Wednesday, Jul 24 2019 | Time 13:05 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सदर बाजार में इमारत ढही: कोई हताहत नहीं
  • वन अधिनियम में प्रस्तावित संशोधन के विरोध में झामुमो ने किया प्रदर्शन
  • संजीव भट्ट को मानवाधिकारों से वंचित रखा गया: श्वेता भट्ट
  • ट्रम्प के आरोप पर मोदी से सच्चाई सुनना चाहता है देश: अधीर
  • वतन बचाने के लिये कश्मीर मुद्दे का हल निकालना जरूरी- फारूख
  • हिमा दास को सम्मान निधि देने पर विचार करेगी सरकार - कमलनाथ
  • चीन में भूस्खलन में नौ लोगों की मौत
  • शिक्षा के क्षेत्र में गुणवत्ता के लिए समिति बनेगी - कमलनाथ
  • कर्नाटक: याचिका वापस लेने की अनुमति पर गुरुवार को आदेश
  • अवैध रेत खनन मामले में केंद्र, पांच राज्यों को नोटिस
  • बोरिस जॉनसन के ब्रिटेन के प्रधानमंत्री का पद संभालने की उम्मीद
  • हाउसफुल-4 में रैप सांग गायेंगे अक्षय कुमार
  • कंगना के साथ काम करना हमेशा मजेदार : राजकुमार
  • फिल्मों में कमबैक को लेकर बेताब हैं ऋषि कपूर
  • ट्विंकल से सलाह लेते रहते हैं अक्षय
राज्य


इलाहाबाद में गंगा और यमुना का जलस्तर खतरे के निशान की ओर

इलाहाबाद में गंगा और यमुना का जलस्तर खतरे के निशान की ओर

इलाहाबाद, 03 सितम्बर (वार्ता) मध्य प्रदेश,उत्तराखंड और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हो रही लगातार बारिश के चलते पिछले 24 घंटों को दौरान गंगा तथा यमुना नदी के जलस्तर लगातार खतरे के निशान की ओर बढ़ रहा है। जिलाधिकारी ने एसडीएम और तहसीलदारों को बाढ प्रभावित क्षेत्रों में कैंप करने का निर्देश दिया है।

मध्यप्रदेश में हो रही बारिश के चलते केन और बेतवा नदियों का जल स्तर बढ़ गया है। झांसी के मातीटीला डैम, नरौरा और टिहरी डैम से छोडा गया पानी इलाहाबाद में पहुंचने लगा जिससे गंगा और यमुना नदियों का पानी तेजी से खतरे के निशान की ओर तेजी से बढ़ रहा है।

बाढ़ नियंत्रण कक्ष द्वारा प्राप्त आंकडों के अनुसार पिछले 24 घंटे के दौरान फाफामऊ में गंगा का जलस्तर क्रमश: 31, छतनाग में 51 और नैनी (यमुना) में 56 सेंटीमीटर बढ़ गया है।

उन्होंने बताया कि रविवार को फाफामऊ में गंगा का जलस्तर 80.28 मीटर दर्ज किया गया था जो सोमवार को 80.59 मीटर दर्ज किया गया है। इसी प्रकार छतनाग का जलस्तर 78.40 मीटर था जो बढ़कर 78.91 मीटर हो गया है जबकि यमुना का जलस्तर 78.98 दर्ज किया गया था जो बढ़कर 79.54 मीटर पर पहुंच गया है। गंगा के खतरे का निशान 84.73 मीटर दर्ज है।

जिलाधिकारी सुहास एल वाई ने निचले क्षेत्रों में पानी घुसने की खबर से सभी एसडीएम और तहसीलदारों को बाढ प्रभावित क्षेत्रों में कैंप करने का निर्देश दिया है। राहत में तैनात कर्मियों के अवकाश भी रद्द कर दिये गये हैं। नायब तहसीलदारों, राजस्व निरीक्षकों के साथही लेखपालों को बाढ प्रभावित मोहल्लों एवं गांवों की लगातार रिपोर्ट देने को कहा गया है। घाट पर रहने वाले तीर्थ पुरोहिताें को लगातार अपनी चौकियां पीछे खिसका ली हैं।

दिनेश भंडारी

वार्ता

More News
वतन बचाने के लिये कश्मीर मुद्दे का हल निकालना जरूरी- फारूख

वतन बचाने के लिये कश्मीर मुद्दे का हल निकालना जरूरी- फारूख

24 Jul 2019 | 12:46 PM

अजमेर 24 जुलाई (वार्ता)राजस्थान के अजमेर में जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री डा. फारूख अब्दुल्ला ने एक बार फिर कहा है कि वतन को बचाने के लिये कश्मीर मुद्दे का हल निकालना जरुरी है और यह पाकिस्तान के बिना नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि ये दोनों देशों के बीच ' नासूर ' बन गया है।

see more..
शिक्षा के क्षेत्र में गुणवत्ता के लिए समिति बनेगी - कमलनाथ

शिक्षा के क्षेत्र में गुणवत्ता के लिए समिति बनेगी - कमलनाथ

24 Jul 2019 | 12:44 PM

भोपाल, 24 जुलाई (वार्ता) मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आज विधानसभा में कहा कि शिक्षा की गुणवत्ता और उत्कृष्टता के लिए राज्य सरकार एक उच्च स्तरीय समिति गठित करेगी।

see more..
image