Wednesday, Sep 26 2018 | Time 14:11 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • नंबर वन हालेप वुहान ओपन से बाहर
  • जस्टिस गोगोई की नियुक्ति के खिलाफ याचिका खारिज
  • दिल्ली पुलिस अरुणाचल के युवाओं की भर्ती करेगी
  • अदालती सुनवाई के सीधे प्रसारण की अनुमति, जल्द बनेंगे कायदे कानून
  • उत्तरी दिल्ली में इमारत गिरी, दो बच्चों की मौत
  • ताइ‌वान को हथियार ना बेचे अमेरिका: चीन
  • ईरान पर अमेरिका नीत पाबंदियां ‘आर्थिक आतंकवाद’: रूहानी
  • रुपये की संदर्भ दर
  • दिल्ली में सुबह का मौसम खुशनुमा
  • अंपायरिंग से नाराज़ धोनी ने किया कटाक्ष
  • अंपायरिंग से नाराज़ धोनी ने किया कटाक्ष
  • अमेरिकी वैज्ञानिकों की जासूसी के आरोप में चीनी नागरिक गिरफ्तार
  • भाजपा के बंगाल बंद का मिलाजुला असर
  • कुछ शर्तों के साथ आधार कार्ड की संवैधानिक वैधता बरकरार
खेल Share

इंग्लैंड टीम की 1990 में अंतिम-चार में हार पर तो बतौर डाक्यूमेंट्री तक बनाई गयी जिसके बाद वह फिर कभी विश्वकप में इस दौर तक पहुंच ही नहीं सका। इंग्लैंड वर्ष 1966 में एकमात्र बार विश्वकप चैंपियन बना था लेकिन 52 वर्षों से उसका खिताबी सूखा समाप्त नहीं हुआ है।
इंग्लिश डिफेंडर एश्ले यंग ने भी माना कि इतिहास में क्या हुआ उसका मौजूदा समय पर असर नहीं होना चाहिये। उन्होंने कहा“ हम इस बात पर ध्यान लगा रहे हैं कि अब क्या हो रहा है न कि इतिहास में क्या हुआ। हम भविष्य की तरफ देख रहे हैं।”
रूस विश्वकप इस बार कई मायनों में अलग रहा है जिसमें मुख्य बात यह रही कि यहां इटली, चिली जैसी बड़ी टीमें बाहर रहीं तो जो टीमें फाइनल्स तक पहुंची उनमें अधिकतर को खिताब का दावेदार माना ही नहीं गया। लेकिन इन टीमों ने अपने प्रदर्शन से खुद को साबित किया है और अब किसी भी टीम को कम नहीं आंका जा सकता है।
क्रोएशिया की ग्रुप चरण में अर्जेंटीना पर 3-0 की जीत ने साफ कर दिया कि मिडफील्डर लुका मोडरिच की अगुवाई वाली टीम मैदान पर अपनी मूवमेंट और पासिंग में विशेषज्ञ है। क्वार्टफाइनल में रूस के खिलाफ भी क्रोएशिया ने अलग ही तरह का क्लास दिखाया और 120 मिनट तक मेजबान टीम के खिलाड़ियों को नियंत्रित रखा।
इंग्लैंड की टीम ने भी इस बार गोल करने के मामले में कमाल किया है और ग्रुप चरण में पनामा के खिलाफ उसकी 6-1 की जीत सबसे यादगार रही थी जबकि अंतिम-16 में कोलंबिया पर जीत प्रभावशाली थी। वहीं क्वार्टरफाइनल में स्वीडन पर 2-0 की जीत में इंग्लिश खिलाड़ियों ने बहुत ही संयमित प्रदर्शन किया।
क्रोएशिया और इग्लैंड के बीच पिछले मुकाबलों को देखें तो मैच में इंग्लिश टीम का पलड़ा कुछ भारी लगता है। दोनों के बीच सात मैचों में इंग्लैंड ने चार जीते हैं जिसमें वर्ष 2009 में विश्वकप क्वालिफायर मैच भी शामिल हैं जहां उसने क्रोएशिया को 5-1 से हराया था।
प्रीति
वार्ता
More News

26 Sep 2018 | 1:28 PM

 Sharesee more..
अंपायरिंग से नाराज़ धोनी ने किया कटाक्ष

अंपायरिंग से नाराज़ धोनी ने किया कटाक्ष

26 Sep 2018 | 1:09 PM

दुबई, 26 सितंबर (वार्ता) भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अफगानिस्तान के खिलाफ एशिया कप में टाई रहे मैच में अंपायरिंग गलतियों को लेकर कटाक्ष किया है, हालांकि उन्होंने साथ ही कहा कि वह इस मामले में साफतौर पर कुछ नहीं कहेंगे नहीं तो उनपर जुर्माना लग सकता है।

 Sharesee more..
टाई रहा भारत और अफगानिस्तान का रोमांचक मुकाबला

टाई रहा भारत और अफगानिस्तान का रोमांचक मुकाबला

26 Sep 2018 | 8:12 AM

दुबई, 25 सितम्बर (वार्ता) भारत और अफगानिस्तान के बीच एशिया कप क्रिकेट टूर्नामेंट का सुपर-4 मुकाबला मंगलवार को रोमांच की पराकाष्ठा पर पहुंचने के बाद टाई समाप्त हो गया।

 Sharesee more..

26 Sep 2018 | 1:21 AM

 Sharesee more..

26 Sep 2018 | 1:20 AM

 Sharesee more..
image