Sunday, Feb 17 2019 | Time 15:17 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दो पटरियों पर चल रही राजग सरकार की विकास यात्रा : मोदी
  • हरियाणा की राष्ट्रपति भवन को मुर्रा भैंस और साहीवाल गाय देने की पेशकश
  • हरियाणा की राष्ट्रपति भवन को मुर्रा भैंस और साहीवाल गाय देने की पेशकश
  • शहीदों के परिजनों से प्रियंका ने बात की, मदद का भरोसा दिया
  • पुणे ने किया जमशेदपुर का नुकसान, बेंगलुरू प्लेआफ में
  • बीसीसीआई शहीदों के परिवारों को दे 5 करोड़ की मदद : सीके खन्ना
  • मुस्लिम फ्रंट ने की पुलवामा हमले की पुरजोर निंदा
  • सोना 170 रुपये महंगा; चांदी स्थिर
  • शंकराचार्य ने अयोध्या के लिए 'रामाग्रह यात्रा' स्थगित की
  • कृषि के क्षेत्र में देश का नेतृत्व करे हरियाणा:कोविंद
  • अफगानिस्तान में बम विस्फोट से तीन लोगों की मौत
  • मोदी ने कहा, जो आग आपके दिल में है, वही आग मेरे दिल में भी
  • कृषि के क्षेत्र में देश का नेतृत्व करे हरियाणा:कोविंद
  • उत्तर प्रदेश में 107 वरिष्ठ पीसीएस अधिकारियों का तबादला
  • जम्मू में कर्फ्यू तीसरे दिन भी जारी, स्थिति सामान्य
खेल Share

सुशील और बजरंग के अलावा संदीप कुमार 57, पवन कुमार 86 और मौसम खत्री 97 किग्रा वर्ग में अपनी ताल ठोकेंगे। इन पहलवानों के लिये खुद को साबित करने का यह एक अच्छा मौका है।
महिला पहलवानों में ओलम्पिक पदक विजेता साक्षी मलिक और इस साल गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में 50 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीतने वाली विनेश भी पदक दावेदार हैं। विनेश ने पिछले एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीता था।
ग्रीको रोमन पहलवानों के हाल के अच्छे प्रदर्शन को देखते हुए उनसे भी पदक की उम्मीद की जा रही है। ग्रीको रोमन पहलवान हमेशा फ्री स्टाइल पहलवानों की छाया में रह जाते हैं लेकिन ग्रीको रोमन दल के कोच कुलदीप सिंह का मानना है कि भारतीय पहलवान इस बार ग्रीको रोमन वर्ग में भी कुछ पदक जीतेंगे। हालांकि इस शैली में ईरान और कजाखिस्तान के पहलवान सर्वश्रेष्ठ माने जाते हैं।
भारत को ग्रीको रोमन में गुरप्रीत(77), हरप्रीत(87) और नवीन(130) से पदक की उम्मीदें रहेंगी। भारत ने पिछले साल जकार्ता में हुये एशियाई इंडोर खेलों में ग्रीको रोमन में दो रजत और एक कांस्य पदक जीता था। नवीन और हरप्रीत ने रजत और गुरप्रीत ने कांस्य पदक जीता था। एशियाई खेलों में ग्रीको रोमन वर्ग में पदक जीतने वाले आखिरी पहलवान सुनील राणा और रवीन्दर सिंह थे जिन्होंने 2010 ग्वांग्झू में कांस्य पदक जीते थे।
राज प्रीति
वार्ता
image