Tuesday, Nov 20 2018 | Time 18:47 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सस्ते दर पर गुणवत्तापूर्ण दवाओं से लोगों के 15 हजार करोड़ बचे:मंडाविया
  • सस्ते दर पर गुणवत्तापूर्ण दवाओं से लोगों के 15 हजार करोड़ बचे:मंडाविया
  • राम मंदिर निर्माण के लिए सरकार अध्यादेश लाये:गिरिराज
  • उत्तराखंड नगर निकाय चुनाव में भाजपा आगे
  • विजयराघवगढ़ में संजय पाठक की प्रतिष्ठा दांव पर, रोचक मुकाबले की उम्मीद
  • उच्च शिक्षा का औसत 30 प्रतिशत करने को प्रतिबद्ध : नीतीश
  • आस्ट्रेलिया में विजयी शुरूआत के लिये उतरेगी टीम विराट
  • मानव सेवा ही सबसे श्रेष्ठ सेवा, मिलती है धर्म और कर्तव्य की झलक: आर्य
  • ट्रंप ने अर्जेंटीना पनडुब्बी हादसे में मारे गये लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना
  • सुषमा का फैसला निजी मामला: कांग्रेस
  • एडिडास से जुड़े हॉकी कप्तान मनप्रीत सिंह
  • गुरुप्रताप बोपाराय फॉक्सवैगन इंडिया के भी प्रबंध निदेशक होंगे
  • पुणे से सिंगापुर के लिए उड़ान शुरू करेगी जेट एयरवेज
  • सिन्हा के हलफनामे पर जवाब दें मोदी : कांग्रेस
  • रुपये में लगातार छठे दिन तेजी
खेल Share

सेना में नायब सूबेदार के पद पर कार्यरत अमित के लिये फाइनल मुकाबला बहुत ही चुनौतीपूर्ण माना जा रहा था जहां उनके सामने ओलंपिक चैंपियन हसनब्वॉय थे लेकिन भारतीय खिलाड़ी ने शुरूआत से ही अपनी रक्षात्मक शैली से उलट आक्रामकता के साथ खेला जबकि उज्बेक पहलवान पहले राउंड में केवल रक्षात्मक खेलते रहे।
अमित ने दूसरे राउंड में लगातार तीन पंच लगाकर अंक बटोरे। उन्होंने 25 वर्षीय विपक्षी मुक्केबाज़ के सिर के पीछे भी पंच जड़े, हालांकि इससे उन्हें अंक नहीं मिले लेकिन हसनब्वॉय इससे कमजोर जरूर पड़े। उज्बेक मुक्केबाज़ ने भी वापसी करते हुये अच्छे पंच जड़े, हालांकि भारतीय खिलाड़ी का पलड़ा दो राउंड के बाद भारी ही रहा।
तीसरा राउंड और भी रोमांचक रहा जिसमें अमित ने आक्रामकता दिखाने के साथ काफी बचाव भी किया और बायीं एवं दायीं ओर से हुक्स लगाये। उन्होंने हसनब्वॉय के सामने अपनी लंबी कदकाठी का भी फायदा उठाया और आखिरी 15 सेकंड में उज्बेक मुक्केबाज़ के चेहरे पर लगातार पंच जड़े। अमित ने तीसरे राउंड के निर्णायक पलों में किलर पंच लगाकर जो अंक बटोरा वह उन्हें जीत दिलाने के लिये निर्णायक साबित हुआ।
रोहतक में जन्मे अमित ने 2008 में मुक्केबाजी शुरू की थी। उन्होंने इस साल गोल्डकोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक हासिल किया था जबकि इसी साल बुल्गारिया के सोफिया में हुए स्ट्रैंडजा मैमोरियल टूर्नामेंट में स्वर्ण पदक जीता था। भारतीय सेना ने 2017 में अमित को महार रेजीमेंट में नियुक्त किया था।
वर्ष 2016 में सीनियर मुक्केबाजी में प्रवेश करने वाले अमित ने 2017 एशियाई चैंपियनशिप में कांस्य जीता था जबकि हसनब्वॉय विश्व चैंपियनशिप के रजत विजेता और 2015 तथा 2017 एशियाई चैंपियनशिप के विजेता रहे थे।
राज प्रीति
वार्ता
More News

24 साल हर रोज परीक्षा दी: सचिन

20 Nov 2018 | 6:43 PM

नयी दिल्ली, 20 नवम्बर (वार्ता) युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणा स्त्रोत भारत रत्न सचिन तेंदुलकर ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने अपने करियर में 24 साल हर रोज मैच की तैयारी के जैसे परीक्षा दी ताकि वह देश के लिए बेहतर प्रदर्शन कर सकें।

 Sharesee more..
आईसीसी ने भारतीय बोर्ड के खिलाफ खारिज की पीसीबी की अपील

आईसीसी ने भारतीय बोर्ड के खिलाफ खारिज की पीसीबी की अपील

20 Nov 2018 | 6:25 PM

नयी दिल्ली, 20 नवंबर (वार्ता) भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड(बीसीसीआई) से द्विपक्षीय सीरीज़ रद्द करने के एवज़ में भारी भरकम मुआवज़े की मांग कर रहे पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड(पीसीबी) को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट संस्था से बुधवार को जोर का झटका लगा जिसने लंबी बहस और सुनवाई के बाद उसकी अपील खारिज कर दी।

 Sharesee more..

एडिडास से जुड़े हॉकी कप्तान मनप्रीत सिंह

20 Nov 2018 | 6:19 PM

 Sharesee more..
image