करोड़ की मंजूरी देने की घोषणा की है वहीं रिंग रोड परियोजना के तहत 92 किलोमीटर के छह लेन ग्रीनफील्ड हाईवे का काम तीन महीने में प्रारम्भ किया जाएगा।
श्री गडकरी सोमवार को यहां मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा की मौजूदगी में उदयपुर में 2500 करोड़ रूपए से अधिक की लागत की 17 सड़क परियोजनाओं के लोकार्पण-शिलान्यास समारोह सहित विभिन्न कार्यक्रमों में सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने इस अवसर पर जोधपुर एलिवेटेड रोड परियोजना को मंजूरी देने की घोषणा भी की। उन्होंने कहा कि राजस्थान में राष्ट्रीय राजमार्गों के विकास से यहां के सीमेंट, मार्बल और अन्य उद्योगों का तेजी से विकास होगा और और राज्य प्रगति की नई ऊंचाइयां को छुएगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार राजस्थान को रेलवे फाटक मुक्त बनाने की दिशा में योजना तैयार करे, केन्द्र सरकार इसमें पूरी मदद करेगी।
उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में हमें प्रदूषण फैलाने वाले परंपरागत ईंधन को छोड़कर बॉयो-डीजल जैसे वैकल्पिक ईंधन को अपनाने की आवश्यकता है। इसी क्रम में शीघ्र ही दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस-वे हाईवे पर इलेक्ट्रिक बसें चलाई जाएंगी। इन बसों में यात्रा सुविधाजनक होगी और किराया डीजल बसों की तुलना में 30 प्रतिशत कम होगा। उन्होंने कहा कि जयपुर-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर किशनगढ़ से दिल्ली के बीच मरम्मत का कार्य 1500 करोड़ की लागत से कराया जा रहा है। यह कार्य आगामी जून तक पूरा हो जाएगा। जयपुर-धौलपुर वाया कोथून-लालसोट-करौली की 93 किमी लम्बी सड़क का कार्य 150 करोड़ रूपये की लागत से कराया जा रहा है, जो जून तक पूरा हो जाएगा। इसी प्रकार दो हजार करोड़ रूपये की लागत से 105 किमी के जोधपुर रिंग रोड का कार्य भी शीघ्र पूरा कर लिया जाएगा।
श्री गडकरी ने कहा कि शहरी क्षेत्र की तरह ग्रामीण और जनजातीय क्षेत्रों में भी आर्थिक प्रगति होनी चाहिए, इसलिए केंद्र सरकार जनजातीय क्षेत्रों में भी सड़क तंत्र के विकास और सुदृढ़ीकरण पर विशेष ध्यान दे रही है। उन्होंने कहा कि उदयपुर में 900 करोड़ रूपये की लागत से 23 किलोमीटर के छह लेन बाईपास ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे का निर्माण पूरा होने से उदयपुर शहर को अहमदाबाद जाने वाले ट्रेफिक के दबाव से निजात मिली है।
उन्होंने कहा कि उदयपुर-चितौडगढ़ हाईवे का काम पूरा होने से भी आवागमन में राहत मिलेगी। उन्होंने कहा कि नाथद्वारा-चारभुजा वाया हल्दीघाटी, कुम्भलगढ़ दो लेन सड़क, देवल-डूंगरपुर-सागवाड़ा सड़क का कार्य भी इस साल में पूरा हो जाएगा। करीब 800 करोड़ की लागत से ब्यावर-गोमती चार लेन हाईवे का कार्य जून तक पूरा हो जाएगा। जालोर-सांडेराव 41 किमी सड़क का कार्य 411 करोड़ रूपये की लागत से आगामी दिसम्बर तक पूरा करवा लिया जाएगा। इसी प्रकार झालावाड़-उज्जैन 134 किमी सड़क, गंगानगर-रायसिंहनगर की 102 किमी सड़क एवं बाड़मेर-गागरिया 70 किमी दो लेन सड़क का कार्य 2024 में पूरा हो जाएगा।
उन्होंने कहा कि अजमेर-नागौर सड़क पर 255 करोड़ रूपये की लागत से चार बाईपास का निर्माण सहित उन्नयन कार्य भी इस वर्ष तक पूरा कर लिया जाएगा। बड़ौदामेव-पनियाला छह लेन एक्सप्रेस-वे एवं हनुमानगढ़-केंचिया के बीच 50 किमी दो लेन सड़क का कार्य 2025 तक पूरा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रतापगढ़-नीमच- चित्तौड़गढ़ की कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए 100 किमी सड़क की डीपीआर शीघ्र बनवाई जाएगी।
जोरा
जारी वार्ता
More News
जीजेईपीसी ने जयपुर में विशेष रत्न एवं आभूषण शो का शुभारंभ किया

जीजेईपीसी ने जयपुर में विशेष रत्न एवं आभूषण शो का शुभारंभ किया

12 Apr 2024 | 10:36 PM

जयपुर, 12 अप्रैल (वार्ता) देश में रत्न और आभूषण उद्योग की सर्वोच्च संस्था रत्न एवं आभूषण निर्यात संवर्धन परिषद (जीजेईपीसी) ने जयपुर में अंतरराष्ट्रीय खरीददारों के लिए तीन दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय रत्न और आभूषण शो के तीसरे संस्करण का शुक्रवार को शुभारंभ किया।

see more..
image