Monday, Nov 19 2018 | Time 23:38 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भारत और वियतनाम के आर्थिक दृष्टिकोण एक समान:कोविंद
  • सांबा में ग्रेनेड अभ्यास के दौरान विस्फोट, बीएसएफ के सहायक कमांडर की मौत
  • मुख्यमंत्री ने सूखाग्र्रस्त कच्छ का दौरा किया, की समीक्षा बैठक
  • प्रेमी युगल ने की आत्महत्या
  • गांवों में बदलाव का वाहक बनेगा कृषि विश्वविद्यालय : रघुवर
  • गुजरात सरकार बीएसएनएल की बजाय वोडाफोन की महंगी सेवाएं क्यों ले रही - कांग्रेस
  • डेयरी इंजीनियरिंग कॉलेज में नये साल से शुरू होगी पढ़ाई
  • आरबीआई के इकोनाॅमिक कैपिटल फ्रेमवर्क के परीक्षण के लिए विशेषज्ञ समिति बनाने का निर्णय
  • कृषि ऋण को लेकर मोदी की टिप्पणी हैरत करने वाली :कुमारस्वामी
  • गोरखपुर के पुलिस क्षेत्राधिकारी यातायात संतोष कुमार सिंह निलंबित
  • सांबा में ग्रेनेड विस्फोट में बीएसएफ जवान शहीद
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • मऊ में सरे शाम बंगाली चिकित्सक की गोली मारकर हत्या से सनसनी
  • फोटो कैप्शन-दूसरा सेट
  • बिहार की समृद्धि का आधार कृषि : लालजी
राज्य Share

जन्माष्टमी पर द्वारका और डाकोर के कृष्ण मंदिरों में उमड़ी भक्तो की भीड़

द्वारका/डाकोर (गुजरात), 03 सितंबर (वार्ता) गुजरात स्थित भगवान कृष्ण के दो विश्वप्रसिद्ध मंदिरों सौराष्ट्र में द्वारका के जगत मंदिर तथा मध्य गुजरात के डाकोर के रणछोड़राय जी मंदिर में आज जन्माष्टमी के मौके पर मनोहारी सजावट की गयी है तथा विशेष पूजा अर्चना के आयोजनों के बीच भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी।
भगवान विष्णु, श्रीकृष्ण को जिनका अवतार माना जाता है, के उत्तर गुजरात स्थित विख्यात शामलाजी मंदिर में कुछ ऐसा ही माहौल दिखा।
तीनो ही मंदिरों में भगवान की प्रतिमा का आज रत्नाभूषणों से विशेष शृंगार किया गया।
द्वारका के जगत मंदिर में हर साल जन्माष्टमी के मौके पर मध्य रात्रि से तड़के ढाई बजे तक विशेष जन्मोत्सव दर्शन के दौरान भगवान को विशेष अाभूषणों से सजाया जाता है। मंदिर के उप प्रशासक ने बताया कि नियमित आयोजित होने वाली मंगला, शृंगार, संध्या और शयन आरती के स्थान पर जन्माष्टमी का मुख्य आकर्षण यहीं होता है। आम तौर पर इस मंदिर में रोज दस हजार के आसपास दर्शनार्थी आते हैं पर जन्माष्टमी की पूर्व संध्या पर यह संख्या 50 हजार या उससे अधिक और जन्माष्टमी को 80 हजार से एक लाख तक पहुंच जाती है।
उधर डाकोर मंदिर के संचालन ट्रस्ट के एक अधिकारी ने बताया कि आज कृष्ण स्वरूप रणछोड़रायजी की प्रतिमा को तीन से चार किलो सोने से बने और रत्न एवं हीर आदि जटित मुकुट पहनाया जाता है। ऐसा साल भर में जन्माष्टमी के अलावा केवल दो अौर मौकों अाश्विन और कार्तिक पूर्णिमा को ही किया जाता है।
उन्होने बताया कि आम तौर पर यह मंदिर सुबह साढ़े छह बजे मंगला आरती के साथ खुलता है और शाम साढ़े सात बजे अंतिम आरती शयना आरती के साथ बंद हो जाता है पर जन्माष्टमी को यह मंदिर के पट मध्यरात्रि के बाद भी खुले रहते हैं।
रजनीश
वार्ता
More News
राफेल विवाद से वायु सेना की छवि पर असर नहीं पड़ेगा: नांबियार

राफेल विवाद से वायु सेना की छवि पर असर नहीं पड़ेगा: नांबियार

19 Nov 2018 | 11:00 PM

गुवाहाटी 19 नवंबर (वार्ता) वायु सेना के उप प्रमुख एयर मार्शल रघुनाथ नांबियार ने सोमवार को कहा कि लड़ाकू विमान राफेल सौदे को लेकर विवाद का असर वायु सेना की छवि पर नहीं पड़ेगा।

 Sharesee more..

प्रेमी युगल ने की आत्महत्या

19 Nov 2018 | 10:42 PM

 Sharesee more..

19 Nov 2018 | 10:36 PM

 Sharesee more..
image