Thursday, Nov 15 2018 | Time 17:44 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • श्रीलंकाई महिलाओं ने बंगलादेश को हराया
  • माफी नहीं मांगने पर सूचना मंत्री फवाद चौधरी के संसद सत्र में भाग लेने पर रोक
  • 1984 दंगे: दो दोषियों की सजा पर फैसला 20 नवम्बर को
  • देश के विकास में झारखंड की महत्वपूर्ण भूमिका : द्रौपदी
  • सुभाष देखमुख ने किया मार्कफेड के आउटलेट का दौरा
  • पंजाब की चीनी मिलों में लगाए जाएंगे इथनोल और बिजली सयंत्र: रंधावा
  • विंडीज़ महिलाएं 31 रन से जीतीं
  • बेंगलुरू उड़ान के साथ प्रयागराज छह शहरों से सीधा जुडा:नंदी
  • द्रौपदी और रघुवर ने धरती आबा भगवान बिरसा को दी श्रद्धांजलि
  • कुपवाड़ा में नियंत्रण रेखा के पास सुरक्षा बलों का तलाश अभियान
  • सिंगापुर में हुई मोदी-पुतिन की संक्षिप्त वार्ता
  • 218 रन की जीत के साथ बंगलादेश ने ड्रॉ कराई सीरीज़
  • ब्रेक्सिट मसौदा समझौते को लेकर ब्रिटेन के मंत्री का इस्तीफा
  • गांधीजी, पटेल, सावरकर, आंबेडकर को इरादतन भुलाने के प्रयास नहीं होंगे सफल - मुख्यमंत्री
  • डूसू अध्यक्ष अंकिव बसोया एबीवीपी से निष्कासित, अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने की हिदायत
खेल Share

भारतीय क्रिकेटर विराट कोहली के लिये इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज़ उनके व्यक्तिगत प्रदर्शन के लिहाज़ से भी काफी अहम मानी जा रही है जिनका 2014 की आखिरी सीरीज़ में बल्ले से प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा था। विराट अब दुनिया के स्टार बल्लेबाज़ों में शुमार हैं तो बतौर कप्तान उनपर 11 वर्ष बाद भारत को इंग्लैंड की जमीन पर सीरीज़ जितवाने का दारोमदार है।
भारत ने आखिरी बार 2007 में इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज़ जीती थी जबकि महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में उसे 2011 में 0-4 से और 2014 में 1-3 से सीरीज़ में शिकस्त मिली है। इसके अलावा भारतीय टीम के मौजूदा बल्लेबाजी क्रम में विराट सबसे भरोसेमंद चेहरा हैं। एसेक्स के खिलाफ अभ्यास मैच में टीम के शीर्ष क्रम के तीन बल्लेबाज़ों शिखर धवन, चेतेश्वर पुजारा और उपकप्तान अजिंक्या रहाणे की निराशाजनक फार्म के बाद तो विराट की जिम्मेदारी और भी बढ़ गयी है।
शास्त्री ने कहा“ विराट ने पिछले चार वर्षाें में कमाल की फार्म दिखाई है और यह सभी जानते हैं। यदि आप इस तरह से और इस मानसिकता के साथ खेलते हैं तो आप किसी भी परीक्षा के लिये तैयार रहते हैं। जब विराट यहां 2014 में खेले थे तब उन्होंने निराश किया लेकिन चार वर्ष बाद वह दुनिया के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर हैं। वह यहां अब दुनिया को दिखाने आये हैं कि वह दुनिया के बेहतरीन खिलाड़ी हैं।”
कोच ने साथ ही माना कि भारतीय टीम को इंग्लैंड में जीत के लिये आक्रामकता के साथ निडर होकर भी खेलना होगा। उन्होंने कहा“ खिलाड़ियों को मजे लेकर और आक्रामकता के साथ खेलना होगा। हम यहां मैच ड्रॉ कराने नहीं बल्कि सीरीज़ जीतने आये हैं। हम हर मैच को ताकत से खेलेंगे।”
प्रीति
वार्ता
More News

विंडीज़ महिलाएं 31 रन से जीतीं

15 Nov 2018 | 5:25 PM

 Sharesee more..

15 Nov 2018 | 5:00 PM

 Sharesee more..

दिल्ली को मिले 3 अंक, हिमाचल को 1 अंक

15 Nov 2018 | 5:00 PM

 Sharesee more..
29 साल की रदवांस्का ने लिया संन्यास

29 साल की रदवांस्का ने लिया संन्यास

15 Nov 2018 | 4:41 PM

लंदन, 15 नवंबर (वार्ता) पूर्व विंबलडन फाइनलिस्ट पोलैंड की एग्निजस्का रदवांस्का ने शारीरिक समस्याओं के चलते 29 साल की उम्र में ही अंतरराष्ट्रीय टेनिस को अलविदा कह दिया है।

 Sharesee more..
image